Image Loading
मंगलवार, 21 फरवरी, 2017 | 08:28 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • मौसम अलर्ट: दिल्ली-एनसीआर और रांची में रहेगी हल्की धूप, पटना-लखनऊ में हल्के बादल...
  • ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में विमान हादसा, कई लोगों के मरने की खबरः AFP
  • आज का भविष्यफल: सिंह राशि वालों को जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा, पूरी खबर पढ़ने के...
  • हेल्थ टिप्स: डायबिटीज में सुबह खाली पेट चबाएं लीची के पत्ते, नहीं पड़ेगी दवा की...
  • आज के हिन्दुस्तान का ई-पेपर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।
  • GOOD MORNING: यूपी में आज चौथे चरण का चुनाव प्रचार होगा खत्म, कुरैशी की मदद करने वाले Ex CBI...

सत्ता के लालची हैं अरविंद केजरीवाल: अन्ना हजारे

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:06-12-2012 02:35:23 PMLast Updated:06-12-2012 02:43:58 PM
सत्ता के लालची हैं अरविंद केजरीवाल: अन्ना हजारे

भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन में दरार पड़ने के लिए अरविंद केजरीवाल की सत्ता की ललक को जिम्मेदार ठहराते हुए सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने गुरुवार को कहा कि वह आम आदमी पार्टी को वोट नहीं देंगे।

हजारे ने आरोप लगाया कि यह पार्टी अन्य की तरह सत्ता के जरिये धन और धन के जरिये सत्ता के रास्ते पर जा रही है। यह पूछे जाने पर कि क्या उनके पूर्व साथी केजरीवाल सत्ता के लालची हैं, हजारे ने कहा कि यह सही है।

उन्होंने कहा कि मैंने सोचा था कि मैं आम आदमी पार्टी के लिए मतदान करूंगा, लेकिन अब मेरे लिए ऐसा करना मुश्किल है क्योंकि यह देखा जा रहा है कि यह सत्ता के जरिये धन और धन के जरिये सत्ता के रास्ते में बढ़ रही है। मैं कहीं भी उसके आस पास नहीं हूं।

वह इस सवाल पर प्रतिक्रिया दे रहे थे कि क्या वह केजरीवाल द्वारा हजारे से अलग होने के बाद बनाई पार्टी आप को वोट देंगे। हजारे ने इससे पहले कहा कि जो भी पार्टी ईमानदार प्रत्याशियों को खड़ा करेगी, वह उसे समर्थन देंगे और अगर केजरीवाल केन्द्रीय मंत्री कपिल सिब्बल के खिलाफ चुनाव लड़ते हैं तो वह उनके लिए चुनाव प्रचार करेंगे।

यह पूछे जाने पर कि क्या केजरीवाल सत्ता के लालची हो गये हैं और क्या इसी कारण आंदोलन में दरार आई, हजारे ने कहा, यह सही है। पहले मैं सोचा करता था कि अरविंद निस्वार्थ सेवा में है। लेकिन मुझे समझ नहीं आता कि राजनीति में प्रवेश करने का विचार उसके दिमाग में कैसे आया।

वह एक सवाल पर इस बात पर सहमत हुए कि केजरीवाल की राजनीतिक महत्वाकांक्षा के कारण ही दरार आई। हजारे ने कहा कि व्यवस्था परिवर्तन के लिए स्वतंत्रता के बाद पहली बार आंदोलन चल रहा था। जनता बाहर आ रही थी। मुझे लगा कि अच्छा आंदोलन चल रहा है। ऐसी भावना थी कि इसका कुछ नतीजा आएगा। लेकिन उसी समय मुझे नहीं पता कि उसके दिमाग में यह विचार कैसे आया।

उन्होंने कहा कि व्यवस्था परिवर्तन की लड़ाई में एकता की जरूरत है और केजरीवाल, स्वामी रामदेव और अन्य सहित सभी भ्रष्टाचार के खिलाफ है।

उन्होंने कहा, यह का्रंति अभी पूरी नहीं हुई है। हमें एक साथ खड़ा होना होगा। हम सभी, रामदेव, अरविंद, सभी को मिलकर लड़ाई लड़नी चाहिए। नरेंद्र मोदी पर हजारे ने कहा कि गुजरात में काफी भ्रष्टाचार है और मुख्यमंत्री के तौर पर वह अपने राज्य में लोकायुक्त विधेयक नहीं लेकर आए हैं।

उन्होंने कहा कि वह विधेयक क्यों नहीं ला रहे हैं हर कोई सत्ता का उपयोग करके धन बना रहा है।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड