Image Loading
गुरुवार, 23 फरवरी, 2017 | 14:49 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • गुरुग्राम में प्रॉपर्टी डीलर के ऑफिस में फायरिंग। तीन युवकों को गोली मारी, एक...
  • बहराइच रैलीः अखिलेश गधे से डरने लगे हैं, मैं गधे से प्ररेणा लेता हूं, गधे से...
  • #IndiavsAustralia #PuneTest ऑस्ट्रेलिया को चौथा झटका, स्मिथ आउट, स्कोर 149/4
  • बहराइच रैलीः आधा चुनाव हो गया लेकिन जनता को हिसाब नहीं दे रही अखिलेश सरकार- पीएम...
  • #IndiavsAustralia #PuneTest ऑस्ट्रेलिया को तीसरा झटका, हैंड्सकॉम्ब आउट, स्कोर 149/3
  • बीएमसी चुनाव में हार के बाद कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष संजय निरूपम ने हार की...
  • #PuneTest ऑस्ट्रेलिया को दूसरा झटका, मार्श आउट, स्कोर 119/2
  • यूपी चुनावः चौथे चरण में 53 सीटों के लिए मतदान जारी, सुबह 11 बजे तक 23.78% वोटिंग
  • यूपी चुनावः प्रतापगढ़ में राज्यसभा सांसद और वरिष्ठ कांग्रेस नेता प्रमोद...
  • शोपियां में आतंकी हमला, सेना के 3 जवान शहीद, 1 महिला की भी मौत। पूरी खबर पढ़ने के...

माले में ठेका बचाने के लिए कानूनी उपाय करेगी GMR

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:04-12-2012 02:24:03 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
माले में ठेका बचाने के लिए कानूनी उपाय करेगी GMR

भारतीय कंपनी जीएमआर इन्फ्रास्ट्रक्चर ने कहा है कि वह मालदीव में माले हवाई अड्डे के अपने अनुबंध को बचाने के लिए हर संभव कानूनी उपाय करेगी। कंपनी ने साफ कहा है कि उसने वहां इस लिए निवेश नहीं किया है कि कोई उसे क्षतिपूर्ति करके जब चाहे निकाल दे।

जीएमआर के नेतृत्व में कंपनियों का एक समूह माले अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के आधुनिकीकरण और परिचालन के लिए 51.1 करोड़ डॉलर का अनुबंध किया था। वहां तख्ता पलट के बाद आई नई सरकार ने इस अनुबंध को संदिग्ध बताते हुए रद्द कर दिया है। माले सरकार ने सिंगापुर हाईकोर्ट के स्थगन आदेश के बावजूद कहा है कि वह अपने निर्णय पर अटल है।

जीएमआर माले इंटरनेशनल एयरपोर्ट के मुख्य कार्यकारी एंड्रयू हैरिसन ने कहा कि यह क्षतिपूर्ति का प्रश्न नहीं है। हम यहां मुआवजा लेने नहीं आए थे। हमने एक अंतर्राष्ट्रीय निविदा में भाग लिया था और उसे जीत कर हम यहां आए थे। उन्होंने कहा था कि मालदीव की सरकार ने हमें जो सार्वभौमिक गारंटी दी थी। वह आज समझौते की शर्तों का पालन नहीं कर रही है। समझौते में साफ-साफ लिखा है कि अनुबंध रद्द करने पर किन-किन शर्तों का पालन करना होगा।

यह पूछे जाने पर कि क्या जीएमआर माले हवाई अड्डे का जबरदस्ती अधिग्रहण करने के माले सरकार के निर्णय को अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय में चुनौती देगी, हैरिसन ने कहा कि हम जो भी कानूनी कदम उठा सकते हैं, उसे जरूर उठाएंगे। हम यह सुनिश्चत करना चाहेंगे कि हमारे कानूनी अधिकार सुरक्षित रहे। ऐसे कुछ अंतर्राष्ट्रीय कानून हैं, जो हर देश को मानने ही पड़ते हैं।

उल्लेखनीय है कि माले सरकार के 27 नवंबर के निर्णय के खिलाफ जीएमआर समूह को सोमवार को सिंगापुर की अदालत से स्टे ऑर्डर मिला। माले सरकार ने सात दिन के अंदर माले हवाई अड्डा सौंपने का आदेश दे रखा था। पर सिंगापुर के निर्णय की खबर मिलने के तुरंत बाद मालदीव ने कहा कि उसका निर्णय नहीं बदलेगा। जीएमआर के नेतृत्व वाले कंसोर्सियम, मालदीव्स एयरपोर्टस कंपनी लिमिटिड और मालदीव सरकार के बीच माले हवाई अड्डे के परिचानल का अनुबंध 25 साल के लिए था।

एंड्रयू ने कहा कि अनुबंध के हिसाब से मालदीव सरकार अनुबंध खत्म करने या अनुबंध के समाप्त होने पर इस परियोजना के लिए कर्ज देने वाले एक्सि बैंक के हितों की रक्षा करेगी और 60 दिन के अंदर मुआवजा देने के बाद ही अनुबंध दूसरे किसी को सौंपा जा सकता है। उन्होंने कहा कि मालदीव सरकार ने 60 दिन का नोटिस नहीं दिया और न ही एक्सिबैंक का पैसा लौटाया गया है।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड