Image Loading
रविवार, 22 जनवरी, 2017 | 23:51 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • INDvENG : इंग्लैंड ने भारत को तीसरे वनडे में 5 रन से हराया
  • INDvENG : भारत का आठवां विकेट गिरा, अश्विन 1 रन बनाकर आउट। स्कोर 297/8
  • INDvENG : भारत का सातवां विकेट गिरा, जडेजा 10 रन बनाकर आउट। स्कोर 291/7
  • INDvENG : भारत का छठा विकेट गिरा, हार्दिक 56 रन बनाकर आउट। स्कोर 277/6
  • INDvENG : भारत का पांचवां विकेट गिरा, धौनी आउट। स्कोर 177/5
  • यूपी विधानसभा चुनाव: सपा ने 77 उम्मीदवारों की एक और लिस्ट जारी की
  • यूपी विधानसभा चुनाव: भाजपा ने 155 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी की, राजनाथ सिंह के...
  • साइना नेहवाल ने जीता मलेशिया मास्टर्स बैडमिंटन टूर्नामेंट, पूरी खबर पढ़ने के...
  • साइना नेहवाल ने मलेशियाई मास्टर्स ग्रां प्री गोल्ड टूनार्मेंट का खिताब जीता।
  • यूपी के लिए सपा का घोषणा पत्रः अखिलेश बोले- आगरा, कानपुर, मेरठ, वाराणसी में मेट्रो...
  • आंध्र प्रदेशः जगदलपुर-भुवनेश्वर एक्सप्रेस हादसे में मरने वालों की संख्या...
  • पढ़ें आज के हिन्दुस्तान में शशि शेखर का ब्लॉग: उत्तर प्रदेश की कायर कथा
  • आंध्र प्रदेश रेल हादसा: रेलवे का मृतकों के परिजनों को 2 लाख रुपये मुआवजे का ऐलान।
  • मौसम अलर्टः दिल्ली-एनसीआर में न्यूनतम तापमान 8, लखनऊ और देहरादून में 7 डिग्री...
  • आंध्र प्रदेश रेल हादसे पर चंद्रबाबू नायडू बोले, अपनों को खोने वाले परिवारों के...
  • GOOD MORNING: आज का हिन्दुस्तान अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें।
  • गुड़हल की चाय पीने से कम होगा वजन, इन 2 फूलों की भी पिएं चाय
  • आंध्र प्रदेश रेल हादसे में 23 की मौत, सपा-कांग्रेस में नहीं होगा गठबंधन, पढे़ं...
  • आंध्र प्रदेश रेल हादसा: हीराखंड एक्सप्रेस पटरी से उतरी, 23 की मौत

खिलौनों में छुपा स्मार्टनेस का राज

पायल गिरी First Published:06-12-2012 12:38:29 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
खिलौनों में छुपा स्मार्टनेस का राज

बच्चों के प्रति अपना प्यार जताने के लिए आप उन्हें खूब सारे खिलौने देते हैं। आपका ऐसा करना उन्हें अच्छा भी लगता है। पर उनके लिए उपहार खरीदते समय उनकी उम्र और सेहत का ध्यान रखें। किस उम्र में उनके लिए कौन से खिलौने उपयोगी होंगे, बता रही हैं पायल गिरी

बच्चों पर दुलार और प्यार दिखाने के लिए हम उनके जन्म से लेकर दस साल की उम्र तक उन पर खिलौनों की बौछार कर देते हैं। लेकिन खिलौने सिर्फ खेल या मनोरंजन के लिए नहीं होते। खिलौने बच्चों को बहुत कुछ सिखाते भी हैं, इसलिए इनके चुनाव में खास सावधानी बरतने की आवश्यकता होती है। यहां कुछ बातें बतायी जा रही हैं, जो खिलौने खरीदते समय आपकी दुविधा दूर करने में मदद करेंगी।

खरीदारी में रखें उम्र का ख्याल
खिलौना हमेशा बच्चे की उम्र के हिसाब से ही खरीदें। बच्चा बाद में खेल लेगा, यह सोच कर खिलौनों को जमा ना करें। जोश और खुशी में लोग ऐसे खिलौने खरीद लेते हैं, जिनकी उस वक्त जरूरत नहीं होती। बच्चा जैसे-जैसे बड़ा होता है, उसकी जरूरतें बदलती हैं। बाजार में कुछ गेम्स ऐसे हैं, जो बच्चों को उनकी उम्र के मुताबिक नई चीजें सिखाने में मदद करते हैं। दो साल के बच्चे को यदि वॉकर दिया जाए तो शायद वह उसके लिए उपयोगी साबित नहीं होगा।

एक साल तक के बच्चों के लिए: हाथ में पकड़ने वाले खिलौने, म्यूजिक वाला मोबाइल खिलौना, सॉफ्ट टॉयज (जैसे भालू, बिल्ली, कुत्ता आदि)। बच्चों को आईना देखना पसंद होता है, इसलिए ऐसा आईना भी खरीद सकते हैं, जो जल्दी टूटे नहीं। इसके अलावा बच्चा बहुत छोटा है तो उसके पालने में लगाने के लिए विंड चाइम्स खरीद सकते हैं।

2 से 3 साल के बच्चों के लिए: बड़ी-बड़ी तस्वीरों और अक्षरों वाली किताबें, गेंद, बच्चियों के लिए किचन की सामग्री वाले खिलौने, लकड़ी और प्लास्टिक के बने हुए खांचे, जिन्हें जोड़ कर कोई आकार दिया जा सके, चलने वाले खिलौने, इलेक्ट्रॉनिक साइकिल आदि खिलौने खरीदे जा सकते हैं।

4 से 5 साल के बच्चों के लिए: पहेलियों वाले खिलौने, किताबें, चित्र बनाने वाली कॉपियां, रंग, विभिन्न आकार और अक्षर बनाने के लिए क्ले, घर बनाने वाले ब्लॉक्स, बैट बॉल इस उम्र के लिए उपयोगी हैं। बढ़ती उम्र में बच्चों को इलेक्ट्रॉनिक खिलौने पसंद आते हैं, इसलिए उन्हें ऐसे खिलौने दिए जा सकते हैं। बच्चों को रफटफ बनाना चाहते हैं तो बाजार से सीढ़ी खरीद सकते हैं। बच्चे इस पर लटक कर चढ़ना सीखते हैं।

6 से 8 साल के बच्चों के लिए: इस उम्र में आते-आते बच्चों को आउट डोर गेम्स से जोड़ना शुरू कर देना चाहिए। बच्चों को बैट बॉल, बैडमिंटन, फुटबॉल, साइकलिंग आदि सिखाया जाना चाहिए। कैरम और चेस भी ठीक रहेगा। दिमाग तेज करने के लिए कुछ वीडियो गेम भी दे सकते हैं और दूरबीन, इलेक्ट्रॉनिक कार, कहानियों की किताबें आदि भी।

9 साल से बड़े बच्चों के लिए: खेल-कूद की चीजें जैसे- रस्सी कूदने वाला खिलौना, बैट बॉल, बास्केट बॉल, बैडमिंटन, टेनिस, वीडियो गेम, बोर्ड गेम, सजने-संवरने की किट, कृत्रिम गहने (जैसे हाथों के लिए ब्रेसलेट आदि), फोटो फ्रेम आदि।

इनका भी रखें ख्याल
खिलौना खरीदने के लिए पहले से बजट तय कर लें।
बच्चों को रंग-बिरंगी चीजें अच्छी लगती हैं, इसलिए ऐसे खिलौनों की खरीदारी पर जोर दें, जिनमें खूब सारे रंग हों। इससे बच्चे रंग पहचानना सीखते हैं।
बच्चों के लिए बाकी सदस्यों के साथ मिल कर खेलने वाले खिलौने खरीदें। इससे वे समूह में रहना सीखते हैं, जैसे लूडो, कैरम, बैडमिंटन, क्रिकेट आदि।
कोई ऐसा खिलौना न खरीदें, जो बच्चे को अंतर्मुखी बना दे। कई बार बच्चे अपने गुड्डे और गुडियों के साथ इतने रम जाते हैं कि उन्हें वे खिलौने भाई-बहनों की तरह लगने लगते हैं।
बॉक्स, क्ले और पजल्स जैसे खिलौनों से बच्चों का दिमाग खुलता है और मानसिक क्षमता मजबूत होती है।
खिलौने की गुणवत्ता का भी ध्यान रखें। इस बात की पुष्टि पहले करें कि खिलौना किस मैटीरियल से बना है।
खिलौना नुकीला या धारदार ना हो।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड