Image Loading
सोमवार, 05 दिसम्बर, 2016 | 14:01 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • अपोलो अस्पताल के प्रवक्ता ने कहा, सीएम जयललिता की हालत नाजुक। उन्हें ECMO और लाइफ...
  • बहते मिले लाखों रुपये के नोट तो नहर में यूं कूद पड़े लोग, क्लिक कर देखें वीडियो
  • विपक्ष के हंगामे के बाद लोकसभा की कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक स्थगित
  • नोटबंदी पर विपक्ष के भारी हंगामे के बाद राज्यसभा की कार्यवाही 12 बजे तक स्थगित
  • पेट्रोटेक-2016: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अगले 5 सालों में 30 हजार...
  • पाकिस्तानः कराची के रिजेंट प्लाजा होटल में आग लगने से 11 लोगों की मौत, 70 घायल
  • पढ़ें वरिष्ठ हिंदी लेखक महेंद्र राजा जैन का ये लेख, 'उनके लिए तो नाम में ही सब कुछ...
  • पढ़ें मिंट के संपादक आर सुकुमार का ब्लॉग, 'नए मानकों की तलाश करते कारोबार'
  • चेन्नईः जयललिता की सलामती के लिए समर्थक कर रहे हैं दुआ, अपोलो अस्पताल के बाहर...
  • एक ही नजर में शिखर धवन को भा गई थीं आयशा, भज्जी बने थे लव गुरु। क्लिक करके पढ़ें...
  • भविष्यफल: धनु राशिवाले आज आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे और परिवार का सहयोग...
  • हेल्थ टिप्स: ये हैं हेल्दी लाइफस्टाइल के 5 RULE, डाइट में शामिल करने से पेट रहेगा फिट
  • GOOD MORNING: जयललिता को दिल का दौरा पड़ा, अस्पताल के बाहर जुटे हजारों समर्थक, अन्य बड़ी...

यौन उत्पीड़न मामलों में SC ने सरकार से मांगा जवाब

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:04-01-2013 03:06:52 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
यौन उत्पीड़न मामलों में SC ने सरकार से मांगा जवाब

यौन उत्पीड़न से सम्बंधित सभी मामलों की सुनवाई में तेजी लाने और पीड़ित पक्ष को मुआवजा देने की मांग को लेकर दायर दो जनहित याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए सर्वोच्च न्यायालय ने शुक्रवार को केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर चार सप्ताह के भीतर जवाब मांगा।

न्यायालय ने अतिरिक्त अदालतें गठित करने, न्यायिक बुनियादी ढांचा बेहतर बनाने तथा मौजूदा रिक्तियों को भरने से सम्बंधित याचिका पर भी नोटिस जारी किए।

सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति के.एस. राधाकृष्णन तथा न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा की पीठ ने हालांकि उस याचिका को खारिज कर दी, जिसमें आपराधिक मामलों का सामना कर रहे संसदीय प्रतिनिधियों को अयोग्य ठहराने की मांग की गई थी।

न्यायालय ने कहा कि वह ऐसी याचिका पर आदेश नहीं दे सकता और इसलिए वह लोगों के मौलिक अधिकारों के उल्लंघन से सम्बंधित आवेदनों पर ही नोटिस जारी कर रहा है।

न्यायालय ने केंद्र सरकार से सभी नोटिस का जवाब चार सप्ताह के भीतर मांगा है। न्यायालय ने दिल्ली में चलती बस में छह लोगों द्वारा एक युवती से दुष्कर्म के बाद दायर जनहित याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए ये नोटिस जारी किए।

याचिकाकर्ताओं में से एक भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के सेवानिवृत्त अधिकारी प्रमिला शंकर हैं।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड