Image Loading
शुक्रवार, 27 मई, 2016 | 19:47 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल 9: सनराइजर्स हैदराबाद ने टॉस जीता, पहले फील्डिंग का फैसला
  • सीबीएसई दसवीं क्लास का रिजल्ट कल दोपहर 2 बजे घोषित होगा
  • गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, जिस दिन जीएसटी बिल पास होगा, हमारी विकास दर 1.5 से 2...
  • यूपी: स्पेन में बनी टेल्गो ट्रेन का ट्रायल रन बरेली और भोजीपुरा रेल रूट पर हुआ
  • इशरत जहां से जुड़ी फाइलें नहीं मिलीं, गृह मंत्रालय से कुछ फाइलें गायब हुईं थीं,...
  • सीबीआई ने NCERT के अंडर सेक्रेटरी हरीराम को रिश्वत लेते रंगे हाथो गिरफ्तार किया: ANI
  • केन्द्र सरकार के संस्कृति मंत्रालय ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस से जुड़ी 25 और...
  • हरियाणा सरकार ने की घोषणा, पीपली बस ब्लास्ट शामिल लोगों के बारे में सूचना देने...
  • 286 अंक चढ़ा सेंसेक्स, 26,653.60 पर हुआ बंद
  • विशेषज्ञ समिति ने नई शिक्षा नीति का मसौदा मानव संसाधन मंत्रालय को सौंपा
  • उत्तर प्रदेश में सीएम कैंडिडेट के नाम पर शाह बोले, जनता तय करेगी कौन होगा उनका...
  • NEET: सुप्रीम कोर्ट का केंद्र सरकार द्वारा लाये गए अध्यादेश पर रोक लगाने से इनकार।

अमरनाथ को ऐसी टिप्पणी नहीं करनी चाहिए थी: मोरे

मुंबई, एजेंसी First Published:13-12-2012 05:45:38 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
अमरनाथ को ऐसी टिप्पणी नहीं करनी चाहिए थी: मोरे

पूर्व राष्ट्रीय चयनन समिति अध्यक्ष किरण मोरे को लगता है कि मोहिंदर अमरनाथ का चयन मामलों में बीसीसीआई अध्यक्ष के हस्तक्षेप का खुलासा करना ठीक नहीं था।
मोरे ने कहा कि मुझे लगता है कि यह बहुत गोपनीय क्षेत्र होता है। जब आप चयनकर्ता बनते हो, आपको जानना चाहिए कि बीसीसीआई के नियम और इसका संविधान क्या है। मैं अमरनाथ से सहमत नहीं हूं और यह भारतीय क्रिकेट के लिए अच्छा नहीं है। टीम चयन वाला कमरा बहुत गोपनीय होता है और इससे बाहर कुछ नहीं आना चाहिए।

उन्होंने कहा कि मुझे बहुत बुरा लग रहा है। यह भारतीय क्रिकेट के लिए दुखद है। यह सही नहीं है। बतौर क्रिकेटर मुझे लगता है कि आपके एक खिलाड़ी के खिलाफ जो भी मुद्दे हों, वे कमरे के भीतर (खुद तक) ही सीमित रहने चाहिए। मोरे ने पत्रकारों से कहा कि आप अपनी रिपोर्ट बोर्ड को लिख सकते हो, लेकिन मीडिया के सामने यह बताना और कहना कि उसे बाहर किया जाना चाहिए था या नहीं, यह ठीक नहीं है। इसे बैठक कमरे के भीतर ही रहना चाहिए था।

पूर्व राष्ट्रीय चयनकर्ता अमरनाथ ने यह कहकर सनसनी फैला दी थी कि पांच सदस्यीय पैनल के तीन चयनकर्ता महेंद्र सिंह धोनी को इस साल जनवरी में बाहर करना चाहते थे लेकिन बीसीसीआई अध्यक्ष एन श्रीनिवासन ने ऐसा नहीं होने दिया।

मोरे ने कहा कि पिछली चयन समिति को नई टीम बनाने पर ध्यान लगाना चाहिए था। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि हमें 2011 के बाद ज्यादा काम करना चाहिए था। विश्व कप जीतने के बाद अच्छी टीम तैयार करने की प्रक्रिया शुरू हो जानी चाहिए थी। मुझे सिर्फ इसी पर सवालिया निशान लगाना है। इस पूर्व विकेटकीपर ने कहा कि नई चयन समिति सिर्फ एक महीने पहले बनी है। हमें उन्हें समय देना चाहिए। वे काफी दबाव में हैं। हमें आगे देखना होगा और अच्छी टीम बनाने की प्रक्रिया पर ध्यान देना होगा। भले दो वर्ष खराब रहे हों, लेकिन हमारे पास काफी प्रतिभाशाली क्रिकेटर हैं जो देश का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि नई चयन समिति को कड़ी मेहनत करनी होगी और भविष्य के लिए अच्छी टेस्ट टीम बनानी होगी। मुझे लगता है कि टेस्ट टीम एक या डेढ़ साल तक जूझेगी। वनडे और टी20 में हम अच्छा करेंगे। मोरे ने धौनी का भी बचाव किया और कहा कि उसमें खेल के सभी प्रारूपों में खेलने के लिए काफी क्रिकेट बचा है। इस पूर्व क्रिकेटर ने कहा कि धौनी में अभी काफी क्रिकेट बचा है। वह शानदार क्रिकेटर है। पूरी टीम ही अच्छा नहीं कर रही है। बतौर खिलाड़ी क्रिकेट के सभी प्रारूपों में खेलने के लिए वह काफी अच्छा है।

 
 
 
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
Bihar Board Result 2016
Assembely Election Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
PAK गेंदबाज अकरम बोले, PAK गेंदबाज अकरम बोले, 'अगर कोहली को करनी पड़ती गेंदबाजी तो...'
अपने समय में बल्लेबाजों के लिए खौफ माने जाने वाले पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज वसीम अकरम का मानना है कि अगर उन्हें विराट कोहली को गेंदबाजी करनी होती तो उन्हें इसकी चिंता रहती।