Image Loading नई औद्योगिक नीति में है मानवीय चेहरा: चव्हाण - LiveHindustan.com
गुरुवार, 05 मई, 2016 | 19:46 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के छठे और अंतिम चरण में 84.24 प्रतिशत मतदान: निर्वाचन...
  • यूपी बोर्ड का हाईस्कूल व इंटरमीडिएट रिजल्ट 15 मई को आएगा।
  • अन्नाद्रमुक ने स्कूटर मोपेड खरीदने के लिए महिलाओं को 50 प्रतिशत सब्सिडी देने,...
  • अन्नाद्रमुक ने तमिलनाडु विधानसभा चुनाव के लिए अपने घोषणापत्र में सब के लिए 100...
  • तमिलनाडुः अन्नाद्रमुक ने सभी राशन कार्ड धारकों को मुफ्त मोबाइल फोन देने का...
  • मध्यप्रदेश: सिंहस्थ कुंभ में तेज बारिश और आंधी से गिरे पांडाल, 4 की मौत
  • अगस्ता वेस्टलैंड मामला: पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी के तीनों करीबी...
  • सेंसेक्स 160.48 अंक की बढ़त के साथ 25,262.21 और निफ्टी 28.95 अंक चढ़कर 7,735.50 पर बंद
  • वाईस एडमिरल सुनील लांबा होंगे नौसेना के अगले प्रमुख, 31 मई को संभालेंगे पद
  • यूपी सरकार ने केंद्र सरकार से बुंदेलखंड के लिए पानी के टैंकर मांगें-टीवी...
  • स्टिंग ऑपरेशन: हरीश रावत को सीबीआई ने सोमवार को पूछताछ के लिए बुलाया: टीवी...
  • नोएडा: स्कूल बसों और ऑटो की टक्कर में इंजीनियर लड़की समेत 2 की मौत। क्लिक करें

नई औद्योगिक नीति में है मानवीय चेहरा: चव्हाण

नागपुर, एजेंसी First Published:05-01-2013 03:14:28 PMLast Updated:05-01-2013 03:25:08 PM
नई औद्योगिक नीति में है मानवीय चेहरा: चव्हाण

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा है कि राज्य की नई औद्योगिक नीति मानवीय चेहरे के साथ लाई गई है। इसमें औद्योगिक क्षेत्रों के आसपास रहने वाले लोगों के जीवनस्तर सुधारने पर ध्यान दिया गया है।
  
चव्हाण ने इन आलोचनाओं को खारिज कर दिया कि यह नीति रीयल्टी कंपनियों के पक्ष में है। हालांकि, उन्होंने कहा कि जरूरत होने पर सरकार इसमें बदलाव के लिए तैयार है।
   
राज्य सरकार की इसी सप्ताह पेश नीति में एकीकृत औद्योगिक क्षेत्र (आईआईए) की अवधारणा पेश की गई है। इस प्रावधान के तहत ऐसी सेज परियोजनाओं जिनकी अधिसूचना रद्द कर दी गई है, के डेवलपर्स 40 फीसदी भूमि का इस्तेमाल आवासीय तथा व्यावसायिक उद्देश्य के लिये कर सकते हैं। नई योजना के तहत ऐसे एकीकृत क्षेत्रों के लिये 27,000 हेक्टेयर जमीन उपलब्ध होगी।
  
मुख्यमंत्री ने कल रात संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि यदि इन नए प्रावधानों के बावजूद डेवलपर्स विशेष आर्थिक क्षेत्र (सेज) से पीछे हटते हैं, तो सरकार कुछ नहीं कर सकती।  
  
उन्होंने कहा कि इस नीति का मानवीय चेहरा है और इसका मकसद औद्यागिक श्रमिकों के जीवन स्तर को सुधारना है। उन्होंने कहा कि अभी तक हम सिर्फ रोजगार सृजन की बात करते हैं, जबकि श्रमिकों को औद्योगिक क्षेत्र के आसपास स्लम में रहना पड़ता है।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
 
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट