Image Loading
रविवार, 25 सितम्बर, 2016 | 14:20 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • KANPUR TEST: भारत की पारी घोषित, न्यूजीलैंड के सामने 434 रनों का लक्ष्य
  • उरी हमले पर मायावती ने साधा PM पर निशाना, दूसरों को नसीहत और खुद की फजीहत कराते हैं...
  • KANPUR TEST LIVE: रोहित शर्मा की फिफ्टी, स्कोर-331/5
  • पैरालंपिक के दिव्यांग खिलाड़ियों ने सामान्य खिलाड़ियों से बेहतर प्रदर्शन...
  • देश में शोक और आक्रोश है, दोषियों को सजा जरूर मिलेगी: पीएम मोदी
  • #Kanpur TEST: पुजारा 78 रन बनाकर ईश सोढ़ी की गेंद पर आउट, स्कोर-228/4
  • KANPUR TEST: कप्तान कोहली 18 रन बनाकर आउट, स्कोर-214/3
  • KANPUR TEST: भारत का दूसरा विकेट गिरा, विजय 76 रन बनाकर आउट
  • पढ़िए, शशि शेखर का ब्लॉग: 'असली भारत के हक में'
  • #INDvsNZ: कानपुर टेस्ट के तीसरे दिन के 5 टर्निंग प्वाइंट्स, खेल की दुनिया की टॉप 5 खबरें...
  • मौसम अलर्ट: दिल्ली-NCR में गर्म रहेगा मौसम। लखनऊ, पटना और रांची में बारिश की...
  • सुबह की शुरुआत करने से पहले जानिए अपना भविष्यफल, जानिए आज कैसा रहेगा आपका दिन
  • सुविचार: मनुष्य का स्वाभाव है कि जब वह दूसरों के दोष देख कर हंसता है, तब उसे अपने...
  • Good Morning: पाक को PM का करारा जबाव, बदहाल यूपी पर क्या बोले राहुल, और भी बड़ी खबरें जानने...

सोनिया गांधी ने सात साल में 50 बार की वायुसेना के विमानों से यात्रा

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:04-01-2013 10:18:53 AMLast Updated:04-01-2013 12:30:10 PM
सोनिया गांधी ने सात साल में 50 बार की वायुसेना के विमानों से यात्रा

संप्रग, कांग्रेस और राष्ट्रीय सलाहकार परिषद की अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पिछले करीब सात सालों में लगभग 50 बार वायुसेना के विमानों और हेलीकॉप्टरों का उपयोग किया, जिनमें से सबसे ज्यादा 23 बार वह प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की सह यात्री थीं।

सूचना के अधिकार के तहत मिली जानकारी के मुताबिक 2006-07 से सितंबर 2012 के बीच उन्होंने 49 बार वायुसेना के विमानों और हेलीकॉप्टरों से यात्रा की, जबकि राहुल गांधी ने 2008-09 से सितंबर 2012 तक आठ बार वायुसेना के विमानों और हेलीकाप्टरों का उपयोग किया।

सोनिया गांधी या राहुल गांधी अपने नाम से वायुसेना का विमान या हेलीकाप्टर आरक्षित कर यात्रा करने की पात्रता नहीं रखते हैं। इसके लिए उन्हें ऐसी पात्रता रखने वाले के साथ यात्रा करनी होती है।

वायुसेना के मुताबिक, नियमों के तहत वायुसेना के विमानों का उपयोग करने के पात्र व्यक्ति अपनी यात्रा के उद्देश्यों के लिए किसी व्यक्ति को अपने साथ ले जा सकते है। केंद्र सरकार के अन्य मंत्री भी प्रधानमंत्री से मंजूरी प्राप्त कर वायुसेना के विमानों का उपयोग कर सकते हैं और सरकारी कार्यों के लिए जरूरत के अनुरूप किसी व्यक्ति को अपने साथ ले जा सकते हैं।

प्रधानमंत्री के बाद सोनिया गांधी के साथ सबसे ज्यादा यात्रा करने का सौभाग्य रक्षा मंत्री ए के एंटनी और पूर्व विदेश एवं वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी (अब राष्ट्रपति) को मिला। इन दोनों के साथ सोनिया गांधी ने छह-छह बार वायुसेना के विमान एवं हेलीकाप्टर से यात्रा की।

रक्षा मंत्री ए के एंटनी की संसद में सात मई 2012 को दी गई जानकारी के अनुसार नियमों के तहत, प्रधानमंत्री, उपप्रधानमंत्री, रक्षा मंत्री और गह मंत्री सरकारी कामकाज के लिए वायुसेना के विमानों का उपयोग करने के पात्र हैं, जबकि गैर सरकारी कार्यों के लिए केवल प्रधानमंत्री वायुसेना के विमानों का उपयोग कर सकते हैं।

हिसार स्थित आरटीआई कार्यकर्ता रमेश वर्मा ने रक्षा मंत्रालय एवं वायुसेना मुख्यालय से वायुसेना के वीआईपी वायुयान और हेलीकाप्टरों से सोनिया गांधी और राहुल गांधी की यात्रा एवं खर्च के बारे में जानकारी मांगी थी।

मिली जानकारी के अनुसार, 30 सितंबर 2012 तक सोनिया गांधी की यात्रा के किराये के मद में कर्नाटक सरकार पर एक करोड़ 17 लाख 15 हजार 83 रुपये और राहुल गांधी की यात्रा के मद में असम सरकार पर आठ लाख 26 हजार 457 र्पये बाकी है। चूंकि दोनों कांग्रेस नेताओं ने इनके नाम पर विमान आरक्षित कराकर यात्रा की थी, इसलिए देनदारी भी इन्हीं दोनों सरकारों की बनती है।

सोनिया गांधी ने 49 बार वायुसेना के विमान की सेवाएं ली, जिसमें 42 बार उन्होंने इन सेवाओं का उपयोग प्रधानमंत्री या किसी ऐसे पात्र व्यक्ति के नाम पर किया, जिन्हें इसके बदले कोई भुगतान नहीं करना पड़ता है। उन्होंने सात बार प्रधानमंत्री की स्वीकृति से ऐसे मंत्रियों आदि के साथ यात्रा की जिन्हें इसके बदले वायुसेना को भुगतान देय होता है। ऐसे ही छह मामलों में किराये के रूप में 96 लाख रुपये का भुगतान किया गया। जबकि एक बार की यात्रा का भुगतान अभी तक नहीं किया गया है।

सोनिया गांधी ने कर्नाटक की यात्रा बाढ़ के हालात का जायजा लेने के लिए की थी, परंतु वहां की भाजपा सरकार इस राशि का भुगतान नहीं कर रही है।

राहुल गांधी ने चार वर्षों में आठ बार वायु सेना के हेलीकाप्टरों का उपयोग किया, जिसमें से उन्होंने चार बार यात्रा पात्र व्यक्ति के नाम पर की, जिसका कोई भुगतान नहीं होना था। वहीं उन्होंने 27 जनवरी 2009 को तब के रेल मंत्री लालू प्रसाद के नाम पर आरक्षित विमान से दिल्ली-फुर्सतगंज-दिल्ली की यात्रा की थी, जिसके बदले संबंधित मंत्रालय 14 लाख रुपये का भुगतान कर चुका है।

राहुल ने हाल में दो बार असम के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई के नाम आरक्षित विमान से यात्रा की। इनमें से दो मई 2012 को वह गुवाहाटी-धुबरी-गुवाहाटी की यात्रा पर थे, जिसके एवज में अभी तक आठ लाख 26 हजार 457 रुपये का भुगतान असम सरकार ने नहीं किया है। जबकि 11 सितंबर 2012 को हुई गुवाहाटी-कोकराझार की यात्रा के किराये की गणना अभी वायुसेना कर ही रही है।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड