Image Loading
गुरुवार, 30 मार्च, 2017 | 23:59 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • शुभरात्रि: पढ़ें रात 11 बजे की टॉप खबरें
  • आपकी अंकराशि: जानिए कैसा रहेगा आपका कल का दिन
  • जरूर पढ़ें: दिनभर की 10 बड़ी रोचक खबरें
  • प्राइम टाइम न्यूज़: पढ़े अब तक की 10 बड़ी खबरें
  • धर्म नक्षत्र: नवरात्रि, ज्योतिष, वास्तु से जुड़ी 10 खबरें
  • 'दीया और बाती' फेम सूरज 14 साल छोटी लड़की से करने जा रहे हैं शादी, पढ़ें बॉलीवुड की 10...
  • भाजपा के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी को राष्ट्रपति ने दिया पद्म विभूषण...
  • हिन्दुस्तान Jobs: इंजीनियर, टेक्निकल असिस्टेंट और सीएडी ऑपरेटर की नौकरी के लिए...
  • योगी की अपील: विधायक, मंत्री फालतू खर्चे से बचें, करें मर्यादित व्यवहार, पढ़ें...
  • टॉप 10 न्यूज़: Video में देखें, अब तक की देश की बड़ी खबरें
  • स्पोर्ट्स अपडेटः विराट बोले, मेरे बयान को बेवजह तिल का ताड़ बनाया, पढ़ें क्रिकेट...
  • महाकौशल एक्सप्रेस की आठ बोगी पटरी से उतरी, देखें हादसे की तस्वीरें...
  • बॉलीवुड मिक्स: इतिहास बन जाएगा रीगल हॉल, राज कपूर की 'संगम' होगी आखिरी फिल्म, यहां...
  • सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक का मुद्दा संवैधानिक पीठ के पास भेजा, सुनवाई 11 मई से।
  • वित्त विधेयक 2017 को संसद की मंजूरी, लोकसभा ने राज्यसभा के संशोधनों को खारिज किया।
  • टीवी गॉसिप: कपिल के शो में दिखेंगी दिग्‍गज कॉमेडियन जॉनी लीवर की बेटी जैमी।...
  • सीएम योगी आदित्यनाथ ने विधानसभा के पहले भाषण में कहा, सदन को चर्चा का मंच बनाना...
  • आंध्र प्रदेश: पश्चिम गोदावरी जिले के मोगल्थुर इलाके में एक फूड प्रोसेसिंग...
  • स्वाद-खजाना: नवरात्रि स्पेशल रेसिपी- ऐसे बनाएं साबूदाना मूंगफली बौंडा, क्लिक कर...
  • टॉप 10 न्यूज: रविंद्र गायकवाड़ के समर्थन में शिवसेना, कहा-गुंडों की तरह बर्ताव कर...
  • स्पोर्ट्स-स्टार: विराट पर 'बेतुका' बयान देने वाले ब्रैड हॉज ने मांगी माफी, यहां...
  • हिन्दुस्तान Jobs: नेशनल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड में चाहिए 205 एडमिनिस्ट्रेटिव...
  • बॉलीवुड मसाला: कपिल और सोनी चैनल ने ढूंढ लिया सुनील का ऑप्शन, शो में होगी नई...
  • टॉप 10 न्यूज: सुप्रीम कोर्ट में आज तीन तलाक, निकाह-हलाला और बहुविवाह पर सुनवाई,...
  • हेल्थ टिप्स: लू के साथ-साथ मुहांसों से भी बचाता है कच्‍चा आम, पढें 5 फायदे
  • हिन्दुस्तान ओपिनियन: पाकिस्तान मामलों के विशेषज्ञ सुशांत सरीन का विशेष लेख-...
  • ईपेपर हिन्दुस्तान: आज का समाचार पत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।
  • आपका राशिफल: मिथुन राशि वालों को किसी सम्‍पत्‍ति से आय के स्रोत विकसित हो सकते...
  • टॉप 10 न्यूज : महोबा रेल हादसा-महाकौशल एक्सप्रेस के 6 डिब्बे पटरी से उतरे, 9 घायल,...
  • सक्सेस मंत्र : कोई भी काम करने से पहले एक बार सोच लें, क्लिक कर पढ़ें

मुख्यमंत्री ने की शिंदे से शिकायत, पीड़िता के बयान दर्ज करने में पुलिस उच्चाधिकारी दे रहे हैं दखल

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:25-12-2012 02:57:57 PMLast Updated:25-12-2012 03:35:30 PM

दिल्ली में हुए सामूहिक बलात्कार की पीड़िता का बयान दर्ज करने के मामले में एक विवाद पैदा हो गया है। दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे से शिकायत की है कि पुलिस के कुछ वरिष्ठ अधिकारियों ने इस पूरे कार्य में हस्तक्षेप किया है। शीला ने इस मामले में उच्च स्तरीय जांच की भी मांग की।

शिंदे को लिखे एक पत्र में दीक्षित ने उपायुक्त (पूर्व) बी एम मिश्रा द्वारा किए गए पत्राचार का उल्लेख किया है। उस पत्राचार के अनुसार, उप मंडलीय मजिस्ट्रेट उषा चर्तुवेदी ने शिकायत की थी कि जब वह पीड़िता का बयान दर्ज कर रही थीं, तो वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने हस्तक्षेप किया था।

गृह मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि वे मुख्यमंत्री की इस शिकायत की जांच के आदेश दे सकते हैं। यह जांच दल एक महिला अफसर की अध्यक्षता में काम करेगा। गृह मंत्रालय के अधिकारी ने कहा कि हम इस शिकायत को बहुत गंभीरता से ले रहे हैं।

दिल्ली सरकार के सूत्रों ने कहा कि उपायुक्त की ओर से भेजे गए पत्र को लेकर मुख्यमंत्री बहुत दुखी थीं। उन्होंने इस पूरे मामले की जांच की मांग करते हुए शिंदे को पत्र लिखने का फैसला किया है।

उन्होंने कहा कि इस शिकायत में एसडीएम ने कहा था कि अधिकारियों ने उन्हें पीड़िता के बयान की वीडियो रिकॉर्डिंग नहीं करने दी। इसमें पुलिस के अधिकारियों पर यह आरोप भी लगाया गया कि वे चाहते थे एसडीएम उनकी बनाई प्रश्नावली का इस्तेमाल करें।

सूत्रों के मुताबिक, जब एसडीएम ने ऐसा करने से इंकार किया तो पुलिस के अधिकारियों ने उनके साथ बुरा बर्ताव किया। पुलिस ने एसडीएम की ओर से लगाए गए इन सारे आरोपों से इंकार करते हुए दावा किया कि पीड़िता से बयान लेने के दौरान उसकी मां ने इस बात पर जोर दिया था कि इसकी वीडियोग्राफी न की जाए।

पुलिस के सूत्रों ने कहा कि एसडीएम की ओर से जिन तीन पुलिस अधिकारियों का नाम लिया गया वे उस समय अस्पताल के कमरे में थे ही नहीं, जब पीड़िता का बयान दर्ज किया गया। उन्होंने कहा कि मजिस्ट्रेट छात्रा से कोई भी सवाल पूछने के लिए पूरी तरह स्वतंत्र थीं।

सूत्रों ने कहा कि बयान के नीचे पीड़िता के हस्ताक्षर हैं और यह दर्शाता है कि इसे किसी भी दबाव के बिना दर्ज किया गया था। उन्होंने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो वे नया बयान दर्ज कराने में भी मदद करने के लिए तैयार हैं।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड