Image Loading
गुरुवार, 30 मार्च, 2017 | 14:25 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • टीवी गॉसिप: कपिल के शो में दिखेंगी दिग्‍गज कॉमेडियन जॉनी लीवर की बेटी जैमी।...
  • सीएम योगी आदित्यनाथ ने विधानसभा के पहले भाषण में कहा, सदन को चर्चा का मंच बनाना...
  • आंध्र प्रदेश: पश्चिम गोदावरी जिले के मोगल्थुर इलाके में एक फूड प्रोसेसिंग...
  • स्वाद-खजाना: नवरात्रि स्पेशल रेसिपी- ऐसे बनाएं साबूदाना मूंगफली बौंडा, क्लिक कर...
  • टॉप 10 न्यूज: रविंद्र गायकवाड़ के समर्थन में शिवसेना, कहा-गुंडों की तरह बर्ताव कर...
  • ग्रेटर नोएडा में केन्या की लड़की पर हमलाः पुलिस ने कहा- किसी भी स्थानीय व्यक्ति...
  • स्पोर्ट्स-स्टार: विराट पर 'बेतुका' बयान देने वाले ब्रैड हॉज ने मांगी माफी, यहां...
  • हिन्दुस्तान Jobs: नेशनल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड में चाहिए 205 एडमिनिस्ट्रेटिव...
  • बॉलीवुड मसाला: कपिल और सोनी चैनल ने ढूंढ लिया सुनील का ऑप्शन, शो में होगी नई...
  • टॉप 10 न्यूज: सुप्रीम कोर्ट में आज तीन तलाक, निकाह-हलाला और बहुविवाह पर सुनवाई,...
  • हेल्थ टिप्स: लू के साथ-साथ मुहांसों से भी बचाता है कच्‍चा आम, पढें 5 फायदे
  • हिन्दुस्तान ओपिनियन: पाकिस्तान मामलों के विशेषज्ञ सुशांत सरीन का विशेष लेख-...
  • मौसम दिनभर: दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, रांची, पटना और देहरादून में होगी कड़ी धूप।
  • ईपेपर हिन्दुस्तान: आज का समाचार पत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।
  • आपका राशिफल: मिथुन राशि वालों को किसी सम्‍पत्‍ति से आय के स्रोत विकसित हो सकते...
  • टॉप 10 न्यूज : महोबा रेल हादसा-महाकौशल एक्सप्रेस के 6 डिब्बे पटरी से उतरे, 9 घायल,...
  • सक्सेस मंत्र : कोई भी काम करने से पहले एक बार सोच लें, क्लिक कर पढ़ें

भारत बनाएगा दुनिया का सबसे बड़ा सौर दूरबीन

कोलकाता, एजेंसी First Published:05-01-2013 04:57:58 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

भारत इस साल के आखिर तक लद्दाख में हिमालय की पहाड़ियों पर दुनिया के सबसे बड़े सौर दूरबीन का निर्माण शुरू कर सकता है। इसके जरिए सूरज से सम्बंधित प्रक्रियाओं का अध्ययन किया जाएगा।

बेंगलुरू के इंडियन इंस्टीट्य़ूट ऑफ एस्ट्रोफिजिक्स (आईआईए) द्वारा बनाया गया दो मीटर का अत्याधुनिक राष्ट्रीय वृहद सौर दूरबीन भारतीय वैज्ञानिकों को सूरज के अध्ययन के लिए शोध करने में मदद करेगा।

आईआईए के पूर्व निदेशक सिराज हसन ने यहां भारतीय विज्ञान कांग्रेस के एक सत्र में कहा, ''केंद्र सरकार को एक विस्तृत परियोजना रिपोर्ट सौंपी गई है। हम इस साल के आखिर तक दूरबीन का निर्माण शुरू कर पाएंगे। परियोजना 2017 तक पूरी हो सकती है।''

परियोजना पर 150 करोड़ रुपये खर्च होंगे और यह दूरबीन दुनिया के उन कुछ दूरबीनों में से एक होगा, जिसका दिन और रात दोनों वक्त उपयोग किया जा सकता है।

अभी हालांकि दुनिया का सबसे बड़ा दूरबीन हवाई के मौना किया में स्थित 10 मीटर का ऑप्टिकल दूरबीन है, लेकिन यह भारतीय दूरबीन सौर दूरबीनों में सबसे बड़ा होगा।

अब तक दुनिया का सबसे बड़ा सौर दूरबीन मैकमैथ-पीयर्स सौर दूरबीन है, जिसका व्यास 1.6 मीटर है और जो अमेरिका के अरीजोना में किट पीक नेशनल ऑब्जवेटरी में स्थित है।

हसन ने कहा कि पेंगोंग झील के पास मेरक गांव में एक उपयुक्त स्थान का चुनाव कर लिया गया है। यह गांव जम्मू और कश्मीर के लद्दाख क्षेत्र में स्थित है।

आईआईए इस परियोजना की नोडल एजेंसी के रूप में काम करेगी, जिसमें भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान, आर्यभट्ट रिसर्च इंस्टीट्य़ूट ऑफ ऑब्जरवेशनल-साइंसेज, टाटा इंस्टीट्य़ूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च एंड इंटर-यूनीवर्सिटी सेंटर जैसे वैज्ञानिक संस्थानों की भी सहभागिता रहेगी।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड