Image Loading किंगफिशर संकट से बढ़ा विमान किराया: सीसीआई - LiveHindustan.com
शुक्रवार, 12 फरवरी, 2016 | 11:12 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • हेडली LIVE: बाल ठाकरे और शिवसेना भवन भी थे लश्कर के निशाने पर, राजाराम रेगे से की...
  • चार दिन के बड़े झटके के बाद आखरी कारोबारी दिन संभला बाजार, सेंसेक्स 53 अंक चढ़ा,...
  • अजय माथुर को पूर्ण कार्यकारी शक्तियों के साथ टेरी का महानिदेशक नियुक्त किया...

किंगफिशर संकट से बढ़ा विमान किराया: सीसीआई

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:30-12-2012 03:15:01 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
किंगफिशर संकट से बढ़ा विमान किराया: सीसीआई

संकटग्रस्त किंगफिशर एयरलाइंस द्वारा उड़ान रद्द किया जाना बढ़ते विमानन किराये की वजह हो सकता है, हालांकि अब तक विमानन कंपनियों के गुट बनाकर किराया बढ़ाने का कोई प्रमाण नहीं मिला है। यह बात भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) ने कही।

आयोग के चेयरमैन अशोक चावला ने कहा कि यदि गुट होता जो कि अक्सर बेइंतहा मुनाफा कमाने के लिए बनाया जाता है, तो विमानन कंपनियों को नुकसान नहीं हो रहा होता, लेकिन दरअसल बात यह है कि इनमें से कोई कंपनी मुनाफा नहीं कमा रही है, इसलिए कोई गुट नहीं बना है।

हालांकि गुट बनाकर हवाई किराया बढ़ाने से जुड़े संवेदनशील मामले की जांच कई बार हो चुकी है। इस संबंध में चावला ने कहा कि यदि कोई प्रतिस्पर्धा रोधी गतिविधि हो रही है तो वह इस मामले पर फिर से विचार करने के लिए तैयार हैं।

उन्होंने कहा कि मैं इसके बारे में कोई राय पहले से नहीं बनाना चाहता और यदि कोई ऐसा मामला आता है तो हम इस पर विचार करेंगे। फिलहाल गुट जैसी कोई चीज नहीं दिख रही है। इस संबंध में आयोग द्वारा की गई जांच संबंधी निष्कर्ष का ब्यौरा देते हुए चावला ने कहा कि विमान किराया कुछ साल पहले कम हुआ जबकि आपूर्ति पर्याप्त थी और मांग बढ़ रही थी।

उन्होंने कहा कि इसके बाद जब आपूर्ति नहीं बढ़ी, बल्कि आपूर्ति कम हुई क्योंकि एक विमानन कंपनी धीरे-धीरे निष्क्रिय हो गई तो मांग इसके हिसाब से कम नहीं हुई। वह इस सवाल का जवाब दे रहे थे कि क्या किंगफिशर द्वारा उड़ान रद्द किए जाने से कीमत प्रभावित हुई हैं।

चावला ने कहा कि इस तरह कुछ साल पहले मांग और आपूर्ति में संयोजन था जिसके कारण कीमत कम हुई और मांग व आपूर्ति का संतुलन बिगड़ने के कारण किराया बढ़ रहा है।

 

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
कैसा रहा साल 2015
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड