Image Loading
रविवार, 25 सितम्बर, 2016 | 12:36 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • पैरालंपिक के दिव्यांग खिलाड़ियों ने सामान्य खिलाड़ियों से बेहतर प्रदर्शन...
  • देश में शोक और आक्रोश है, दोषियों को सजा जरूर मिलेगी: पीएम मोदी
  • #Kanpur TEST: पुजारा 78 रन बनाकर ईश सोढ़ी की गेंद पर आउट, स्कोर-228/4
  • KANPUR TEST: कप्तान कोहली 18 रन बनाकर आउट, स्कोर-214/3
  • KANPUR TEST: भारत का दूसरा विकेट गिरा, विजय 76 रन बनाकर आउट
  • पढ़िए, शशि शेखर का ब्लॉग: 'असली भारत के हक में'
  • #INDvsNZ: कानपुर टेस्ट के तीसरे दिन के 5 टर्निंग प्वाइंट्स, खेल की दुनिया की टॉप 5 खबरें...
  • मौसम अलर्ट: दिल्ली-NCR में गर्म रहेगा मौसम। लखनऊ, पटना और रांची में बारिश की...
  • सुबह की शुरुआत करने से पहले जानिए अपना भविष्यफल, जानिए आज कैसा रहेगा आपका दिन
  • सुविचार: मनुष्य का स्वाभाव है कि जब वह दूसरों के दोष देख कर हंसता है, तब उसे अपने...
  • Good Morning: पाक को PM का करारा जबाव, बदहाल यूपी पर क्या बोले राहुल, और भी बड़ी खबरें जानने...

दिल्ली में आत्मरक्षा के प्रशिक्षण के प्रति सजग हुईं महिलाएं

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:06-01-2013 04:36:06 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

दिल्ली में हुए सामूहिक दुष्कर्म की घटना के बाद राजधानी की हजारों महिलाएं जहां प्रदर्शन के लिए सड़कों पर उतर आईं, तो वहीं कई हमलावर को जवाब देने के लिए आत्मरक्षा से जुड़े प्रशिक्षण ले रही हैं।

रोहिणी स्थित '5 एलिमेंट स्कूल आफ आर्ट्स' के मार्शल आर्ट प्रशिक्षक शिव मक्कड़ ने आईएएनएस से कहा, ''सामूहिक दुष्कर्म की घटना के बाद कई महिलाओं ने आत्मरक्षा से जुड़ी कक्षाओं के लिए हमसे सम्पर्क साधा है।''

उनके मुताबिक उनके स्कूल ने इस घटना के बाद से दो कक्षाएं लेना शुरू किया है।

उन्होंने कहा, ''कई महिलाएं मार्शल आर्ट्स के साथ-साथ स्ट्रीट फाइटिंग का भी प्रशिक्षण लेना चाहती हैं।''

दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में आत्मरक्षा का प्रशिक्षण देने वाले और 'फिटकॉम' नाम की संस्था चलाने वाले सेवानिवृत कैप्टन जयप्रीत जोशी के मुताबिक इस हिंसक घटना के बाद उनसे कई महिलाओं और बच्चों के अभिभावकों ने सम्पर्क किया है।

जोशी ने कहा, ''अचानक से आत्मरक्षा के प्रशिक्षण लेने की लहर दौड़ गई है। यह तब होता है जब शहर में महिलाओं के खिलाफ कोई बड़ी वारदात होती है। हमारे पास 15 से 50 साल की उम्र की महिलाएं अपनी समस्या के साथ आ रही हैं।''

औद्योगिक संस्था एसोचैम द्वारा जारी एक हालिया रपट में यह बात सामने आई है कि रात में काम करने के डर से सूचना प्रौद्योगिकी कम्पनी और कॉल सेंटर में काम करने वाली महिलाओं की संख्या में 40 फीसदी गिरावट आई है और महिलाएं या तो अपने काम के घंटे कम कर रही हैं या फिर नौकरी छोड़ रही हैं।

हालांकि, जोशी का कहना है कि महिलाएं इस तरह की घटना सामने आने पर आवेश में आत्मरक्षा के प्रशिक्षण लेने लगती हैं लेकिन इसे बीच में ही छोड़ देती हैं जिसका कोई फायदा नहीं होता।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड