Image Loading
सोमवार, 27 मार्च, 2017 | 08:16 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • पंजाब: गुरदासपुर में BSF जवानों ने पहाड़ीपुर पोस्ट के पास एक पाकिस्तानी...
  • हेल्थ टिप्स: सीढ़ी चढ़ने से कम होता है हार्ट अटैक का खतरा, क्लिक कर पढ़ें
  • मौसम दिनभर: दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना, रांची और लखनऊ में होगी तेज धूप।
  • ईपेपर हिन्दुस्तान: आज का समाचार पत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।
  • आपका राशिफल: मिथुन राशि वालों के आय में वृद्धि होगी, अन्य राशियों का हाल जानने के...
  • सक्सेस मंत्र: अवसर जरूर द्वार खटखटाते हैं, बस पहचानना आना चाहिए, क्लिक कर पढ़ें
  • टॉप 10 न्यूज: कश्मीर में आतंक-PDP मंत्री के घर पर हमला, दो पुलिसकर्मी हुए घायल, अन्य...

फेसबुक पोस्ट विवाद में पालघर के मजिस्ट्रेट का तबादला

मुंबई, एजेंसी First Published:27-11-2012 01:47:41 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
फेसबुक पोस्ट विवाद में पालघर के मजिस्ट्रेट का तबादला

बाल ठाकरे के अंतिम संस्कार के दिन मुंबई बंद को लेकर फेसबुक पर टिप्पणी करने वाली दो लड़कियों की गिरफ्तारी के एक हफ्ते बाद बंबई उच्च न्यायालय ने उन्हें न्यायिक हिरासत में भेजने और फिर जमानत देने वाले मजिस्ट्रेट का तबादला कर दिया है।

उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार ने कल स्थानांतरण आदेश जारी किए जिसके बाद इससे गृह मंत्रालय, मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी और ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी आऱ जी़ बगाड़े को अवगत करा दिया गया।

आदेश में कहा गया है, पालघर में प्रथम श्रेणी के न्यायिक दंडाधिकारी आऱ जी़ बगाड़े को तत्काल प्रभाव से जलगांव स्थानांतरित किया जा रहा है। ठाकरे के अंतिम संस्कार पर 18 नवम्बर को मुंबई बंद को लेकर शाहीन ढांडा ने फेसबुक पर एक टिप्पणी लगाई थी और रेणु श्रीनिवासन ने इसे लाइक किया था। इसे लेकर पिछले सोमवार को दोनों को गिरफ्तार किया गया था।

बाद में लड़कियों को मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया, जिन्होंने उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया और बाद में 15-15 हजार रुपये के मुचलके पर जमानत दे दी।

इस घटना से कानूनविदों में बहस छिड़ गई कि लड़कियों को जमानत देने के बजाए उन्हें मामले से बरी किया जा सकता था, क्योंकि उन पर गलत धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था।

इस पर महाराष्ट्र सरकार ने पुलिस महानिरीक्षक सुखविंदर सिंह की अध्यक्षता में एक जांच का गठन किया जिन्होंने डीजीपी कार्यालय को गिरफ्तारी पर अपनी रिपोर्ट सौंप दी।

रिपोर्ट में लड़कियों की गिरफ्तारी करने वाले पुलिसकर्मियों को दोषी पाया गया और कहा गया कि गिरफ्तारी नहीं होनी चाहिए थी। इसके बाद महाराष्ट्र पुलिस ने संबंधित पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई का वादा किया।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड