Image Loading
शुक्रवार, 30 सितम्बर, 2016 | 12:08 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • KOLKATA TEST: पहले दिन लंच तक टीम इंडिया का स्कोर 57/3, पुजारा-रहाणे क्रीज पर मौजूद
  • INDOSAN कार्यक्रम में पीएम मोदी ने NCC को स्वच्छता अवॉर्ड से सम्मानित किया
  • सीसीएस की बैठक में शामिल होने गृह मंत्रालय पहुंचे NSA अजित डोभाल और मंत्री किरन...
  • सर्जिकल स्ट्राइक के बाद संभला भारतीय शेयर बाजार, 63 अंक की बढ़त के साथ 27,891 पर...
  • सर्जिकल स्ट्राइक के बाद भारतीय नौसेना अलर्ट, मुंबई में नेवी के कई कार्यक्रम...
  • INDvsNZ: कोलकाता टेस्ट में भारत का टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला
  • कोलकाता टेस्ट से पहले कीवी टीम को बड़ा झटका, इसके अलावा पढ़ें क्रिकेट और अन्य...
  • सर्जिकल स्ट्राइक के बाद भारतीय सेना ने बीती रात जम्मू-कश्मीर के सांबा सेक्टर के...
  • INDvsNZ: कोलकाता टेस्ट में न्यूजीलैंड की कप्तानी करेंगे रोस टेलर, बीमार केन विलियमसन...
  • मौसम अलर्टः दिल्लीवालों को गर्मी से नहीं मिलेगी राहत। पटना, रांची और देहरादून...
  • भविष्यफल: मेष राशि वालों के लिए आज है मांगलिक योग। आपकी राशि क्या कहती है जानने...
  • कल से शुरू हो रहे हैं नवरात्रि, आज ही कर लें ये तैयारियां
  • PoK में भारतीय सेना के ऑपरेशन में 38 आतंकी ढेर, पाक का 1 भारतीय सैनिक को पकड़ने का...

काश! उस रात कोई हमारी मदद के लिए आया होता...

नई दिल्ली, हिन्दुस्तान टीम First Published:05-01-2013 10:06:51 AMLast Updated:05-01-2013 05:27:44 PM
काश! उस रात कोई हमारी मदद के लिए आया होता...

चलती बस में गैंगरेप की शिकार बनी छात्रा का दोस्त शुक्रवार शाम पहली बार लोगों के सामने आया। एक निजी समाचार चैनल से बातचीत में उसने कहा कि वह जिंदा रहना चाहती थी।

वह चाहती थी कि उसके साथ दुष्कर्म करने वाले सभी आरोपियों को फांसी के बजाए जला कर मारा जाए। बातचीत के दौरान उसने घटनाक्रम पर पुलिस-अस्पताल व समाज के रवैये को लेकर भी कई सवाल उठाए।

युवक ने कहा कि बस से फेंकेने के बाद दरिंदों ने लड़की को बस से कुचलने की भी कोशिश की, लेकिन मैंने उसे बचा लिया। हम ढाई घंटे तक सड़क पर ही पड़े रहे। इस दौरान तीन पीसीआर वैन तो आईं लेकिन सभी सीमा विवाद में उलझी रहीं।

हम राहगीरों से मदद मांग रहे थे, लेकिन किसी ने हमें शरीर ढकने के लिए कपड़ा तक नहीं दिया। शायद उन्हें डर था कि वे रुकेंगे तो पुलिस के चक्कर में फंस जाएंगे। अस्पताल पहुंचने पर भी ठीक से मदद नहीं मिली। वहां भी किसी ने तन ढकना जरूरी नहीं समझा।

युवक के अनुसार, वह वारदात की रात से ही स्ट्रेचर पर था। 16 से 20 दिसंबर तक वह थाने में ही रहा। इस दौरान पुलिस ने उसका उपचार भी नहीं करवाया। इस चश्मदीद का कहना है कि अगर लड़की को उपचार के लिए विदेश ले ही जाना था तो यह फैसला पहले होना चाहिए था।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
क्रिकेट स्कोरबोर्ड