Image Loading
गुरुवार, 29 सितम्बर, 2016 | 10:31 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • करीना कपूर ने किया अपने बारे में एक बड़ा खुलासा, इसके अलावा पढ़ें बॉलीवुड जगत की...
  • बाजार अपडेटः 168 अंकों की तेजी के साथ खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स 28,454 पर। निफ्टी भी 47...
  • पुजारा को लेकर अलग-अलग है कोच कुंबले और कोहली की सोच, इसके अलावा पढ़ें क्रिकेट और...
  • कर्क राशि वालों का आज का दिन भाग्यशाली साबित होगा, जानिए आपके सितारे क्या कह रहे...
  • वेटर, बस कंडक्टर से बने सुपरस्टार, क्या आपमें है ऐसा कॉन्फिडेंस? पढ़ें ये सक्सेस...
  • सवालों के घेरे में सीबीआई, रेल कर्मचारियों को सरकार का बड़ा तोहफा, सुबह की 5 खास...

मोदी के खिलाफ टिप्पणियां अनुचित: सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:02-01-2013 08:33:55 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
मोदी के खिलाफ टिप्पणियां अनुचित: सुप्रीम कोर्ट

उच्चतम न्यायालय ने बुधवार को कहा कि न्यायाधीशों को किसी भी व्यक्ति के खिलाफ कठोर और असंयमित भाषा का इस्तेमाल और अपमानजनक टिप्पणियां नहीं करनी चाहिए। न्यायालय ने कहा कि न्यायाधीशों को शालीनता और संयम से काम लेना चाहिए।

न्यायमूर्ति बी एस चौहान और न्यायमूर्ति एफ एम इब्राहिम कलीफुल्ला की खंडपीठ ने कहा कि न्यायाधीशों को कठोर और असंयमित भाषा का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, बल्कि उन्हें शालीनता और संयम का परिचय देना चाहिए, क्योंकि किसी भी व्यक्ति के खिलाफ उनकी कठोर और अपमानजनक टिप्पणियों को गलत और अनुचित तरीके से लिया जा सकता है और ऐसी स्थिति में वे अच्छाई की बजाय अधिक नुकसान करते हैं, जिससे अन्याय हो जाता है।

न्यायाधीशों ने गुजरात में लोकायुक्त की नियुक्ति के मामले में उच्च न्यायालय द्वारा मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी के बारे में की गयी टिप्पणियों पर आपत्ति करते हुये यह टिप्पणी की।

शीर्ष अदालत ने कहा कि उच्च न्यायालय को संयम से काम लेना चाहिए था और सांवैधानिक प्राधिकारी के बारे में ऐसी टिप्पणियां नहीं करनी चाहिए थीं। उच्च न्यायालय ने कहा था कि मोदी ने लोकायुक्त की नियुक्ति के मामले में लघु सांवैधानिक संकट पैदा कर दिया था।

न्यायाधीशों ने कहा कि अदालतों को किसी भी व्यक्ति के खिलाफ अनावश्यक और अपमानजनक टिप्पणियां उस समय तक नहीं करनी चाहिए जब तक किसी मसले के निर्णय के दौरान ऐसा करना जरूरी नहीं हो। अदालतों को असंयमित भाषा का प्रयोग नहीं करना चाहिए और हमेशा ही न्यायिक मर्यादा बनाये रखना चाहिए।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड