Image Loading
गुरुवार, 29 सितम्बर, 2016 | 15:39 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • सेना की सर्जिकल स्ट्राइक पर बोले केजरीवाल, 'भारत माता की जय'
  • वाघा बार्डर पर बीटिंग रिट्रीट रद्द की गई। (ANI)
  • पाक नहीं मान रहा था इसलिए पीएम नरेंद्र मोदी ने देर रात लिया हमले का फैसला।
  • उरी हमले का बदलाः हेलीकॉप्टर से LOC पारकर भारतीय सेना ने किया हमला, कई आतंकी...
  • भारतीय सेना ने LOC पारकर भीमबेर, केल, लिपा और हॉटस्प्रिंग सेक्टर में घुसकर आतंकी...
  • पीएम मोदी ने शाम 4 बजे सर्वदलीय बैठक बुलाई, पाकिस्तान से तनाव को लेकर होगी और...
  • भारतीय सेना की सर्जिकल स्ट्राइक की खबर के बाद सेंसेक्स में 555 अंकों और निफ्टी में...
  • पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने हमले की निंदा की। कहा, हम अपने देश की...
  • भारत ने कल पाकिस्तान से लगे एलओसी में किया सर्जिकल स्ट्राइक, लांचिंग पैड को...
  • डीजीएमओ रणबीर सिंह की प्रेस कांफ्रेंस: एलओसी पर एक महीने में पाकिस्तान की ओर से 20...
  • मोस्ट फेवर्ड नेशन (MFN) दर्जे पर होने वाली पीएम की समीक्षा बैठक टली, अगले हफ्ते होगी...
  • यूपी: सोनभद्र में रिहंद बांध के 11 दरवाजे खोले गए, निचले इलाके में रहने वाले...
  • करीना कपूर ने किया अपने बारे में एक बड़ा खुलासा, इसके अलावा पढ़ें बॉलीवुड जगत की...
  • बाजार अपडेटः 168 अंकों की तेजी के साथ खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स 28,454 पर। निफ्टी भी 47...
  • पुजारा को लेकर अलग-अलग है कोच कुंबले और कोहली की सोच, इसके अलावा पढ़ें क्रिकेट और...
  • कर्क राशि वालों का आज का दिन भाग्यशाली साबित होगा, जानिए आपके सितारे क्या कह रहे...
  • वेटर, बस कंडक्टर से बने सुपरस्टार, क्या आपमें है ऐसा कॉन्फिडेंस? पढ़ें ये सक्सेस...
  • सवालों के घेरे में सीबीआई, रेल कर्मचारियों को सरकार का बड़ा तोहफा, सुबह की 5 खास...

मालदीव हवाईअड्डे पर मालदीव की सरकारी कंपनी ने कब्जा किया

माले, एजेंसी First Published:08-12-2012 08:43:23 PMLast Updated:08-12-2012 11:34:46 PM
मालदीव हवाईअड्डे पर मालदीव की सरकारी कंपनी ने कब्जा किया

माले अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे का परिचालन भारतीय कंपनी जीएमआर को सौंपने के दो साल बाद एक बार फिर मालदीव की सरकारी कंपनी एमएसीएल ने शनिवार को इसका जिम्मा संभाल लिया।

मालदीव एयरपोर्ट कंपनी लिमिटेड (एमएसीएल) ने जीएमआर से परिचालन का अधिग्रहण किया है। तत्कालीन नशीद सरकार ने जीएमआर को इब्राहीम नासिर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे के निर्माण व परिचालन का 51.1 करोड डॉलर का अनुबंध 25 साल के लिए दिया था।

मालदीव की नई सरकार ने 27 नवंबर को अचानक भारतीय कंपनी का अनुबंध रद्द कर दिया और उसे एमएसीएल को हवाईअड्डे का परिचालन सौंपने के लिए सात दिसंबर तक का वक्त दिया गया। इस फैसले ने भारत को चौंका दिया।

मालदीव के राष्ट्रपति मोहम्मद वहीद के प्रेस सचिव मसूद इमाद ने कहा कि हवाईअड्डे का परिचालन अब एमएसीएल कर रहा है। सुपुर्दगी आसानी और बिना किसी मुश्किल के हुई। हालांकि यहां छपी खबरों के मुताबिक जीएमआर के अधिकारी यहां कल देर रात हुए सुपुर्दगी समारोह में मौजूद नहीं थे।

इमाद ने कहा कि तीन महीने की परिवर्तन अवधि में जीएमआर और एमएसीएल मिलकर काम करेंगे। उन्होंने किसी की नौकरी जाने या कर्मचारियों के प्रति कोई दुर्भावना की आशंका को खारिज किया। इमाद ने कहा हवाईअड्डे के सभी कर्मचारी जो जीएमआर के छोड़ जाने के बाद काम करना चाहते हैं उन्हें एमएसीएल रखेगी।

इनमें भारतीय कर्मचारी भी शामिल होंगे। फिलहाल 1,663 कर्मचारी काम कर रहे हैं जिनमें 110 भारतीय कर्मचारी हैं। मालदीव के रक्षा मंत्री और कार्यवाहक परिवहन मंत्री मोहम्मद नाजिम ने इस समारोह में कहा कि एमएसीएल के प्रबंधन में भारी फेर-बदल होगा।

यहां के समचारपत्र हवीरू में उनके हवाले से कहा मैं कहना चाहूंगा कि हम एमएसीएल के प्रबंधन का पुनर्गठन करेंगे और कंपनी को और मजबूत करेंगे।
उन्होंने कहा हम यह स्वीकार करते हैं कि जीएमआर ने हवाईअड्डे के विकास के लिए काम किया था। हम इसके लिए जीएमआर का धन्यवाद करते हैं।

हवाईअड्डे को मालदीव की कंपनी द्वारा अपने अधिकार क्षेत्र में लेने का काम सिंगापुर के उच्चतम न्यायालय के मालदीव के पक्ष में फैसला देने के एक दिन बाद हुआ। इस फैसले में कहा गया मालदीव सरकार के पास वह सब करने का अधिकार है जो वह चाहती है जिसमें मालिकाना हक लेना भी शामिल है।

इससे जीएमआर को बड़ा झटका लगा। इससे पहले सिंगापुर उच्च न्यायालय ने कंपनी को अस्थाई राहत देते हुए अनुबंध रद्द करने पर स्थगन आदेश जारी किया था।
इस विवादास्पद मामले में कानूनी और कूटनीतिक संबंध के तौर पर कई मोड़ आए जबकि भारत ने अनुबंध रद्द करने के एकतरफा फैसले पर कड़ी नाराजगी जाहिर की और मालदीव से कहा है कि इस पहल का द्विपक्षीय संबंधों पर गलत असर होगा।

जीएमआर के नेतृत्व वाले कंसोर्टियम को 2010 में हवाईअड्डे के निर्माण और परिचालन का अधिकार हासिल हुआ था। समझौते पर मोहम्मद नशीद के नेतृत्व वाली तत्कालीन सरकार के कार्यकाल में हस्ताक्षर किए गए थे। लेकिन फरवरी में सत्तापरिवर्तन के बाद जीएमआर के सामने मुश्किल पेश आने लगी।

राष्ट्रपति मोहम्मद वहीद की अध्यक्षता वाली मौजूदा सरकार ने कहा कि इस अनुबंध पर हस्ताक्षर संदेहास्पद स्थिति में किया गए और यह अवैध है हालांकि भारतीय कंपनी ने इसका पुरजोर विरोध किया। मालदीव की सरकार पर उसके सहयोगी दलों का दबाव है।

सत्तारुढ़ गठबंधन के कुछ दक्षिण पंथी सहयोगी दलों ने माले में कई जीएमआर विरोधी रैलियां निकालीं।
हिंद महासागर में स्थित इस द्वीपसमूह में आयोजित रैलियों के दौरान भारत विरोधी बयान भी आए। जीएमआर के हवाईअड्डा कारोबार खंड में माले हवाईअड्डा सबसे अधिक मुनाफे वाला कारोबार रहा।

कंपनी ने अब तक माले हवाईअड्डे के प्रबंधन और सुविधाओं को बेहतर बनाने के लिए करीब 25 करोड़ डॉलर का निवेश किया है। भारत के दक्षिण पश्चिमी कोने की तरफ हुलहुले द्वीप स्थित मालदीव का इब्राहिम नासिर अंतरराष्ट्रीय हवाईअडडा क्षेत्र के सबसे अधिक तेजी से विकसित होता हवाईअड्डा है।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड