class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सिलेन्डरों की संख्या बढ़ाने पर चुनाव आयोग सख्त

सिलेन्डरों की संख्या बढ़ाने पर चुनाव आयोग सख्त

चुनाव आयोग ने सब्सिडी प्राप्त रसोई गैस सिलेन्डरों की संख्या में गुजरात विधानसभा चुनाव के ठीक पहले बढ़ोतरी किये जाने के केंद्र सरकार के कदम पर मंगलवार को सख्त ऐतराज जताया और उसे फौरन इस कदम को रोकने को कहा। चुनाव आयोग ने पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री एम वीरप्पा मोइली द्वारा इस सिलसिले में की गई घोषणा को लेकर उनसे कल सुबह तक इस बारे में स्पष्टीकरण भी मांगा है। आयोग ने मोइली की घोषणा के फौरन बाद स्वत: संज्ञान लेते हुए एक आपात बैठक बुलाई।

दरअसल, मोइली ने कहा है कि सरकार सब्सिडी प्राप्त रसोई गैस सिलेन्डरों की संख्या प्रति परिवार साल में मौजूदा छह सिलेन्डर से बढ़ाकर नौ करेगी। चुनाव आयोग ने मुख्य चुनाव आयुक्त वीएस सम्पत की अध्यक्षता में हुई अपनी बैठक के बाद पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय तथा मंत्री को दो अलग अलग पत्र भेजे। आयोग ने मंत्रलय से गुजरात विधानसभा चुनाव के ठीक पहले तथा चुनाव आचार संहित लागू रहने के दौरान उठाये गए इस कदम पर फौरन रोक लगाने को कहा है। आयोग ने इस मुद्दे पर मोइली से स्पष्टीकरण भी मांगा है। गुजरात में पहले चरण का मतदान 13 दिसंबर और दूसरे एवं अंतिम चरण का मतदान 17 दिसंबर को होगा।

चुनाव आयोग ने अपने पत्र में पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय को निर्देश दिया है कि सब्सिडी प्राप्त रसोई गैस सिलेन्डरों की आपूर्ति की संख्या में कथित बढ़ोत्तरी करने का यदि कोई कदम उठाया जा रहा है तो उसे अवश्य ही फौरन रोका जाए। आदर्श आचार संहिता के लागू रहने के चलते आयोग ने पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय को लिखे अपने पत्र में कहा है, निर्देश दिया जाता है कि सब्सिडी प्राप्त रसोई गैस सिलेन्डरों की संख्या में कथित बढ़ोतरी का यदि कोई कदम उठाया जा रहा है तो उसे फौरन रोका जाए।

आयोग ने मोइली को लिखे पत्र में कहा है, ऐसे में जब गुजरात में पहले चरण के मतदान होने में सिर्फ दो दिन बचे हैं, आपकी उपरोक्त घोषणा पर आयोग को सख्त ऐतराज है। चुनाव आयोग ने मंत्री से कल सुबह 11 बजे तक स्पष्टीकरण देने को कहा है। पत्र में कहा गया है कि उसे सरकार के इस कदम के बारे में मंत्री वीरप्पा मोइली के हवाले से मीडिया में आई खबरों से जानकारी मिली है।

मोइली ने सब्सिडी प्राप्त एलपीजी सिलेन्डरों की संख्या बढ़ाये जाने की सरकार की योजना की घोषणा करते हुए कहा कि मुझे लगता है कि इसकी संख्या निश्चित तौर पर छह (सिलेन्डर) से बढ़कर नौ (सिलेन्डर) होने की संभावना है। गौरतलब है कि सरकार ने सब्सिडी प्राप्त रसोई गैस सिलेन्डरों की संख्या प्रति परिवार साल में सीमित कर दी थी। छह सिलेन्डरों के बाद कोई अतिरिक्त सिलेन्डर के लिए 931 रूपये की बाजार दर की कीमत अदा करनी होगी। बहरहाल, अभी सब्सिडी प्राप्त सिलेन्डर के लिए 410.50 रुपया अदा करना पड़ता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सिलेन्डरों की संख्या बढ़ाने पर चुनाव आयोग सख्त