Image Loading
सोमवार, 27 फरवरी, 2017 | 00:41 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • बिहार आईएएस अफसरों ने कहा, मुख्यमंत्री का भी मौखिक आदेश नहीं मानेंगे, पूरी खबर...
  • 1 मार्च से 5वें ट्रांजेक्शन पर देना होगा 150 रुपए टैक्स, पूरी खबर पढ़ने के लिए क्लिक...
  • अखिलेश का पीएम पर वार, कहा- देश को अपने किए काम बताएं मोदी, पूरी खबर के लिए क्लिक...
  • जनता के मुद्दे हमारे लिए महत्वपूर्णः यूपी सीएम अखिलेश यादव
  • महाराजगंज में बोले अखिलेश यादव, जनता अभी तक मोदी के मन की बात नहीं समझ पाई
  • मन की बात में बोले पीएम मोदी, अब तक DIGI धन योजना के तहत 10 लाख लोगों को इनाम दिया गया
  • मन की बात में बोले पीएम मोदी, ISRO ने देश का सिर ऊंचा किया
  • सपा की धुआंधार सभाएं आज, लालू यादव भी प्रचार करने उतरेंगे मैदान में। पूरी खबर...
  • मौसम अलर्टः दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना, देहरादून और रांची में रहेगी हल्की धूप।...
  • पढ़ें आज के हिन्दुस्तान में शशि शेखर का ब्लॉग: पानी चुनावी मुद्दा क्यों नहीं?
  • आज का हिन्दुस्तान अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें।
  • राशिफलः मिथुन राशिवाले आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे और परिवार का सहयोग...
  • Good Morning: BMC चुनाव: कांग्रेस ने शिवसेना को समर्थन देने से किया इंकार, चुनाव आयोग ने...

गायब हो गई हैं गुप्त ब्रिटिश औपनिवेशिक फाइलें

लंदन, एजेंसी First Published:01-12-2012 10:33:22 AMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
गायब हो गई हैं गुप्त ब्रिटिश औपनिवेशिक फाइलें

ब्रिटेन के पूर्व औपनिवेशिक प्रशासन की शीर्ष गुप्त फाइलों से भरे लगभग 170 बक्से गायब हो गए हैं। सरकार का कहना है कि उसके पास केवल सिंगापुर से जुड़ी फाइलों की जानकारी है, जिन्हें 1990 के दशक में नष्ट कर दिए जाने के उसके पास कुछ सबूत हैं।

संसद में दिए गए एक बयान में विदेश और राष्ट्रमंडल कार्यालय (एफसीओ) के मंत्री डेविड लिडिंगटन ने कल कहा कि विभाग को पता है कि ब्रिटेन के पूर्व उपनिवेशों ने ये फाइलें ब्रिटेन को लौटा दी थीं लेकिन इसके बाद इन फाइलों का क्या हुआ, इसकी जानकारी उनके पास नहीं है।

लिडिंगटन ने कहा कि एफसीओ अभी भी इस बात की पुष्टि करने में असमर्थ है कि ये 170 बक्से मौजूद हैं या नष्ट हो गए। उन्होंने कहा कि इस बात के कुछ सबूत हैं कि सिंगापुर से संबंधित शीर्ष गुप्त फाइलें 1990 के दशक में समीक्षा के दौरान नष्ट कर दी गयी थीं।

एफसीओ ने अभी भी गायब फाइलों या उनके नष्ट होने के सबूतों का पता लगाने का काम जारी रखा है। एफसीओ ने फाइलों के गायब होने की बात ऐसे समय में कही है जब केन्या और साइप्रस में ब्रिटेन के विवादस्पद गतिविधयों से जुड़ी गुप्त औपनिवेशिक फाइलें, दक्षिण पश्चिम लंदन में द नेशनल आर्काइव्स में सार्वजनिक रूप से उपलब्ध करा दी गयी हैं।

केन्या से जुड़ी फाइलें 1963 में केन्या को आजादी मिलने से थोड़े समय पहले सामने आयी थीं। इनसे वृद्ध केन्याइयों के अदालत में किए गए उन दावों को बल मिला था, जिसमें उन्होंने ब्रिटिश सेना द्वारा वर्ष 1950 में किए गए माउ माउ क्रांति के दमन के दौरान उन्हें प्रताडित किए जाने की बात कही थी। अब ये फाइलें आम जनता के लिए सार्वजनिक कर दी गयी हैं।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड