Image Loading
सोमवार, 29 अगस्त, 2016 | 23:31 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • गुड़गांव के हीरोहोंडा चौक में फिर भरा पानी, ट्रैफिक जाम, दिल्ली में भी बारिश के...
  • मुद्रास्फीति 2016-17 की चौथी तिमाही में पांच प्रतिशत के लक्ष्य की तरफ लौट आएगी: RBI
  • आर्थिक वृद्धि बढ़ रही है लेकिन इसका स्तर अभी देश की क्षमता से नीचे: RBI गवर्नर...
  • आरुषि मर्डर केस: नूपुर तलवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बीमार मां को देखने के लिए 3...
  • अमेरिका से मिली जानकारी के आधार पर पठानकोट हमले की नई रिपोर्ट तैयार कर...
  • INS डेगा में लगी आग बुझी, अभी तक किसी के घायल होने की खबर नहीं, जांच जारी: ANI
  • पश्चिम बंगाल का नाम बदलने का प्रस्ताव विधानसभा से पास, अब पश्चिम बंगाल का नाम...
  • यमन में सेना के शिविर पर हमले में मरने वालों की संख्या बढ़कर कम से कम 60 हुई
  • यमन में सैन्य शिविर के पास आत्मघाती हमला, कम से 40 लोगों की मौत
  • नाबालिग से दुष्कर्म मामले में सुप्रीम कोर्ट का आसाराम को अंतरिम जमानत देने से...
  • राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने सबसे पहले रियो ओलंपिक में रजत पदक विजेता शटलर पी.वी....
  • खेल रत्न और अर्जुन अवॉर्ड देने के लिए राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी राष्ट्रपति भवन...
  • बैंकों ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, माल्या ने जानबूझकर नहीं किया था अपनी संपत्तियों...
  • गृह मंत्री राजनाथ सिंह की अगुआई में 4 सितंबर को श्रीनगर जाएगा सर्वदलीय...
  • जैन मुनि पर अभद्र टिपण्णी मामले में संगीतकार विशाल डडलानी के खिलाफ मुंबई में...
  • बुलंदशहर रेप केस पर आजम खान के बयान पर सुप्रीम कोर्ट की तल्ख टिप्पणी, कहा ये...
  • सिंह राशि वालों को प्रतियोगिता में सफलता, लेकिन आलस्य से बचें। अन्य राशि वालों...

इंटरनेट कर रहा 83 करोड़ टन कार्बन डाईऑक्साइड उत्सर्जन

मेलबर्न, एजेंसी First Published:06-01-2013 05:54:07 PMLast Updated:06-01-2013 08:26:50 PM
इंटरनेट कर रहा 83 करोड़ टन कार्बन डाईऑक्साइड उत्सर्जन

एक अध्ययन के अनुसार इंटरनेट तथा सूचना संचार एवं प्रौद्योगिकी (आईसीटी) उद्योग के दूसरे उपकरणों से सालाना 83 करोड़ टन से अधिक कार्बन डाई आक्साइड उत्सर्जित होती है जिसके 2020 तक दोगुना होने का अनुमान है।

सेंटर फोर एनर्जी एफिसिएंट टेलीकम्युनिकेशंस (सीईईटी) तथा बेल लैब के अनुसंधानकर्ताओं ने यह निष्कर्ष निकाला है। रपट में कहा गया है कि आईसीटी उद्योग का वैश्विक कार्बन डाइ आक्साइड उत्सर्जन में दो प्रतिशत हिस्सा है। यह हिस्सा विमानन उदयोग द्वारा उत्सर्जित कार्बन डाइ आक्साइड के समान है।

आईसीटी उद्योग में इंटरनेट, वीडियो, वायस तथा अन्य क्लाउड सेवाएं आती हैं। इन्वायरमेंटल साइंस एंड टेक्नालाजी में प्रकाशित रपट के अनुसार ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में आईसीटी का हिस्सा बढ़कर 2020 तक दोगुना होने का अनुमान है।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
संबंधित ख़बरें