Image Loading
गुरुवार, 30 मार्च, 2017 | 14:15 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • टीवी गॉसिप: कपिल के शो में दिखेंगी दिग्‍गज कॉमेडियन जॉनी लीवर की बेटी जैमी।...
  • सीएम योगी आदित्यनाथ ने विधानसभा के पहले भाषण में कहा, सदन को चर्चा का मंच बनाना...
  • आंध्र प्रदेश: पश्चिम गोदावरी जिले के मोगल्थुर इलाके में एक फूड प्रोसेसिंग...
  • स्वाद-खजाना: नवरात्रि स्पेशल रेसिपी- ऐसे बनाएं साबूदाना मूंगफली बौंडा, क्लिक कर...
  • टॉप 10 न्यूज: रविंद्र गायकवाड़ के समर्थन में शिवसेना, कहा-गुंडों की तरह बर्ताव कर...
  • ग्रेटर नोएडा में केन्या की लड़की पर हमलाः पुलिस ने कहा- किसी भी स्थानीय व्यक्ति...
  • स्पोर्ट्स-स्टार: विराट पर 'बेतुका' बयान देने वाले ब्रैड हॉज ने मांगी माफी, यहां...
  • हिन्दुस्तान Jobs: नेशनल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड में चाहिए 205 एडमिनिस्ट्रेटिव...
  • बॉलीवुड मसाला: कपिल और सोनी चैनल ने ढूंढ लिया सुनील का ऑप्शन, शो में होगी नई...
  • टॉप 10 न्यूज: सुप्रीम कोर्ट में आज तीन तलाक, निकाह-हलाला और बहुविवाह पर सुनवाई,...
  • हेल्थ टिप्स: लू के साथ-साथ मुहांसों से भी बचाता है कच्‍चा आम, पढें 5 फायदे
  • हिन्दुस्तान ओपिनियन: पाकिस्तान मामलों के विशेषज्ञ सुशांत सरीन का विशेष लेख-...
  • मौसम दिनभर: दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, रांची, पटना और देहरादून में होगी कड़ी धूप।
  • ईपेपर हिन्दुस्तान: आज का समाचार पत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।
  • आपका राशिफल: मिथुन राशि वालों को किसी सम्‍पत्‍ति से आय के स्रोत विकसित हो सकते...
  • टॉप 10 न्यूज : महोबा रेल हादसा-महाकौशल एक्सप्रेस के 6 डिब्बे पटरी से उतरे, 9 घायल,...
  • सक्सेस मंत्र : कोई भी काम करने से पहले एक बार सोच लें, क्लिक कर पढ़ें

हमने मिनटों में पहुंचकर की पीड़िता की मदद: पुलिस

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:05-01-2013 06:52:24 PMLast Updated:06-01-2013 10:34:07 AM
हमने मिनटों में पहुंचकर की पीड़िता की मदद: पुलिस

दिल्ली पुलिस ने 16 दिसम्बर को सामूहिक दुष्कर्म की शिकार हुई युवती के दोस्त द्वारा लगाए गए इस आरोप का शनिवार का खंडन किया कि पुलिसकर्मियों के बीच अधिकार क्षेत्र को लेकर बहस होती रही, जिसमें बहुत मूल्यवान समय गंवा दिया गया। वह समय पीड़िता की जान बचाने में महत्वपूर्ण साबित हो सकता था।

दिल्ली पुलिस ने एक संक्षिप्त स्पष्टीकरण में कहा कि पुलिस नियंत्रण कक्ष की वैन को फोन पर पहली सूचना उस रात 10.22 बजे मिली थी कि एक युवती सहित खून से लथपथ दो लोग सड़क पर पड़े हुए हैं।

पुलिस ने दावा किया कि बचाव के लिए दो वैन घटनास्थल पर चंद मिनट में ही पहुंच गई थीं और पहली सूचना मिलने के 33 मिनट के भीतर पीड़िता को अस्पताल ले जाया गया था।

दिल्ली पुलिस की ओर से जारी एक बयान में कहा गया, ''पीसीआर वैन को फोन पर सूचना 10:21:35 पर मिली थी। सभी पीसीआर वैनों के लिए सूचना प्रसारित कर दी गई थी और वैन जेड-54 को घटनास्थल पर पहुंचने का निर्देश दिया गया था।''

बयान में कहा गया है कि पीसीआर वैन ई-42 घटनास्थल पर 10:27:43 पर पहुंची थी।

बयान में कहा गया है, ''पीसीआर वैन जेड-54 सूचना मिलने के 7.9 मिनट बाद 10:29:29 पर घटनास्थल पर पहुंची और वह 10:29:30 पर पीडिम्ता को लेकर रवाना हुई थी। वह 16.20 मिनट में यानी 10.55 पर सफदरजंग अस्पताल पहुंची थी।

दिल्ली पुलिस के संयुक्त आयुक्त (दक्षिण-पश्चिम) विवेक गोगिया ने कहा कि दोनों पीड़िता को पीसीआर वैन जेड-54 में 16 मिनट में अस्पताल ले जाया गया था।

उन्होंने कहा कि पीसीआर वैन घटनास्थल पर पहुंची और पुलिसकर्मियों ने नजदीक के एक होटल से एक बेडशीट का इंतजाम किया था।

समाचार चैनल 'जी न्यूज' पर पीड़िता के दोस्त द्वारा लागाए गए आरोपों का बिंदुवार जवाब देते हुए गोगिया ने कहा कि अधिकार क्षेत्र को लेकर पीसीआर वैनों में तैनात पुलिसकर्मियों के बीच कोई झगड़ा नहीं हुआ था।

उन्होंने कहा कि पीसीआर वैन सीधे तौर पर नियंत्रण कक्ष से संचालित होती हैं, किसी पुलिस थाने से नहीं।

गोगिया ने कहा, ''पीसीआर सिस्टम सीधे तौर पर जीपीएस (ग्लोबल पोजीशनिंग सिस्टम) से जुड़े एक केंद्रीकृत सिस्टम से जुड़ा होता है।''

पीड़िता के दोस्त के यह कहने पर कि उन्हें नजदीक के किसी अस्पताल में भी ले जाया जा सकता था, गोगिया ने कहा कि ऐसे मामलों में घायलों को किसी अधिसूचित सरकारी अस्पताल में ले जाया जाता है ताकि वहां वैधानिक रूप से चिकित्सीय जांच हो सके।

उन्होंने कहा कि पीड़िता के दोस्त को अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद उसके रहने की समुचित व्यवस्था की गई और उस पर आया खर्च पुलिस ने वहन किया।

पीड़िता के दोस्त की इस टिप्पणी पर कि आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की प्रशंसा नहीं की जानी चाहिए, गोगिया ने कहा कि वे सराहना या प्रशंसा की अपेक्षा नहीं रखते।

गोगिया ने कहा, ''हमने अपना दायित्व निभाया और आला अधिकारियों को जानकारी दी।''

उल्लेखनीय है कि 16 दिसम्बर को हुए भयानक हादसे के बाद पीड़िता के दोस्त ने शुक्रवार को पहली बार अपनी चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि उसे लगता है कि 23 वर्षीया पीड़िता को बचाया जा सकता था।

उसने पीड़िता को अस्पताल पहुंचाने में हुई दो घंटे से अधिक की देरी के लिए पुलिस को जिम्मेदार ठहराया, क्योंकि क्षेत्राधिकार को लेकर तीनों पीसीआर वैनों में मौजूद पुलिसकर्मी आपस में झगड़ने लगे थे।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड