class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्लिंटन-ममता मुलाकात पर येचुरी ने ली चुटकी

क्लिंटन-ममता मुलाकात पर येचुरी ने ली चुटकी

अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन की पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात पर माकपा ने कहा कि अगर केन्द्र सरकार को अपने सहयोगियों को मनाने के लिए अमेरिकी मदद की जरूरत पड़े तो इससे दयनीय स्थिति और कुछ नहीं हो सकती है।

माकपा के वरिष्ठ नेता सीताराम येचुरी रिटेल क्षेत्र में एफडीआई का ममता द्वारा विरोध किये जाने के बारे में किये गये सवाल का जवाब दे रहे थे। इस मुद्दे को अमेरिकी विदेश मंत्री ने भारत में उठाया है।

उन्होंने कहा कि यदि ऐसी स्थिति आती है कि सरकार को अपने सहयोगियों को मनाने के लिए या सत्ताधारी गठबंधन में समस्याओं के हल के लिए अमेरिकी मदद की आवश्यकता पड़े तो देश की इससे अधिक दयनीय स्थिति नहीं हो सकती। इससे अमेरिका पर हमारी निर्भरता का पता चलता है।

उन्होंने कहा कि सामान्य प्रोटोकाल होता है कि उच्च स्तर की कोई विदेश यात्रा केन्द्र सरकार के साथ बैठकों के साथ शुरू होती है और फिर राज्यों के साथ बैठक होती है लेकिन हिलेरी की यात्रा बंगाल से शुरू हुई हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि ऐसी यात्रा का कार्यक्रम तय करना केन्द्र सरकार का विशेषाधिकार है।

येचुरी ने अमेरिका के इशारे पर काम करने के लिए संप्रग सरकार की निन्दा करते हुए कहा कि पिछले तीन महीने में ईरान से भारत की तेल खरीद में काफी गिरावट आयी है। उन्होंने कहा कि अमेरिकी दबाव में भारत ने भारत-ईरान गैस पाइपलाइन की परियोजना छोड़ दी, जो कच्चे तेल से कहीं सस्ते इधन का रास्ता हो सकता था। यह बात स्वीकार्य नहीं है क्योंकि यह भारत के हितों के खिलाफ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:क्लिंटन-ममता मुलाकात पर येचुरी ने ली चुटकी