Image Loading अफगान शांति प्रक्रिया में भारत का होना जरूरी: ईरान - LiveHindustan.com
शुक्रवार, 29 अप्रैल, 2016 | 23:19 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल 9: राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस ने गुजरात लायंस के सामने 196 रन का स्कोर रखा
  • अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला: सीबीआई ने पूर्व वायुसेना अध्यक्ष एस पी त्यागी को समन...
  • आईपीएल 9: गुजरात लायंस ने टॉस जीता, राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस को पहले बल्लेबाजी का...
  • बिहार के आरा में कपड़े के मॉल में धमाका, कई लोग घायल: टीवी रिपोर्ट्स
  • अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला: प्रवर्तन निदेशालय ने पूर्व सेना अध्यक्ष एस पी त्यागी...
  • क्लिक करें और पढ़ें खबर-40 हजार भारतीयों को जापान देगा नौकरी
  • पीएम की शैक्षणिक योग्यताओं के बारे में सभी आरटीआई आवेदनों का जवाब दें डीयू और...
  • मुरादाबाद: नारंगपुर गांव में किसान बोरवेल में गिरा, रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू
  • अगस्ता वेस्टलैंड पर बोले भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, देश को गुमराह कर रही है...
  • EXCLUSIVE: दुनिया के सबसे अधिक अनपढ़ पाकिस्तान में हैंः तारेक

अफगान शांति प्रक्रिया में भारत का शामिल होना जरूरी: ईरान

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:04-01-2013 06:20:34 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

अफगानिस्तान से नाटो की वापसी के बाद तालिबान के सिर उठाने संबंधी भारत की चिंताओं से सहमति जताते हुए ईरान ने शुक्रवार को कहा कि देश में जारी शांति प्रक्रिया में नई दिल्ली का शामिल रहना जरूरी है।

ईरान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार सईद जलीली ने यहां कहा कि अफगानिस्तान में शांति और स्थायित्व लाने के लिए भारत और अन्य क्षेत्रीय ताकतें मिलजुल कर काम करें।

वित्तमंत्री पी. चिदंबरम के साथ विस्तृत बातचीत के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ''भारत और पाकिस्तान जैसे देश अफगानिस्तान में स्थायित्व लाने के लिए संयुक्त रणनीति पर काम करें।''

उन्होंने कहा, ''यह चिंता की बात है कि अमेरिका और पश्चिमी देश भी पिछले 10 वर्षो में अफगानिस्तान में आतंकवाद का खात्मा करने में विफल रहे।''

अफगानिस्तान में तालिबान शासन के दौरान भारत, ईरान और रूस ने विपक्षी नर्दर्न अलायंस का समर्थन किया था। तालिबान शासन को केवल तीन देशों पाकिस्तान, सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमिरात ने मान्यता दे रखी थी।

जलीली ने चिदंबरम के साथ द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर चर्चा की। दोनों ने ईरान को कच्चे तेल का बकाया भुगतान के लिए उपयुक्त तरीका अपनाने पर भी बातचीत की।

अमेरिका और यूरोपीय देशों ने ईरान के परमाणु कार्यक्रम को लेकर उस पर प्रतिबंध लगा रखा है।

जलीली ने भारत के सुरक्षा सलाहकार शिवशंकर मेनन और विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद के साथ खाड़ी और सीरिया की स्थिति और ईरान के परमाणु मुद्दे पर चर्चा की।

उच्च शांति परिषद अफगानिस्तान के ताजा शांति प्रक्रिया में तालिबान को शामिल किए जाने के प्रयास से भारत बेहद परेशान है। अमेरिका और ब्रिटेन ने इस कदम का पूरा समर्थन किया है।

पाकिस्तान ने अफगानिस्तान पर होने वाली पेरिस बैठक में हिस्सा लेने के लिए तालिबान के कई वरिष्ठ नेताओं को रिहा किया है।

जलीली ने कहा कि अफगानिस्तान के मामलों में किसी प्रकार का विदेशी हस्तक्षेप नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा, ''अफगानिस्तान की जनता को विदेशी हस्तक्षेप के बगैर अपना भविष्य तय करने की आजादी मिलनी चाहिए।''

अफगानिस्तान की जनता पर अपनी इच्छा थोपने की आजादी किसी को भी नहीं मिलनी चाहिए। उन्होंने चेतावनी दी कि ऐसा कोई भी कदम नकारात्मक होगा।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
 
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
आईपीएल 9: पुणे ने गुजरात को 196 रन का लक्ष्य दियाआईपीएल 9: पुणे ने गुजरात को 196 रन का लक्ष्य दिया
स्टीवन स्मिथ के करियर के पहले टी20 शतक से राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस ने इंडियन प्रीमियर लीग मैच में आज यहां गुजरात लायंस के खिलाफ तीन विकेट पर 195 रन बनाए।