Image Loading दिल्ली गैंगरेप कांड सुनियोजित था: पुलिस आरोपपत्र - LiveHindustan.com
गुरुवार, 05 मई, 2016 | 19:45 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के छठे और अंतिम चरण में 84.24 प्रतिशत मतदान: निर्वाचन...
  • यूपी बोर्ड का हाईस्कूल व इंटरमीडिएट रिजल्ट 15 मई को आएगा।
  • अन्नाद्रमुक ने स्कूटर मोपेड खरीदने के लिए महिलाओं को 50 प्रतिशत सब्सिडी देने,...
  • अन्नाद्रमुक ने तमिलनाडु विधानसभा चुनाव के लिए अपने घोषणापत्र में सब के लिए 100...
  • तमिलनाडुः अन्नाद्रमुक ने सभी राशन कार्ड धारकों को मुफ्त मोबाइल फोन देने का...
  • मध्यप्रदेश: सिंहस्थ कुंभ में तेज बारिश और आंधी से गिरे पांडाल, 4 की मौत
  • अगस्ता वेस्टलैंड मामला: पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी के तीनों करीबी...
  • सेंसेक्स 160.48 अंक की बढ़त के साथ 25,262.21 और निफ्टी 28.95 अंक चढ़कर 7,735.50 पर बंद
  • वाईस एडमिरल सुनील लांबा होंगे नौसेना के अगले प्रमुख, 31 मई को संभालेंगे पद
  • यूपी सरकार ने केंद्र सरकार से बुंदेलखंड के लिए पानी के टैंकर मांगें-टीवी...
  • स्टिंग ऑपरेशन: हरीश रावत को सीबीआई ने सोमवार को पूछताछ के लिए बुलाया: टीवी...
  • नोएडा: स्कूल बसों और ऑटो की टक्कर में इंजीनियर लड़की समेत 2 की मौत। क्लिक करें

दिल्ली गैंगरेप कांड सुनियोजित था: पुलिस आरोपपत्र

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:03-01-2013 10:40:39 PMLast Updated:04-01-2013 01:39:47 AM
दिल्ली गैंगरेप कांड सुनियोजित था: पुलिस आरोपपत्र

राष्ट्रीय राजधानी में 23 वर्षीय छात्रा से हुए सामूहिक बलात्कार के मामले में दिल्ली पुलिस ने सभी पांच आरोपियों के खिलाफ गुरुवार को अदालत में आरोपपत्र दाखिल कर दिया। पुलिस ने कहा कि यह घटना सुनियोजित थी।

पीड़िता की मौत हो जाने के चलते इसमें आरोपियों को फांसी के फंदे तक पहुंचाने वाले हत्या के आरोप सहित कई आरोप लगाये गए हैं। इस वीभत्स घटना के बाद देश भर में विरोध प्रदर्शन हुआ है।

छात्रा की 29 दिसंबर को सिंगापुर के एक अस्पताल में मौत हो गयी थी। उसके साथ 16 दिसंबर को एक चलती बस में सामूहिक बलात्कार किया गया था और उसे बर्बरता से पीटा भी गया था।

आरोप पत्र में इस मामले के आरोपी राम सिंह, उसके भाई मुकेश और साथी पवन गुप्ता, विनय शर्मा और अक्षय ठाकुर के खिलाफ भारतीय दंड संहिता के तहत हत्या, बलात्कार, हत्या का प्रयास, अपहरण, डकैती, लूट के लिये मारपीट, साक्ष्य नष्ट करने, आपराधिक साजिश रचने जैसे आरोप लगाये गये हैं। इस मामले में छठा आरोपी किशोर है और किशोर न्याय बोर्ड में उसके खिलाफ मुकदमा चलेगा। दिल्ली पुलिस ने 33 पृष्ठों के इस आरोप पत्र में किशोर आरोपी की भूमिका का भी जिक्र किया है।

पुलिस ने कई दस्तावेजों के साथ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट सूर्य मलिक ग्रोवर की अदालत में आरोप पत्र दाखिल किया। अभियोजन पक्ष ने अदालत से अनुरोध किया कि इस दस्तावेज को बंद लिफाफे में रखा जाए ताकि पीड़िता की पहचान जाहिर नहीं हो और मामले की कार्यवाही अदालत के बंद कमरे में हो।

अभियोजन पक्ष ने दलील दी कि इस वारदात को सुनियोजित तरीके से अंजाम दिया गया। अभियोजन पक्ष ने कहा कि वारदात को अंजाम देने में प्रत्येक आरोपी ने एक खास भूमिका निभाई। इसलिए वे अपराध के लिए समान रूप से जिम्मेदार हैं। पुलिस ने आज शाम साढ़े पांच बजे आरोप पत्र दाखिल किया।

इस पर न्यायाधीश ने लोक अभियोजक से देर से आरोपपत्र दाखिल करने का कारण पूछा। बहरहाल, अदालत ने इस मामले की सुनवाई पांच जनवरी के लिए मुल्तवी कर दी। लोक अभियोजक राजीव मोहन ने बताया कि जांचकर्ताओं को अधिक संख्या में दस्तावेज और आरोपपत्र को क्रम में लगाने में देरी हो गयी।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट