Image Loading
मंगलवार, 24 मई, 2016 | 15:27 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • दिल्लीः इंजन फेल होने से नजफगढ़ में एयर एम्बुलेंस दुर्घटनाग्रस्त, पटना से आ रहा...
  • एक क्लिक में जानें, अब तक की पांच बडी़ खबरें
  • लखनऊ, चंडीगढ़, फरीदाबाद, अगरतला समेत 13 नए शहर स्मार्ट सिटी के लिए चुने गए
  • राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने NEET अध्यादेश पर किए हस्ताक्षर
  • इसी सप्ताह आएगा 10वीं का परीक्षा परिणामः सीबीएसई
  • शेयर बाजार: सेंसेक्स 10 अंक फिसलकर 25,220 पर खुला, निफ़्टी 7731
  • दिल्ली: खराब मौसम के कारण करीब 24 उड़ानें डाइवर्ट हुईं और 12 देर से पहुंचीं
  • ब्रेड में मिले जानलेवा कैमिकल, कैंसर का खतरा
  • बिहार- एमएलसी मनोरमा देवी की जमानत याचिका पर सुनवाई, कोर्ट ने मांगी केस डायरी
  • दिल्ली: नरेला स्थित प्लास्टिक फैक्ट्री में लगी भीषण आग

हिमालय क्षेत्र में शक्तिशाली भूकंप की चेतावनी

सिंगापुर, एजेंसी First Published:30-12-2012 12:05:36 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
हिमालय क्षेत्र में शक्तिशाली भूकंप की चेतावनी

वैज्ञानिकों ने हिमालय क्षेत्र में आठ से 8.5 तीव्रता के भूकंप के शक्तिशाली झटकों के लिए चेताया है। वैज्ञानिकों ने ऐसे इलाकों के लिए खासकर चेतावनी दी है जहां अब तक भूकंप के शक्तिशाली झटके नहीं आए हैं।

नानयांग प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के नेतृत्व वाले शोध दल ने पाया है कि मध्य हिमालय क्षेत्रों में रिक्टर पैमाने पर आठ से साढे़ आठ तीव्रता का शक्तिशाली भूकंप आने का खतरा है। शोधकर्ताओं ने एक बयान में कहा कि सतह टूटने संबंधी खोज का हिमालय पर्वतीय क्षेत्रों से जुड़े इलाकों पर गहरा असर है।

प्रमुख वैज्ञानिक पॉल टैपोनियर ने कहा कि अतीत में इस तरह के खतरनाक भूकंपों का अस्तित्व का मतलब यह हुआ कि इतनी ही तीव्रता के भूकंप के झटके भविष्य में फिर से आ सकते हैं, खासकर उन इलाकों में जिनकी सतह भूकंप के झटके के कारण अभी टूटी नहीं है।

अध्ययन में पता चला कि वर्ष 1255 और 1934 में आए भूकंप के दो जबर्दस्त झटकों से हिमालय क्षेत्र में पृथ्वी की सतह टूट गई। यह वैज्ञानिकों द्वारा पिछले अध्ययन के विपरीत है। हिमालय क्षेत्र में जबर्दस्त भूकंप आना कोई नयी बात नहीं है। 1897, 1905, 1934 और 1950 में भी 7.8 और 8.9 तीव्रता के भूकंप आए थे।

इन भूकंपों से काफी नुकसान हुआ, लेकिन उन्होंने पहले सोचा था कि पृथ्वी की सतह नहीं टूटी है। बहरहाल, वैज्ञानिक ने कहा कि उच्चस्तर की नई तस्वीरों और अन्य तकनीकों की मदद से उन्होंने पाया कि 1934 में आये भूकंप ने सतह को नुकसान पहुंचाया और 150 से अधिक किलोमीटर लंबे मैदानी भाग में दरार आ गई।

वैज्ञानिकों का मानना है कि क्षेत्र में अगली बार भूकंप के जबर्दस्त झटके आने में अभी समय है।

 
 
 
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
Assembely Election Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
दूसरे टेस्ट से पहले इंग्लैंड को झटका, स्टोक्ट टीम से बाहरदूसरे टेस्ट से पहले इंग्लैंड को झटका, स्टोक्ट टीम से बाहर
इंग्लैंड के स्टार ऑलराउंडर बेन स्टोक्स घुटने की चोट के चलते श्रीलंका के खिलाफ सीरीज के दूसरे टेस्ट से बाहर हो गए हैं। यह टेस्ट मैच 27 मई से खेला जाना है।