Image Loading
सोमवार, 27 फरवरी, 2017 | 23:31 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • रेलवे स्टेशनों पर स्टॉल के ठेके में लागू होगा आरक्षण, ये होंगे नए नियम
  • मेरठ में पीएनबी के एटीएम से निकला 2000 रुपये का नकली नोट, RBI मुख्यालय को भेजी गई पूरी...
  • यूपी चुनाव: पांचवें चरण में पांच बजे तक लगभग 57.36 प्रतिशत हुआ मतदान
  • गोरखपुर की रैली मे राहुल गांधी बोले, उत्तर-प्रदेश को बदलने के लिए हुई अखिलेश से...
  • गोरखपुर की रैली मे अखिलेश यादव ने कहा, ये कुनबों का नहीं बल्कि दो युवा नेताओं का...
  • रिलायंस Jio को टक्कर देने के लिए Airtel ने किया रोमिंग फ्री का ऐलान
  • यूपी चुनाव: पांचवें चरण में 3 बजे तक 49.19 फीसदी वोटिंग, पढ़ें पूरी खबर
  • चुनाव प्रचार के लिए जेल से बहार नहीं जा पाएंगे बसपा नेता मुख्तार अंसारी। दिल्ली...

महिलाओं के लिए सबसे सुरक्षित राज्य है बिहार!

पटना, एजेंसी First Published:27-12-2012 10:09:14 AMLast Updated:27-12-2012 10:17:38 AM
महिलाओं के लिए सबसे सुरक्षित राज्य है बिहार!

दिल्ली में चलती बस में युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना के बाद महिलाओं के साथ ज्यादती के खिलाफ कड़े कानून बनाने और दुष्कर्मियों को फांसी की सजा देने को लेकर नए सिरे से बहस शुरू हो गई है। वहीं आंकड़ें बताते हैं कि देश में अन्य राज्यों की तुलना में बिहार महिलाओं के लिए ज्यादा सुरक्षित है।

नेशनल क्राइम ब्यूरो रिकॉर्ड के अनुसार वर्ष 2011 में दुष्कर्म के मामले में देश में बिहार का 11वां स्थान है, जहां पूरे देश के दुष्कर्म के 3.9 प्रतिशत मामले दर्ज किए गए। आंकड़ों के अनुसार देश में दुष्कर्म के सर्वाधिक 14 फीसदी मामले मध्य प्रदेश में दर्ज किए गए। पिछले वर्ष बिहार में जहां दुष्कर्म के 934 मामले दर्ज हुए, वहीं मध्य प्रदेश में 3,406 मामले दर्ज किए गए।

बिहार राज्य पुलिस मुख्यालय के आंकड़ों के अनुसार इस वर्ष अक्टूबर तक बिहार के विभिन्न थानों में महिलाओं के साथ दुष्कर्म के 823 मामले दर्ज किए गए, जबकि वर्ष 2011 में यह आंकड़ा 934 था। इसी तरह वर्ष 2010 में 795 और 2009 में दुष्कर्म के 929 मामले दर्ज हुए थे।

पिछले 12 वर्षो के आंकड़ों पर गौर किया जाए तो राज्य में सर्वाधिक 1,122 दुष्कर्म के मामले वर्ष 2007 में दर्ज किए गए थे। वर्ष 2008 में यह आंकड़ा गिरकर 1,041 तक पहुंच गया था।

भले ही बिहार में आंकड़े इस बात की गवाही दे रहे हों कि बिहार आमतौर पर अन्य कई राज्यों से महिलाओं के लिए सुरक्षित हैं, परंतु विपक्षी दल इससे अलग विचार रखते हैं।

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के महासचिव एवं सांसद रामकृपाल यादव कहते हैं कि बिहार के इस कथित सुशासन राज्य में महिलाएं किसी भी स्थिति में सुरक्षित नहीं हैं। यादव कहते हैं कि कई मामलों में तो पीड़िता थाने तक ही नहीं पहुंच पाती, जबकि कुछ मामले थानों में दर्ज ही नहीं होते। उन्होंने आरोप लगाया है कि वर्तमान सरकार केवल आंकड़ों का खेल, खेल रही है।

लेकिन सत्ता पक्ष इससे सहमत नहीं है। सत्तारुढ़ गठबंधन के घटक, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रवक्ता संजय मयूख कहते हैं कि राज्य में महिलाओं की सुरक्षा का पूरा ख्याल रखा जाता है। संजय कहते हैं कि सभी जिलों में महिला थाने स्थापित किए गए हैं, जबकि गया में 2010 में जापानी महिला पर्यटक के साथ सामूहिक दुष्कर्म के मामले में फास्ट ट्रैक कोर्ट द्वारा 30 दिनों के अंदर ही दुष्कर्मियों को सजा दिलवाकर पूरे देश के सामने नजीर पेश की गई थी।

इधर, पुलिस का कहना है कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए विशेष प्रयास किए जा रहे हैं। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी कहते हैं कि दुष्कर्म के कई मामले फास्ट ट्रैक कोर्ट में चल रहे हैं, जबकि पूरे राज्य में वाहनों के काले शीशे हटाने का अभियान चलाया जा रहा है।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड