Image Loading मनरेगा में मिलेगा 150 दिन का रोजगार - LiveHindustan.com
बुधवार, 04 मई, 2016 | 20:59 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल 9: किंग्स इलेवन पंजाब ने केकेआर के खिलाफ टॉस जीता, पहले फील्डिंग का फैसला
  • हेलीकॉप्टर घोटाले में जांच उन लोगों की भूमिका पर केन्द्रित होगी जिनका नाम इटली...
  • भारत द्वारा खरीदे गए हेलीकाप्टर का परीक्षण नहीं हुआ था क्योंकि वह उस समय विकास...
  • जॉब अलर्ट: SBI करेगा प्रोबेशनरी ऑफिसर के 2200 पदों पर भर्तियां
  • गायत्री परिवार के प्रणव पांड्या राज्यसभा के लिए मनोनीत: टीवी रिपोर्ट्स
  • सेंसेक्स 127.97 अंक गिरकर 25,101.73 पर और निफ्टी 7,706.55 पर बंद
  • टी-20 और वनडे रैंकिंग में टीम इंडिया लुढ़की
  • यूपी के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ सुप्रीम कोर्ट के जज बने। मप्र व...
  • बरेली में मेडिकल के छात्र का अपहरण, बदमाशो ने घर वालो से मांगी 1 करोड़ की फिरौती
  • राज्य सभा की अनुशासन समिति ने विजय माल्या की सदस्यता तत्काल खत्म करने की...
  • उत्तराखंड मामलाः केंद्र ने SC में कहा, बहुमत परीक्षण पर कर रहे विचार, शुक्रवार को...

मनरेगा में मिलेगा 150 दिन का रोजगार

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:11-09-2012 09:20:05 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
मनरेगा में मिलेगा 150 दिन का रोजगार

सूखा प्रभावित राज्यों के किसानों को कुछ राहत देने के लिए मंत्रियों के अधिकार प्राप्त समूह (ईजीओएम) ने मनरेगा के तहत न्यूनतम गारंटी शुदा दिहाड़ी रोजगार की संख्या 100 से बढ़ाकर 150 कर दी है।

समूह ने इसके साथ ही एक साल के लिए पुनर्गठित (रिपीट पुनर्गठित) फसल ऋण पर ब्याज दर को भी घटाकर 7 प्रतिशत कर दिया गया है। सूत्रों ने मंगलवार को यह जानकारी दी।

सूत्रों ने बताया कि कृषि मंत्री शरद पवार की अगुवाई वाले अधिकार प्राप्त मंत्री समूह ने इन फैसलों को मंजूरी दे दी है। मामले से जुड़े एक सूत्र ने कहा कि बैठक के दौरान कई प्रस्तावों पर विचार हुआ। इसमें पुनर्गठित फसल ऋण पर ब्याज दर को 12 से घटाकर 7 प्रतिशत करने पर सहमति बनी।

कृषि मंत्रालय ने कम से कम 5 पांच साल के लिए फसल ऋण पर ब्याज सब्सिडी देने का प्रस्ताव किया था, लेकिन मंत्री समूह ने यह छूट सिर्फ एक साल के लिए देने का फैसला किया। सूत्रों ने बताया कि मंत्री समूह ने सुझाव दिया है कि मंत्रालय को मंजूरी के लिए यह प्रस्ताव मंत्रिमंडल की आर्थिक मामलों की समिति के समक्ष रखना चाहिए।

सूत्रों ने कहा कि सूखा प्रभावित राज्यों में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी (मनरेगा) के तहत रोजगार साल में न्यूनतम गारंटीशुदा दिहाड़ी रोजगार की संख्या 100 से बढ़ाकर 150 करने का फैसला किया गया।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट