Image Loading
मंगलवार, 17 जनवरी, 2017 | 14:19 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • पंजाब विधानसभा चुनावः कांग्रेस नेता कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने पटियाला से...
  • बसपा से निष्कासित विधायक अमर पाल शर्मा कांग्रेस में हुए शामिल।
  • 2nd ODI: शादी के कारण टीम इंडिया को नहीं मिला होटल, पुणे में ही कर रही है प्रैक्टिस
  • शीला दीक्षित ने कहा, अगर कांग्रेस और सपा में गठबंधन होता है तो मैं मुख्यमंत्री...
  • यूपी में पहले चरण की 73 सीटों के लिए नामांकन प्रक्रिया आज से शुरू
  • शेयर बाजारः शुरुआती कारोबार में तेजी, 83 अंकों की बढ़त के साथ सेंसेक्स 27371 पर,...
  • पढ़ें पूर्व आईपीएस अधिकारी विभूति नारायण राय का ब्लॉग- रोटी, छुट्टी और चिट्ठी से...
  • मौसम अलर्टः बर्फीली हवाओं के कारण गिरा दिल्ली-NCR का पारा, न्यूनतम तापमान 5 डिग्री,...
  • राशिफलः मीन राशिवालों के पैतृक कारोबार का विस्तार हो सकता है, यात्रा लाभप्रद...
  • हल्दी-तेल का करेंगे इस्तेमाल तो इन 5 बीमारियों से रह सकते हैं दूर
  • GOOD MORNING: अखिलेश को सपा और 'साइकिल' दोनों मिली, ATM से नकद निकासी की सीमा बढ़ी।...

मंगल पर जलमयी चट्टानों का आवरण

वाशिंगटन, एजेंसी First Published:21-12-2012 08:33:29 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
मंगल पर जलमयी चट्टानों का आवरण

जब किसी स्थान पर लम्बे समय तक पानी उपस्थित रहता है तो वहां गिली मिट्टी के खनिज और चट्टानें आमतौर पर बनती हैं, और मंगल ग्रह का एक विशाल हिस्सा गिली मिट्टी और चट्टानों से ढका हुआ है। यह हिस्सा पूर्व अनुमानित हिस्से से अधिक है।

जॉर्जिया इंस्टीट्य़ूट ऑफ टेक्नॉलॉजी में सहायक प्रोफेसर जेम्स व्रे तथा उनकी टीम ने कहा है कि अपॉर्चुनिटी अंतरिक्ष यान द्वारा अध्ययन की गई कुछ चट्टानों में गिली मिट्टी पाई गई थी। अपॉर्चुनिटी 2004 में मंगल पर ईगल क्रेटर में पहुंचा था।

जियोफिजिकल रिसर्च लेटर्स पत्रिका ने कहा है कि यह अंतरिक्ष यान केवल एसिडिक सल्फेट का ही पता लगा पाया था और वहां से लगभग 22 मील दूर एंडेवर क्रेटर पहुंचा था, उस इलाके में जहां व्रे ने 2009 में गिली मिट्टी होने का अंदेशा जताया था।

इस परियोजना का नेतृत्व जॉर्जिया के ग्रह विज्ञान संस्थान के एल्डेर नोए डॉब्रिया ने किया है और उन्होंने एक स्पेक्ट्रोस्कोपिक विेषण के जरिए गीली मिट्टी के खनिजों की पहचान की है।

जॉर्जिया इंस्टीटय़ूट की ओर से जारी एक बयान के अनुसार, अनुसंधानकर्ताओं ने बताया है कि मेरिदियानी के मैदानों में भी गीली मिट्टी मौजूद है और अपॉर्चुनिटी ने जब अपने मौजूदा स्थान की ओर प्रस्थान किया था, तो उस दौरान वह इस गीली मिट्टी के हिस्से से होकर गुजरा था।

व्रे ने कहा है, ''खोज के दौरान अपॉर्चुनिटी द्वारा गीली मिट्टी का पता न लगा पाना कोई आश्चर्यजनक नहीं है। हमें इस अंतरिक्ष यान के मंगल पर पहुंचने से पहले तक गीली मिट्टी के वहां होने के बारे में पता नहीं था।''

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड