Image Loading
गुरुवार, 29 सितम्बर, 2016 | 12:13 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • मोस्ट फेवर्ड नेशन (MFN) दर्जे पर होने वाली पीएम की समीक्षा बैठक टली, अगले हफ्ते होगी...
  • यूपी: सोनभद्र में रिहंद बांध के 11 दरवाजे खोले गए, निचले इलाके में रहने वाले...
  • करीना कपूर ने किया अपने बारे में एक बड़ा खुलासा, इसके अलावा पढ़ें बॉलीवुड जगत की...
  • बाजार अपडेटः 168 अंकों की तेजी के साथ खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स 28,454 पर। निफ्टी भी 47...
  • पुजारा को लेकर अलग-अलग है कोच कुंबले और कोहली की सोच, इसके अलावा पढ़ें क्रिकेट और...
  • कर्क राशि वालों का आज का दिन भाग्यशाली साबित होगा, जानिए आपके सितारे क्या कह रहे...
  • वेटर, बस कंडक्टर से बने सुपरस्टार, क्या आपमें है ऐसा कॉन्फिडेंस? पढ़ें ये सक्सेस...
  • सवालों के घेरे में सीबीआई, रेल कर्मचारियों को सरकार का बड़ा तोहफा, सुबह की 5 खास...

झारखंड के मुख्यमंत्री का इस्तीफा, राष्ट्रपति शासन के आसार

रांची, एजेंसी First Published:08-01-2013 02:01:55 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
झारखंड के मुख्यमंत्री का इस्तीफा, राष्ट्रपति शासन के आसार

झारखंड के मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा ने उनकी सरकार से सहयोगी झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के समर्थन वापस लेने के बाद आज राज्यपाल सैयद अहमद से भेंटकर अपना इस्तीफा सौंप दिया और इसके साथ ही उन्हें विधानसभा भंग करने की सिफारिश करने के राज्य मंत्रिमंडल के फैसले से अवगत कराया।

मुंडा ने राजभवन में राज्यपाल से भेंट के बाद संवाददाताओं से कहा कि मैंने राज्यपाल को विधानसभा भंग करने की सिफारिश करने के अपने फैसले से अवगत करा दिया और इसके साथ ही उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दिया।

उन्होंने कहा कि हमने लगभग दो साल तक राज्य में स्थिर सरकार चलायी, लेकिन अब जब अस्थिरता के आसार नजर आने लगे तो हमें लगा कि यह नये सिरे से जनता के पास जाने का समय है और इसलिये विधानसभा भंग करने की सिफारिश कर दी।

मुंडा ने एक सवाल के जवाब में कहा कि उनकी सरकार ने जब मंत्रिमंडल की बैठक में विधानसभा भंग करने की सिफारिश करने का फैसला किया था तब वह अल्पमत में नहीं थी। उन्होंने कहा कि औपचारिक तौर पर समर्थन वापसी के बाद ही कोई सरकार अल्पमत में आती है।

उनसे पूछा गया था कि क्षामुमो के समर्थन वापसी के बाद उनकी सरकार अल्पमत में आ गयी थी, ऐसे में राज्यपाल को विधानसभा भंग करने की सिफारिश कोई अल्पमत की सरकार कैसे कर सकती है। राज्यपाल पर अल्पमत की सरकार की सिफारिश मानने की कोई बाध्यता नहीं होती।

मुख्यमंत्री के साथ उनके सहयोगी दल आजसू के मंत्री चन्द्र प्रकाश चौधरी, जदयू के गोपाल कृष्ण पातर उर्फ राजा पीटर और भाजपा के मंत्री सत्यानंद झा एवं अन्य भाजपा विधायक भी थे।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड