class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजनाथ की अपीलः कश्मीरियों को समझें भाई, सभी राज्य दें सुरक्षा  

राजनाथ की अपीलः कश्मीरियों को समझें भाई, सभी राज्य दें सुरक्षा    

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने जम्मू-कश्मीर के बाहर कश्मीरी युवाओं को प्रताड़ित करने की कथित घटनाओं की निंदा करते हुए आज सभी राज्यों से कहा कि वे देश के विभिन्न हिस्सों में रह रहे कश्मीरियों की सुरक्षा सुनिश्चित करें।

गृहमंत्री ने यहां संवाददाताओं से कहा कि मुझे पता चला है कि कुछ स्थानों पर कश्मीरियों के साथ दुर्व्यवहार की घटनाएं हुई हैं। मैं सभी मुख्यमंत्रियों से अपील करता हूं कि वे अपने राज्यों में कश्मीरियों की सुरक्षा सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा, मैं सभी से अपील करता हूं कि वे कश्मीरी युवाओं को अपना भाई समक्षें और उनके साथ अच्छा व्यवहार करें।
 
गृहमंत्री ने कहा कि उनके मंत्रालय की ओर से सभी राज्यों को वहां रह रहे कश्मीरियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एक परामर्श भेजा जा रहा है। सिंह का यह बयान उन खबरों के मद्देनजर आया है जिसमें कहा गया है कि राजस्थान एवं उत्तर प्रदेश में कश्मीरी छात्रों को कथित रूप से धमकियां मिल रही हैं। 

इन घटनाओं की निंदा करते हुए गहृमंत्री ने कहा कि हर मामले में उचित जांच शुरू की जानी चाहिए और दोषियों के खिलाफ कठोरतम कदम उठाया जाना चाहिए। सिंह ने कहा कि कश्मीरी किसी भी अन्य भारतीय की ही तरह हैं।

राजनाथ ने कहा, कश्मीर की जनता का राष्ट्रनिमार्ण में योगदान बहुत अधिक है। वे किसी भी अन्य भारतीय की तरह हैं। मैं हर किसी से अपील करता हूं कि वे कश्मीरी युवाओं को अपना भाई मानें और उनके साथ अच्छा व्यवहार करें। वे परिवार का हिस्सा हैं।   

राजस्थान से आई खबरों में कहा गया कि बुधवार को चित्तौड़गढ़ में कुछ स्थानीय लोगों और मेवाड़ विश्वविद्यालय के कश्मीरी छात्रों के बीच झड़प के बाद तनाव पैदा हो गया था। दोनों पक्षों के बीच झड़प तब शुरू हुई, जब कश्मीरी छात्रों को कथित तौर पर पत्थरबाज कहकर पुकारा गया और कश्मीर घाटी में सीआरपीएफ के जवान के साथ बदसलूकी के वीडियो को लेकर तंज कसा गया।
इसके अलावा मेरठ में कुछ ऐसे होर्डिंग भी सामने आए हैं, जिनमें कश्मीरी छात्रों से उत्तरप्रदेश छोड़ने के लिए कहा गया है।
 


 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:i appeal to all states they should ensure safety of all kashmiris anywhere in country