Image Loading
शनिवार, 25 मार्च, 2017 | 23:04 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • पढ़ें रात 11 बजे की टॉप खबरें, शुभरात्रि
  • अंकराशि: जानिए कैसा रहेगा आपके लिए 26 मार्च का दिन
  • जरूर पढ़ें: दिनभर की 10 बड़ी रोचक खबरें
  • प्राइम टाइम न्यूज़: पढ़े अबतक की 10 बड़ी खबरें
  • करीना से अपने रिश्ते पर पहली बार बोले शाहिद, 'सबसे बड़ा राज...', यहां पढ़ें बॉलीवुड...
  • हिन्दुस्तान जॉब : 12वीं पास के बच्चों को नौकरी देगा एचसीएल, क्लिक कर पढ़े
  • सीएम बनने के बाद पहली बार गोरखपुर पहुंचे योगी, हुआ भव्य स्वागत, पढ़ें राज्यों से...
  • यूपी सीएम ने कहा, कैलाश मानसरोवर यात्रियों को एक लाख का अनुदान देंगे, पूरी खबर...
  • इलाहाबाद: कौशाम्बी के पिपरी इलाके में छेड़खानी से दुखी बीए की छात्रा ने...
  • कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए 1 लाख रुपये सरकार देगी: सीएम योगी आदित्यनाथ
  • सीएम योगी आदित्य नाथ ने कहा- केंद्र की तरह यूपी में भी विकास को आगे बढ़ाना है
  • टॉप 10 न्यूज़: पढ़े अबतक की देश-विदेश और मनोरंजन की बड़ी खबरें
  • मोहद्दीपुर पहुंचे सीएम आदित्यनाथ योगी, महाराणा प्रताप कॉलेज में होगा अभिनंदन
  • यूपी: गोरखपुर पहुंचे सीएम आदित्यनाथ योगी
  • गैजेट-ऑटो अपडेट: पढ़ें अभीतक की 8 बड़ी खबरें
  • जेटली मानहानि मामला: पटियाला हाउस कोर्ट में सीएम अरविंद केजरीवाल और अन्य आप...
  • अभिनेता रजनीकांत ने तमिल समर्थक संगठनों के विरोध के मद्देनजर अपनी श्रीलंका...
  • #IndvsAus धर्मशाला टेस्ट DAY-1: ऑस्ट्रेलिया की पहली पारी 300 रन पर सिमटी
  • #IndvsAus धर्मशाला टेस्ट DAY-1: 57 रन बनाकर वेड आउट, जडेजा ने लिया 9वां विकेट, AUS स्कोर 298/9
  • स्पोर्ट्स अपडेटः 'चाइनामैन' कुलदीप के बारे में Interesting facts. पढ़ें, क्रिकेट की अभी तक...
  • बिहार में बदला मौसम का मिजाज, उत्तर बिहार में आंधी-तूफान, बारिश और ओला वृष्टि से...

गुजरात का 'कुरुक्षेत्र' है गोंडल

गोंडल, एजेंसी First Published:08-12-2012 09:45:25 AMLast Updated:08-12-2012 09:47:50 AM
गुजरात का 'कुरुक्षेत्र' है गोंडल

राजकोट से लगभग 40 किलोमीटर दूर गोंडल विधानसभा क्षेत्र को गुजरात का 'कुरुक्षेत्र' कहा जाता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि बगैर खून-खराबे के यहां का कोई चुनाव सम्पन्न ही नहीं होता।

यहां के राजनीतिक तांडव में मुख्य मुकाबला भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के 'कमल' और गुजरात परिवर्तन पार्टी (जीपीपी) के 'बल्ले' के बीच है। भाजपा ने यहां दो बार विधायक रहे जयसिंह जडेजा पर बाजी लगाई है, जिन्हें अपने धन व बाहुबल के साथ मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के करिश्मे पर भरोसा है तो दूसरी ओर जीपीपी के महासचिव व राज्य के पूर्व गृह मंत्री गोर्धन झड़ाफिया हैं जो जातिगत समीकरणों पर नजर टिकाए हुए हैं।

मैदान में हालांकि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के चंदू वगासिया और कुछ स्वतंत्र उम्मीदवार भी हैं, लेकिन मुख्य मुकाबला भाजपा और जीपीपी के बीच ही माना जा रहा है। दिलचस्प यह है कि 2007 के विधानसभा चुनाव में यह सीट वगासिया ने जीती थी। उन पर भूमि सुधार व सिंचाई योजनाओं में 43 लाख रुपये का भ्रष्टाचार के आरोप हैं। वगासिया ने पिछले चुनाव में जडेजा को 600 मतों के अंतर से हराया था।

गोंडल का राजनीतिक इतिहास हिंसक रहा है और यहां धन व बाहुबल हावी रहा है। राकांपा के महिपत सिंह जडेजा की कभी इस इलाके में तूती बोलती थी। कांग्रेस के तत्कालीन विधायक पोपट भाई सोराठिया की 1988 में हुई हत्या के बाद तो उनका खौफ इस कदर बढ़ा कि वह 1990 और 1995 में अपने धन व बाहुबल से चुनाव जीतने में भी सफल रहे। राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता के कारण महिपत के बेटे अनिरुद्ध सिंह ने कथित तौर पर सोराठिया की हत्या की थी।

'लोहा, लोहे को काटता है' के सिद्धांत पर भाजपा ने जयसिंह जडेजा को उनके मुकाबले खड़ा किया, जिनके ऊपर खुद हत्या तक के मामले दर्ज हैं।

जयसिंह जडेजा ने महिपत सिंह को 1998 और 2002 के चुनाव में पराजित कर उनके दबदबे को कुछ कम किया। लेकिन क्षेत्र की जनता पर उनका प्रभाव बना रहा। 2007 के चुनाव में जयसिंह को वगासिया के हाथों हार का सामना करना पड़ा। आपसी प्रतिद्वंदिता के चलते महिपत सिंह ने पिछले चुनाव में वगासिया का साथ दिया था।

1.92 करोड़ मतदाताओं की आबादी वाले इस विधानसभा सीट की राजनीति पटेलों के इर्दगिर्द घूमती रही है, जिनकी संख्या तकरीबन 70,000 के करीब है।

गोंडल के श्रीनाथगढ़ में पान की दुकान चलाने वाले भाऊभाई झडाफिया को आयातित उम्मीदवार बताते हैं। वह कहते हैं, ''जयसिंह जडेजा हमारे क्षेत्र के हैं। वह सिर्फ चुनावी मौसम में क्षेत्र में दिखने वालों में नहीं हैं।'' वह जडेजा की छवि को रॉबिनहुड वाली बताते हैं।

वहीं श्रीनाथगढ़ के ही दिलीप पटेल कहते हैं, ''देखिएगा तो पाइएगा क्षेत्र की सारी नदियां सूख गई हैं। नहरों में पानी नहीं है। जिसके चलते किसान नाराज हैं। मोदी ने किसानों के लिए कुछ नहीं किया।''

वह कहते हैं, ''वैसे भी गोंडल का इतिहास खून-खराबों का रहा है। यह चुनावी रणक्षेत्र हर बार कुरुक्षेत्र में तब्दील हो जाता है। हम यह सब नहीं चाहते। इसलिए हम इस परम्परा को बदलना चाहते हैं।''

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड