Image Loading फेसबुक पोस्ट विवाद में पालघर के मजिस्ट्रेट का तबादला - LiveHindustan.com
मंगलवार, 03 मई, 2016 | 23:44 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल 9: दिल्ली डेयरडेविल्स ने गुजरात लायंस को आठ विकेट से हराया।
  • आईपीएल 9: गुजरात लायंस ने दिल्ली डेयरडेविल्स के सामने 150 रन का लक्ष्य रखा
  • माल्या का त्यागपत्र प्रक्रिया के अनुरूप नहीं, इस पर वास्तविक हस्ताक्षर नहीं:...
  • राज्यसभा अध्यक्ष हामिद अंसारी ने प्रक्रियागत आधार पर विजय माल्या का इस्तीफा...
  • आईपीएल 9: दिल्ली डेयरडेविल्स ने गुजरात लायंस के खिलाफ टॉस जीता, पहले फील्डिंग का...
  • आगस्ता घूसकांड पर सोनिया गांधी के घर पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की बैठक: टीवी...
  • नीट मामलाः सुप्रीम कोर्ट ने राज्यों के इस साल अलग परीक्षा कराने की इजाजत पर...

फेसबुक पोस्ट विवाद में पालघर के मजिस्ट्रेट का तबादला

मुंबई, एजेंसी First Published:27-11-2012 01:47:41 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
फेसबुक पोस्ट विवाद में पालघर के मजिस्ट्रेट का तबादला

बाल ठाकरे के अंतिम संस्कार के दिन मुंबई बंद को लेकर फेसबुक पर टिप्पणी करने वाली दो लड़कियों की गिरफ्तारी के एक हफ्ते बाद बंबई उच्च न्यायालय ने उन्हें न्यायिक हिरासत में भेजने और फिर जमानत देने वाले मजिस्ट्रेट का तबादला कर दिया है।
    
उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार ने कल स्थानांतरण आदेश जारी किए जिसके बाद इससे गृह मंत्रालय, मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी और ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी आऱ जी़ बगाड़े को अवगत करा दिया गया।
    
आदेश में कहा गया है, पालघर में प्रथम श्रेणी के न्यायिक दंडाधिकारी आऱ जी़ बगाड़े को तत्काल प्रभाव से जलगांव स्थानांतरित किया जा रहा है। ठाकरे के अंतिम संस्कार पर 18 नवम्बर को मुंबई बंद को लेकर शाहीन ढांडा ने फेसबुक पर एक टिप्पणी लगाई थी और रेणु श्रीनिवासन ने इसे लाइक किया था। इसे लेकर पिछले सोमवार को दोनों को गिरफ्तार किया गया था।
    
बाद में लड़कियों को मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया, जिन्होंने उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया और बाद में 15-15 हजार रुपये के मुचलके पर जमानत दे दी।
    
इस घटना से कानूनविदों में बहस छिड़ गई कि लड़कियों को जमानत देने के बजाए उन्हें मामले से बरी किया जा सकता था, क्योंकि उन पर गलत धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था।
    
इस पर महाराष्ट्र सरकार ने पुलिस महानिरीक्षक सुखविंदर सिंह की अध्यक्षता में एक जांच का गठन किया जिन्होंने डीजीपी कार्यालय को गिरफ्तारी पर अपनी रिपोर्ट सौंप दी।
    
रिपोर्ट में लड़कियों की गिरफ्तारी करने वाले पुलिसकर्मियों को दोषी पाया गया और कहा गया कि गिरफ्तारी नहीं होनी चाहिए थी। इसके बाद महाराष्ट्र पुलिस ने संबंधित पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई का वादा किया।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट