Image Loading
गुरुवार, 26 मई, 2016 | 16:14 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • हरियाणा में रोडवेज की बस में धमाका, 9 लोग घायल
  • मानसून पर मौसम विभाग का पूर्वानुमान, केरल में 7 जून को मानसून पहुंचेगा
  • जम्मू कश्मीर के नौगांव में सुरक्षा बलों ने तीन आतंकवादियों को मार गिराया।
  • शेयर बाजार: सेंसेक्स 353 अंक चढ़कर इस साल के उच्चत्तम स्तर 26,260 पर पंहुचा, निफ़्टी 8026
  • पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने नवसृजित पिछड़ा वर्ग (सी) श्रेणी के तहत जाटों तथा...
  • मुंबईः केमिकल फैक्ट्री में धमाका, तीन लोगों की मौत, 20 से अधिक लोग घायल
  • गर्मी से परेशान एक शख्स ने सूरज के खिलाफ पुलिस में की शिकायत
  • बीजेपी और पीएम मोदी ने जो वादे किए थे वो पूरे नहीं हुए हैं: मनीष तिवारी (कांग्रेस)
  • मोदी सरकार के 2 सालः 14 विवाद, जिन पर हुआ हंगामा
  • कैसे रहे मोदी सरकार के दो साल? जानें आम जनता और एक्सपर्ट्स की राय

चारा घोटाले में 69 लोग दोषी, 16 बरी

रांची, एजेंसी First Published:03-05-2012 01:48:42 PMLast Updated:03-05-2012 01:49:16 PM
चारा घोटाले में 69 लोग दोषी, 16 बरी

केंद्रीय जांच ब्यूरो की एक अदालत ने चारा घोटाला मामले में गुरुवार को 69 लोगों को दोषी ठहराया और 16 को बरी कर दिया है। अदालत ने 29 लोगों को एक से तीन साल तक की कैद और 25,000 से दो लाख रुपये तक का जुर्माना भरने की सजा सुनाई है। अन्य के खिलाफ सजा सात मई को सुनाई जाएगी।

अदालत ने यहां 90 के दशक की शुरुआत में दोरांदा खजाने से धोखाधड़ी से 45 करोड़ रुपये से ज्यादा की राशि निकालने के आरसी 31 ए/96 मामले में यह फैसला सुनाया।

पशुपालन विभाग से सम्बंधित इस घोटाले (चारा घोटाले) में 111 आरोपी थे। लम्बी सुनवाई के दौरान कुछ अभियुक्तों की तो मौत हो गई और कई अन्य सीबीआई के गवाह बन गए।

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव व जगन्नाथ मिश्र घोटाले से जुड़े पांच मामलों में अभियुक्त हैं। रांची में सीबीआई अदालतों में उनकी सुनवाई जारी है। यादव के खिलाफ 1997 में गिरफ्तारी वारंट जारी होने के बाद उन्हें मुख्यमंत्री पद छोड़ना पड़ा था।

90 के दशक के अविभाजित बिहार में चारा घोटाला उस वक्त सुर्खियों में छा गया था, जब अधिकारियों व राजनेताओं पर पशुओं का चारा खरीदने के नाम पर जनता के पैसे का गैरकानूनी तरीके से इस्तेमाल करने का आरोप लगा।

घोटाले में कुल 61 मामले दर्ज किए गए। बाद में 53 मामले साल 2000 में बिहार के विभाजन से बने झारखण्ड में स्थानांतरित कर दिए गए। रांची में सीबीआई की अलग-अलग अदालतों ने 41 मामलों में फैसला सुनाया है।

 

 
 
 
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
Bihar Board Result 2016
Assembely Election Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट