Image Loading जनरल वीके सिंह के परिवार ने मेजर को बनाया बंधक - LiveHindustan.com
सोमवार, 02 मई, 2016 | 00:51 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल 9: मुंबई इंडियंस ने राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस को आठ विकेट से हराया।
  • पद्मावती एक्सप्रेस हादसे की शिकार, 8 बोगियां पटरी से उतरीं, कई लोगों के जख्मी...
  • आईपीएल 9: राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस ने मुंबई इंडियंस के सामने 160 रन का लक्ष्य रखा
  • आईपीएल 9: किंग्स इलेवन पंजाब ने गुजरात लायंस को 23 रन से हराया
  • आईपीएल 9: मुंबई इंडियंस ने टॉस जीता, राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस को दिया पहले...
  • वाराणसी: अस्सीघाट पर पीएम मोदी के मंच पर शार्ट सर्किट से मचा हडकंप
  • IPL: पंजाब ने गुजरात को जीत के लिए दिया 155 रन का लक्ष्य

जासूसी मामले में वीके सिंह के परिवार ने मेजर को बनाया बंधक

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:05-01-2013 07:26:50 PMLast Updated:05-01-2013 09:34:31 PM
जासूसी मामले में वीके सिंह के परिवार ने मेजर को बनाया बंधक

पूर्व सेना प्रमुख जनरल वीके सिंह के आवास पर शनिवार को उस वक्त नाटकीय घटनाक्रम देखने को मिला, जब एक मेजर उनके आवास पर सेना के टेलीफोन एक्सचेंज को कथित तौर पर हटाने गए। सिंह के परिवार ने अपने आवास में इसे जासूसी यंत्र लगाने की कोशिश बताया।

सिग्नल्स रेजीमेंट के मेजर को पूर्व सेना प्रमुख के परिवार के सदस्यों ने बंधक बना लिया। उन्होंने दोपहर करीब दो बजे दिल्ली छावनी में मंदिर मार्ग स्थित आवास पर मीडिया को बुलाया।

परिवार के सदस्यों ने जनरल सिंह की जेड प्लस सुरक्षा हटाये जाने से इस मामले को जोड़ दिया। पूर्व सेना प्रमुख की उम्र को लेकर पैदा हुए विवाद के चलते साल भर से अधिक समय से मंत्रालय के साथ उनका गतिरोध कायम है।

जनरल सिंह के परिवार के सदस्यों ने आरोप लगाया कि प्रथम सिग्नल्स रेजीमेंट के मेजर आर विक्रम उनके आवास में बगैर इजाजत के प्रवेश कर गए और उन्होंने उनके टेलीफोन से छेड़छाड़ की कोशिश की।

जनरल सिंह के वकील विश्वजीत सिंह ने बताया कि हमने मेजर को आवास में पाया। वे वहां मौजूदगी की कोई उचित वजह नहीं बता सके। उनके पास कोई वैध दस्तावेज भी नहीं थे। हमने उन्हें बंधक बना लिया। उन्होंने अपनी पहचान प्रथम सिग्नल्स रेजीमेंट के मेजर आर विक्रम के रूप में जाहिर की। उन्होंने दावा किया कि सेना के मेजर और उनकी टीम के पास कुछ कार्ड थे।

उन्होंने कहा कि हाल ही में उन्होंने सुरक्षा वापस ले ली थी और अब यह सब कुछ हुआ।

सेना सूत्रों ने बताया कि जेड प्लस सुरक्षा श्रेणी के तहत दिये गए पूर्व सेना प्रमुख के आवास से एक्सचेंज हटाया जा रहा है। सेना ने जासूसी की कोशिश के आरोप को खारिज करते हुए कहा है कि टीम वहां सेना के टेलीफोन एक्सचेंज को हटाने गई थी और संवादहीनता के चलते ये हालात पैदा हुए।

सेना ने एक बयान में कहा कि एक सिग्नल्स रेजीमेंट पार्टी सेना के एक्सचेंज और लाइन को हटाने के लिए मंदिर मार्ग स्थित उनके आवास पर गई। पूर्व सेना प्रमुख ने पूर्व नोटिस के बगैर एक्सचेंज हटाये जाने पर आपत्ति जताई। बहरहाल, टीम एक्सचेंज हटाये बगैर लौट गई।

सेना के प्रवक्ता कर्नल जे दहिया ने कहा कि सेना की टीम वहां टेलीफोन एक्सचेंज हटाने गई थी लेकिन बगैर पूर्व सूचना के गई थी इसलिए यह सब हुआ।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
फिर चमका रोहित का बल्ला, मुंबई की आसान जीतफिर चमका रोहित का बल्ला, मुंबई की आसान जीत
आखिरी 12 ओवरों की कसी हुई गेंदबाजी और बाद में कप्तान रोहित शर्मा के आईपीएल के वर्तमान सत्र में लक्ष्य का पीछा करते हुए लगातार पांचवें अर्धशतक की बदौलत मुंबई इंडियन्स ने राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस को आठ विकेट से हराकर अंकतालिका में दूसरा स्थान हासिल कर लिया।