Image Loading
सोमवार, 27 फरवरी, 2017 | 23:31 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • रेलवे स्टेशनों पर स्टॉल के ठेके में लागू होगा आरक्षण, ये होंगे नए नियम
  • मेरठ में पीएनबी के एटीएम से निकला 2000 रुपये का नकली नोट, RBI मुख्यालय को भेजी गई पूरी...
  • यूपी चुनाव: पांचवें चरण में पांच बजे तक लगभग 57.36 प्रतिशत हुआ मतदान
  • गोरखपुर की रैली मे राहुल गांधी बोले, उत्तर-प्रदेश को बदलने के लिए हुई अखिलेश से...
  • गोरखपुर की रैली मे अखिलेश यादव ने कहा, ये कुनबों का नहीं बल्कि दो युवा नेताओं का...
  • रिलायंस Jio को टक्कर देने के लिए Airtel ने किया रोमिंग फ्री का ऐलान
  • यूपी चुनाव: पांचवें चरण में 3 बजे तक 49.19 फीसदी वोटिंग, पढ़ें पूरी खबर
  • चुनाव प्रचार के लिए जेल से बहार नहीं जा पाएंगे बसपा नेता मुख्तार अंसारी। दिल्ली...

रसोई में लाएं तहजीब की खुशबू

इंदु जैन First Published:13-12-2012 11:00:22 AMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
रसोई में लाएं तहजीब की खुशबू

रसोई एक ऐसा स्थान है, जिसका जितना संबंध स्वाद से होता है, उससे अधिक अच्छी सेहत से होता है। रसोई में काम करने का सलीका और वहां रहने वाली साफ-सफाई न सिर्फ आपकी कार्यकुशलता को दर्शाती है, बल्कि पूरे परिवार का स्वास्थ्य भी इससे जुड़ा है। रसोई एटीकेट्स के बारे में बता रही हैं इंदु जैन

रसोईघर एक ऐसा स्थान है, जहां से हमारे शरीर की सबसे बड़ी जरूरत स्वाद और सेहत दोनों की पूर्ति होती है। रसोई में स्वच्छता की कमी इस जरूरी स्थान को रोग फैलाने वाले कीटाणुओं का घर बना देती है, जिसका नतीजा होता है कि रसोई में बनाए जाने वाले खाद्य पदार्थ संक्रमित हो जाते हैं और घर के सदस्यों को आए दिन छोटी-छोटी बीमारियां घेरे रखती हैं। रसोई की सफाई का संबंध रसोई में काम करने के सलीके से जुड़ा है।

डिटॉल के इंटरनेशनल होम हाइजिन स्टडी के अनुसार, घरों में रसोई की साफ-सफाई में प्रयोग किए जाने वाले कपड़े सबसे अधिक गंदे और संक्रमित होते हैं। सामान्य पानी से धोने से ये कपड़े पूरी तरह साफ नहीं होते। खाद्य पदार्थों को पोंछने या फिर डिब्बों की सफाई में इनका इस्तेमाल संक्रमण की आशंका को बढ़ देता है। ऐसे में रसोई में साफ-सफाई के लिए एक से अधिक कपड़े का होना जरूरी है। गीले और सूखे कपड़े के लिए भी अलग स्थान निर्धारित करें। उन्हें नियमित धोएं। रसोई में एक छोटा तौलिया रखना और खाना बनाते समय एप्रैन पहनना भी बेहतर आचरण की निशानी है।

फल-सब्जी काटकर चाकू और चॉपर बोर्ड को तुरंत साफ करना न भूलें। इनमें फंसे रहने वाला अंश या फिर सूखा हुआ रस कीटाणुओं की उत्पत्ति का कारण बन जाता है। ऐसे में दूसरी खाद्य वस्तुएं इनके संपर्क में आने पर संक्रमित हो जाती हैं। खाना बनाने के बाद स्लेब, गैस, नल, सिंक आदि की सफाई अवश्य करें। फ्रिज, माइक्रोवेव, शेल्फ आदि की समय-समय पर सफाई करना जरूरी है।

रसोई में नाली या मोरी की जगह ज्यादा नमी होती है, इसलिए चींटी व कॉकरोच वहीं सबसे अधिक होते हैं। रात में काम के बाद इन स्थानों को गीला न छोड़े। समय-समय पर फिनाइल व अन्य रसायनों का छिड़काव करती रहें। रसोई में खिड़की है तो उसे थोड़ी देर खुला अवश्य छोड़ें। ताजी हवा और रोशनी अंदर आएगी। सूर्य की रोशनी कई तरह के संक्रमणों से मुक्त रखती है।

उपयोगी किचन टिप्स
गैस और स्लैब की सफाई के लिए पुराने हो गये नायलॉन की जुराबों या फिर स्पंज का प्रयोग करें। जूसर, ग्राइंडर, माइक्रोवेव और स्विच बोर्ड को साफ करने के लिए दो चम्मच लिक्विड ब्लीच मिलाकर और उसे साफ कपड़े में भिगोकर सफाई करें।

कुकर, भगोना, कड़ाही और दूसरे अन्य झूठे बर्तनों को खाली होने पर उन्हें तुरंत पानी से भर दें। इससे उन पर खाद्य पदार्थों का अंश जमेगा नहीं और उन्हें साफ करना भी बहुत आसान हो जाएगा।

यह याद रखें कि हर चीज के लिए रसोईघर में बड़े-बड़े डिब्बों से जगह को बिल्कुल भी नहीं घेरें।

टूटे हुए स्टील या कांच के बर्तनों का इस्तेमाल न करें।

फ्रिज या रसोई में जूठा खाना खुला कभी न रखें। जितना जल्दी हो सके उसे तरीके से निपटा दें। खाने की चीजें, फल-सब्जियों व कच्चे मांस आदि को अलग-अलग रखें।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड