Image Loading
शुक्रवार, 27 मई, 2016 | 10:03 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • सेंसेक्स 140 अंक उछला, निफ्टी हुआ 8100 के पार
  • बिहार: मनोरमा देवी की जमानत याचिका खारिज, टीवी रिपोर्ट्स
  • नासिक में आज सुबह भूमाता ब्रिगेड की प्रमुख तृप्ति देसाई पर हमला, अस्पताल में...
  • राजस्थान के राजसमंद में सड़क हादसा, 11 लोगों की मौत
  • देहरादून में मौसम का हालः आसमान में धुंध छाई रहेगी, गर्मी से राहत नहीं, न्यूनतम...
  • रांची में मौसम का हालः आसमान में धुंध छाई रहेगी, न्यूनतम तापमान 22 डिग्री, अधिकतम...
  • पटना में मौसम का हालः गर्मी से राहत नहीं, न्यूनतम तापमान 27 डिग्री, अधिकतम तापमान 39...
  • लखनऊ में मौसम का हालः बादल छाए रहेंगे, उमस रहेगी, न्यूनतम तापमान 26 डिग्री, अधिकतम...
  • दिल्ली में मौसम का हालः न्यूनतम तापमान 31 डिग्री सेल्सियस, अधिकतम 42 डिग्री...
  • आज 41 मंत्रियों के साथ पश्चिम बंगाल के सीएम पद की शपथ लेंगी ममता बनर्जी
  • जम्मू-कश्मीर के बारामूला में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ जारी

संतों की शिक्षा स्कूल पाठ्यक्रम में हो शामिल: आडवाणी

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:04-01-2013 02:52:06 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
संतों की शिक्षा स्कूल पाठ्यक्रम में हो शामिल: आडवाणी

भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने आज सुझाव दिया कि स्कूलों में पढ़ाए जाने वाले इतिहास में केवल राजाओं की कहानियों की बजाय साधुओं और संतों के बारे भी बताया जाना आवश्यक है।
   
अपने नए ब्लॉग में उन्होंने लिखा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि हमारे साधुओं-संतों के असाधारण योगदान को बच्चों से आमतौर पर दूर रखा गया है, और अक्सर यह दुहाई दी जाती है कि एक धर्मनिर्पेक्ष देश में धर्म से जुड़ा कोई भी पहलू वर्जित है। यह एक बेतुका दृष्टिकोण है।
   
उन्होंने कहा कि अगर स्वामी दयानंद सरस्वती, श्री रामकृष्ण परमहंस और स्वामी विवेकानंद जैसे संतों की शिक्षाओं और आदर्शों को सामान्य पाठ्यक्रम का हिस्सा बनाया जाता है तो इससे हमारे स्कूली अध्ययन का स्तर बढ़ेगा।
   
इस बात को आडवाणी ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया कि अभी हमारे स्कूलों की इतिहास की पढ़ाई पूरी तरह राजाओं, राजवंशों और उनके बीच युद्धों से उनके लाभ-हानि पर केन्द्रित हैं और पाठ्यक्रमों में उस समय के साधु संतों का कोई उल्लेख नहीं है, जिन्होंने समाज को किसी ना किसी रूप में अत्यधिक प्रभावित किया है।
   
उन्होंने सुझाव दिया कि जिस तरह आई क्यू (बौद्धिक पुट) के बाद अब एम क्यू (भावानात्मक पुट) पर जोर दिया जाने लगा है, उसी तरह हमें एस क्यू यानी आध्यात्मिक पुट पर भी ध्यान देना चाहिए।
   
भाजपा नेता ने कहा कि एस क्यू की बात करते हुए उनके मन में कोई भी धर्म या पंथ नहीं है, बल्कि उनके मन में केवल यह है कि एक छात्र अपने शिक्षण संस्थान से क्या नैतिक मूल्य ग्राहय करता है।

 
 
 
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
Bihar Board Result 2016
Assembely Election Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
बांगड़ होंगे जिम्बाब्वे सीरीज के लिए भारतीय टीम के कोचबांगड़ होंगे जिम्बाब्वे सीरीज के लिए भारतीय टीम के कोच
भारत और रेलवे के पूर्व आल राउंडर संजय बांगड़ को राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के आगामी जिम्बाब्वे दौरे के लिए गुरुवार को कोच नियुक्त किया गया जबकि भरत अरुण और आर श्रीधर को सहयोगी स्टाफ में कोई जगह नहीं दी गई।