class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अन्नाद्रमुक धड़ों के बीच विलय के प्रयास तेज, मुख्यमंत्री ने समिति गठित की

अन्नाद्रमुक धड़ों के बीच विलय के प्रयास तेज, मुख्यमंत्री ने समिति गठित की

अन्नाद्रमुक के धड़ों के विलय के प्रयास के तहत मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी नीत गुट ने शुक्रवार को एक समिति के गठन की घोषणा की और विरोधी ओ पन्नीरसेल्वम गुट ने इस पर प्रतिक्रिया यह कहकर दी कि उसकी समिति जल्द गठित होगी। 

पलानीस्वामी द्वारा गठित समिति की अध्यक्षता राज्यसभा सदस्य आर वैथीलिंगम करेंगे और इसमें कुछ मंत्रियों के शामिल होने की संभावना है। पन्नीरसेल्वम के सहयोगी के पी मुनुसामी ने संवाददाताओं से कहा कि पार्टी समर्थकों और लोगों के कल्याण को ध्यान में रखते हुए हम भी एक समिति का गठन करने जा रहे हैं। 

इससे पहले कल बातचीत में गतिरोध पैदा हो गया था जब ओ पन्नीरसेल्वम गुट ने विलय वार्ता के लिए पार्टी महासचिव वीके शशिकला और उप महासचिव टीटीवी दिनाकरन को औपचारिक तौर पर पाटीर् से निकालने की शर्त रखी थी। उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की पिछले साल पांच दिसंबर को निधन से जुड़ी परिस्थितियों की सीबीआई जांच की भी मांग की थी। 

विलय वार्ता के लिए अपना रुख कड़ा करते हुए पन्नीरसेल्वम गुट ने कल मांग की थी कि पलानीस्वामी के नेतृत्व वाला धड़ा शशिकला और दिनाकरन के अलावा उनके परिवार के 30 अन्य सदस्यों को पार्टी से औपचारिक तौर पर बखार्स्त करें। 

इस बीच, ओपीएस गुट के पूर्व स्कूल शिक्षा मंत्री के पांडियाराजन ने पुष्टि की कि पलानीस्वामी गुट ने बातचीत के लिए उनसे संपर्क किया है। इससे पहले पन्नीरसेल्वम धड़े के एक शीर्ष नेता के पी मुनासामी ने कल कहा था कि पहली मांग शशिकला और दिनाकरन का इस्तीफा लेने और बाद में उनके परिवार के 30 अन्य सदस्यों के साथ उन्हें औपचारिक तौर पर निष्कासित करना है।

पन्नीरसेल्वम गुट ने गत वर्ष पांच दिसंबर को जिन परिस्थितियों में पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता का निधन हुआ, उसकी सीबीआई जांच की भी मांग की है। इससे पहले अन्नाद्रमुक (अम्मा) के नेता और स्थानीय प्रशासन मंत्री एस पी वेलुमणि ने पलानीस्वामी के हवाले से कहा कि विलय वार्ता के लिए वैथीलिंगम की अगुवायी में एक समिति का गठन किया गया है और वह यहां पार्टी कायार्लय में होंगे। हम जरूरत पड़ने पर उनके पास जाएंगे। उन्होंने कहा कि जहां तक हमारा सवाल है हम दो पत्ती वाला चिहन हासिल करना चाहते हैं और एकजुट रहना चाहते हैं।

वेलुमणि ने कहा कि गुट में सबको यह लग रहा है कि एमजीआर द्वारा स्थापित की गई और अम्मा द्वारा आगे ले जाई गई पार्टी में एकता होनी चाहिए। बैठक में शामिल हुए कानून मंत्री सीवी षणमुगम ने कहा कि हम पारदर्शी और खुले विचारों वाले हैं। उन्होंने कहा कि दोनों धड़ों के सदस्यों ने पहले एक साथ मिलकर काम किया है और हम साथ बैठने और मतभेदों को सुलझाने के लिए तैयार हैं।   
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:aiadmk chief minister palaniswamy o panneerselvam