Image Loading
शनिवार, 25 फरवरी, 2017 | 07:42 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • मूली खाने से होते हैं 5 फायदे, ये बीमारियां रहती हैं दूर
  • आज का हिन्दुस्तान अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें।
  • राशिफलः वृष राशिवालों के लिए बौद्धिक कार्यों से आय के स्रोत विकसित होंगे, नौकरी...
  • Good Morning: यूपी में कागजों में बना 455 करोड़ का दिल्ली-सहारनपुर हाईवे, शरीफ बोले-...

60 फीसदी महिलाएं खुले में शौच को मजबूर: रमेश

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:20-12-2012 02:48:05 PMLast Updated:20-12-2012 03:27:04 PM
60 फीसदी महिलाएं खुले में शौच को मजबूर: रमेश

केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री जयराम रमेश ने गुरुवार को लोकसभा में कहा कि देश में आज भी 60 फीसदी महिलाएं खुले में शौच को मजबूर हैं, जो बेहद शर्मनाक स्थिति है।

जयराम रमेश ने लोकसभा में प्रश्नोत्तर काल के दौरान निर्मल भारत अभियान योजना के संबंध में सदस्यों द्वारा किए गए सवालों का जवाब दिए जाने के दौरान कहा कि आज भी देश में 60 फीसदी महिलाएं खुले में शौच को मजबूर हैं जो बेहद शर्मनाक है।

उन्होंने बताया कि देश में सभी ग्राम पंचायतों को खुले में शौच की समस्या से मुक्ति दिलाने के लिए दस साल लगेंगे। उन्होंने कहा कि इस समस्या से पूरी तरह मुक्त होने वाला सिक्किम देश का पहला राज्य बन गया है। केरल इस सूची में दूसरे स्थान पर है, जबकि अप्रैल 2013 में हिमाचल प्रदेश यह सफलता हासिल करने वाला तीसरा राज्य होगा। इसके बाद हरियाणा, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश तथा कई अन्य राज्य भी इस दिशा में काफी प्रगति कर रहे हैं।

रमेश ने बताया कि वर्ष 2022 तक देश के सभी ग्राम पंचायतों को खुले में शौच की समस्या से निजात दिलाने का लक्ष्य रखा गया है।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड