Image Loading
शुक्रवार, 27 मई, 2016 | 10:03 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • सेंसेक्स 140 अंक उछला, निफ्टी हुआ 8100 के पार
  • बिहार: मनोरमा देवी की जमानत याचिका खारिज, टीवी रिपोर्ट्स
  • नासिक में आज सुबह भूमाता ब्रिगेड की प्रमुख तृप्ति देसाई पर हमला, अस्पताल में...
  • राजस्थान के राजसमंद में सड़क हादसा, 11 लोगों की मौत
  • देहरादून में मौसम का हालः आसमान में धुंध छाई रहेगी, गर्मी से राहत नहीं, न्यूनतम...
  • रांची में मौसम का हालः आसमान में धुंध छाई रहेगी, न्यूनतम तापमान 22 डिग्री, अधिकतम...
  • पटना में मौसम का हालः गर्मी से राहत नहीं, न्यूनतम तापमान 27 डिग्री, अधिकतम तापमान 39...
  • लखनऊ में मौसम का हालः बादल छाए रहेंगे, उमस रहेगी, न्यूनतम तापमान 26 डिग्री, अधिकतम...
  • दिल्ली में मौसम का हालः न्यूनतम तापमान 31 डिग्री सेल्सियस, अधिकतम 42 डिग्री...
  • आज 41 मंत्रियों के साथ पश्चिम बंगाल के सीएम पद की शपथ लेंगी ममता बनर्जी
  • जम्मू-कश्मीर के बारामूला में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ जारी

महिलाओं के लिए सबसे सुरक्षित राज्य है बिहार!

पटना, एजेंसी First Published:27-12-2012 10:09:14 AMLast Updated:27-12-2012 10:17:38 AM
महिलाओं के लिए सबसे सुरक्षित राज्य है बिहार!

दिल्ली में चलती बस में युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना के बाद महिलाओं के साथ ज्यादती के खिलाफ कड़े कानून बनाने और दुष्कर्मियों को फांसी की सजा देने को लेकर नए सिरे से बहस शुरू हो गई है। वहीं आंकड़ें बताते हैं कि देश में अन्य राज्यों की तुलना में बिहार महिलाओं के लिए ज्यादा सुरक्षित है।

नेशनल क्राइम ब्यूरो रिकॉर्ड के अनुसार वर्ष 2011 में दुष्कर्म के मामले में देश में बिहार का 11वां स्थान है, जहां पूरे देश के दुष्कर्म के 3.9 प्रतिशत मामले दर्ज किए गए। आंकड़ों के अनुसार देश में दुष्कर्म के सर्वाधिक 14 फीसदी मामले मध्य प्रदेश में दर्ज किए गए। पिछले वर्ष बिहार में जहां दुष्कर्म के 934 मामले दर्ज हुए, वहीं मध्य प्रदेश में 3,406 मामले दर्ज किए गए।

बिहार राज्य पुलिस मुख्यालय के आंकड़ों के अनुसार इस वर्ष अक्टूबर तक बिहार के विभिन्न थानों में महिलाओं के साथ दुष्कर्म के 823 मामले दर्ज किए गए, जबकि वर्ष 2011 में यह आंकड़ा 934 था। इसी तरह वर्ष 2010 में 795 और 2009 में दुष्कर्म के 929 मामले दर्ज हुए थे।

पिछले 12 वर्षो के आंकड़ों पर गौर किया जाए तो राज्य में सर्वाधिक 1,122 दुष्कर्म के मामले वर्ष 2007 में दर्ज किए गए थे। वर्ष 2008 में यह आंकड़ा गिरकर 1,041 तक पहुंच गया था। 

भले ही बिहार में आंकड़े इस बात की गवाही दे रहे हों कि बिहार आमतौर पर अन्य कई राज्यों से महिलाओं के लिए सुरक्षित हैं, परंतु विपक्षी दल इससे अलग विचार रखते हैं।

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के महासचिव एवं सांसद रामकृपाल यादव कहते हैं कि बिहार के इस कथित सुशासन राज्य में महिलाएं किसी भी स्थिति में सुरक्षित नहीं हैं। यादव कहते हैं कि कई मामलों में तो पीड़िता थाने तक ही नहीं पहुंच पाती, जबकि कुछ मामले थानों में दर्ज ही नहीं होते। उन्होंने आरोप लगाया है कि वर्तमान सरकार केवल आंकड़ों का खेल, खेल रही है।

लेकिन सत्ता पक्ष इससे सहमत नहीं है। सत्तारुढ़ गठबंधन के घटक, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रवक्ता संजय मयूख कहते हैं कि राज्य में महिलाओं की सुरक्षा का पूरा ख्याल रखा जाता है। संजय कहते हैं कि सभी जिलों में महिला थाने स्थापित किए गए हैं, जबकि गया में 2010 में जापानी महिला पर्यटक के साथ सामूहिक दुष्कर्म के मामले में फास्ट ट्रैक कोर्ट द्वारा 30 दिनों के अंदर ही दुष्कर्मियों को सजा दिलवाकर पूरे देश के सामने नजीर पेश की गई थी।

इधर, पुलिस का कहना है कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए विशेष प्रयास किए जा रहे हैं। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी कहते हैं कि दुष्कर्म के कई मामले फास्ट ट्रैक कोर्ट में चल रहे हैं, जबकि पूरे राज्य में वाहनों के काले शीशे हटाने का अभियान चलाया जा रहा है।

 

 
 
 
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
Bihar Board Result 2016
Assembely Election Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
बांगड़ होंगे जिम्बाब्वे सीरीज के लिए भारतीय टीम के कोचबांगड़ होंगे जिम्बाब्वे सीरीज के लिए भारतीय टीम के कोच
भारत और रेलवे के पूर्व आल राउंडर संजय बांगड़ को राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के आगामी जिम्बाब्वे दौरे के लिए गुरुवार को कोच नियुक्त किया गया जबकि भरत अरुण और आर श्रीधर को सहयोगी स्टाफ में कोई जगह नहीं दी गई।