Image Loading
गुरुवार, 27 अप्रैल, 2017 | 16:21 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • हैरतअंगेज' धौनी, स्टंप बिना देखे ऐसे नरेन को रनआउट किया, पढ़ें क्रिकेट और अन्य...
  • बॉलीवुड के 'अमर' विनोद खन्ना का निधनः दिग्गजों ने ऐसे किया आखिरी सलाम, यहां पढ़ें...
  • यूपी के गोंडा में जनसेवा एक्सप्रेस के एस्सेल बॉक्स में लगी आग, कोई नुकसान नहीं।
  • दुखद: बॉलीवुड एक्टर विनोद खन्ना का 70 साल की उम्र में निधन, कुछ समय से थे बीमार
  • पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहे बॉलीवुड एक्टर विनोद खन्ना का 70 साल की उम्र में...
  • पीएम नरेंद्र मोदी ने हिमाचल प्रदेश के शिमला से शुरू की सस्ती उड़ान सेवा
  • स्पोर्ट्स स्टार: इशांत के बाद इरफान को भी मिला खरीददार, इस टीम में हुए शामिल।...
  • हिन्दुस्तान Jobs: SSC ने निकाली ट्रांसलेटर की नौकरियां, ऐसे करें आवेदन प्रक्रिया
  • बॉलीवुड मसाला: 'बाहुबली 2' ने एडवांस बुकिंग में तोड़ा दंगल का रिकॉर्ड, 1 दिन में...
  • टॉप 10 न्यूज: पढ़ें सुबह 9 बजे तक की देश और दुनिया की बड़ी खबरें
  • हेल्थ टिप्स: बिना जिम जाए ऐसे घटाए वजन
  • ओपिनियनः पढ़ें हिन्दुस्तान के राजनीतिक संपादक निर्मल पाठक का लेख: इस पराजय के...
  • जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में आतंकियों ने किया सेना के कैंप पर किया फिदायीन...
  • मौसम दिनभर: दिल्ली-एनसीआर में तेज हवाएं चलेंगी, देहरादून में बादल छाए रहेंगे,...
  • ईपेपर हिन्दुस्तानः आज का अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें
  • आपका राशिफल: पढ़ें 27 अप्रैल को क्या कहते हैं आपके सितारे
  • सक्सेस मंत्र: जब डाकू को मिला बुरा काम छोड़ने का आसान उपाय
  • टॉप 10 न्यूज: देश और दुनिया की खबरें पढ़ें एक नजर में

गंदे बिस्तर पर सोते हैं ब्रिटेन के लोग

लंदन, एजेंसी First Published:08-01-2013 10:34:04 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
गंदे बिस्तर पर सोते हैं ब्रिटेन के लोग

बिछावन की चादर महीने में कम से कम एक बार तो बदल ही देनी चाहिए। ऐसा नहीं करने पर अस्थमा, एक्जीमा और राइनिटिस होने का खतरा रहता है। यह बात एक अध्ययन में कही गई। अध्ययन में यह भी बताया गया कि ब्रिटेन में आधे से अधिक लोग गंदे बिछावन पर सोते हैं।

समाचार पत्र डेली मेल के मुताबिक लंदन के एक प्रमुख शैक्षणिक अस्पताल में पेडियाट्रिक एलर्जिस्ट एड़ा फॉक्स ने चेतावनी दी कि बिछावन की गंदी चादरों से स्वास्थ्य को कई तरह की परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। अध्ययन में 2000 से अधिक लोगों का सर्वेक्षण किया गया। इसमें पता चला कि ब्रिटेन में आधे से अधिक लोग बिछावन की गंदी चादर पर सोते हैं और नियमित रूप से चादर नहीं बदलने के लिए महिलाएं पुरुषों के मुकाबले अधिक दोषी हैं।

फॉक्स ने कहा कि हमारे शरीर से रोज लाखों त्वचा की मृत कोशिकाएं झड़ती हैं। बड़ी संख्या में ये बिस्तर में जमा हो जाती हैं। इसके साथ ही हमारे शरीर से द्रव्यों, पसीने और तेल का रिसाव होता है। इनके कारण चादरों की तरफ धूल खाने वाले कीटाणु बड़ी मात्रा में आकर्षित होते हैं।

सांस के माध्यम से शरीर में जाने पर पर ये कीटाणु अस्थमा, राइनिटिस पैदा कर सकते हैं और एक्जीमा को बढ़ा सकते हैं।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड