Image Loading
बुधवार, 28 सितम्बर, 2016 | 15:43 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • कैबिनेट का फैसला, रेलवे कर्मचारियों को मिलेगा 78 दिन का उत्पादकता बोनस: टीवी...
  • शहाबुद्दीन की जमानत रद्द करने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में कल भी सुनवाई जारी...
  • लोढ़ा पैनल ने सुप्रीम कोर्ट को कहा, बीसीसीआई हमारे सुझावों और दिशा निर्देशों का...
  • पाकिस्तानी कलाकारों फवाद, माहिरा और अली जफर के भारत छोड़ने पर बॉलीवुड सितारों...
  • टीम इंडिया में गंभीर की वापसी, भारत-न्यूजीलैंड टेस्ट के टिकट होंगे सस्ते। इसके...
  • मौसम अलर्ट: दिल्ली-NCR वालों को गर्मी से नहीं मिलेगी राहत। रांची, लखनऊ और देहरादून...
  • भविष्यफल: तुला राशि वालों को आज परिवार का भरपूर सहयोग मिलेगा, मन प्रसन्न रहेगा।...
  • हिन्दुस्तान सुविचार: जीवन के बुरे हादसे या असफलताओं को वरदान में बदलने की ताकत...
  • सार्क में हिस्सा नहीं लेंगे पीएम मोदी, गंभीर की दो साल बाद टीम इंडिया में वापसी,...
  • क्रिकेटर बालाजी 'रजनीकांत' के फैन हैं, आज बर्थडे है उनका। उनकी जिंदगी से जुड़े...

निलंबन से शर्मसार हुआ भारत

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:19-12-2012 05:25:33 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
निलंबन से शर्मसार हुआ भारत

इस साल का आगाज जहां कामयाबी के जश्न के साथ हुआ तो अंत शर्मिंदगी में डूबकर। लंदन ओलंपिक में सबसे ज्यादा पदक जीतने के बाद भारतीय ओलंपिक संघ को चुनाव में ओलंपिक चार्टर का पालन नहीं करने पर आईओसी ने निलंबित कर दिया।

भारतीय ओलंपिक संघ में सत्ता की लड़ाई के कारण हुई इस कार्रवाई ने देश को शर्मसार किया। इसके साथ ही अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों में खिलाड़ियों की तिरंगे तले भागीदारी पर भी सवालिया निशान लग गया है। आईओए को अब आईओसी से अनुदान भी नहीं मिलेगा और ना ही उसके अधिकारी ओलंपिक बैठकों में भाग ले सकेंगे।

आईओसी का कहना है कि भारत ओलंपिक चार्टर का पालन करने में नाकाम रहा और एक दागी अधिकारी को शीर्ष पद के लिए चुनाव लड़ने की अनुमति दी जिसकी वजह से निलंबन की कार्रवाई करनी पड़ी। आईओए ने सरकार की खेल आचार संहिता के तहत चुनाव कराके इस सजा को खुद दावत दी थी। इसके बाद से आईओए और सरकार के बीच आरोप प्रत्यारोप का सिलसिला शुरू हो गया।

आईओसी में भारत के प्रतिनिधि रणधीर सिंह को इसके लिए दोषी ठहराते हुए आईओए के मौजूदा अध्यक्ष अभय सिंह चौटाला ने कहा कि उन्होंने आईओए, आईओसी और सरकार को गुमराह किया। आईओसी में देश के प्रतिनिधि होने के नाते उन्हें आईओए का बचाव करना चाहिए था। रणधीर आईओए अध्यक्ष पद की दौड में थे लेकिन ऐन मौके पर उन्होंने नाम वापिस ले लिया।

आईओए के पूर्व कार्यवाहक अध्यक्ष वीके मलहोत्रा ने सरकार पर खेल आचार संहिता थोपने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि इसके लिए सरकार दोषी है। हम चाहते हैं कि सरकार, आईओसी और आईओए मिलकर इस समस्या का हल निकालें। उच्च न्यायालय के आदेश के बाद हमारे पास खेल आचार संहिता के तहत चुनाव कराने के अलावा कोई रास्ता नहीं था।

खेल मंत्रालय ने तुरंत आईओए पर दोष मंढ़ते हुए कहा कि सरकार की खेल आचार संहिता और ओलंपिक चार्टर में कोई फर्क नहीं है और यदि आईओए अपने संविधान में संशोधन कर लेता तो निलंबन से बचा जा सकता था। इस निलंबन के एक दिन बाद आईओए ने चुनाव कराये जिसमें चौटाला निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए जबकि दागी ललित भनोत को महासचिव चुना गया।

आईओसी ने साफ तौर पर कहा कि ओलंपिक चार्टर की शर्तों को पूरा नहीं करने तक आईओए निलंबित ही रहेगा। अजय माकन की जगह खेलमंत्री बने जितेंद्र प्रसाद ने कहा कि यह उनके अधिकार क्षेत्र में नहीं है लेकिन वह आईओसी अधिकारियों से मिलकर समस्या का हल निकालने की कोशिश करेंगे। सरकार ने आईओसी को एक तदर्थ समिति के गठन का सुक्षाव दिया है जिसमें मशहूर खिलाड़ियों को शामिल किया जाए।

निलंबन के बाद सरकार ने भारतीय तीरंदाजी संघ और भारतीय अमैच्योर मुक्केबाजी महासंघ की मान्यता रद्द कर दी। सरकार ने भारतीय एथलेटिक्स महासंघ को भी नोटिस देकर दो महीने के भीतर संविधान में बदलाव करके नए सिरे से चुनाव कराने का आदेश दिया है।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड