Image Loading
शनिवार, 07 मई, 2016 | 04:04 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल 9: सनराइजर्स हैदराबाद ने गुजरात लायंस को पांच विकेट से हराया
  • खुशखबरी: दिल्ली में टीचर बनना है तो करें इस खबर पर क्लिक..
  • नेपाल ने कथित असहयोग के आरोप पर भारत से अपने राजदूत को वापस बुलाया।
  • आईपीएल 9: गुजरात लायंस ने हैदराबाद सनराइजर्स के सामने 127 रन का लक्ष्य रखा
  • आईपीएल 9: हैदराबाद सनराइजर्स ने गुजरात लायंस के खिलाफ टॉस जीता, पहले करेंगे...
  • PM मोदी पर बोले अरुण शौरी, लोगों को इस्तेमाल कर छोड़ देते हैं मोदी
  • पाकिस्तान क्रिकेट टीम के मुख्य कोच बने दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कोच मिकी अर्थर
  • अगस्ता मामला: स्वामी ने राज्यसभा में दिए दस्तावेज, राज्यसभा जल्द जारी करेगी...
  • कांग्रेस के आरोपों पर बीजेपी का सवाल- भ्रष्टाचार पर कार्रवाई राष्ट्रविरोधी...
  • आईसीएसई दसवीं और आईएससी 12वीं के नतीजे घोषित
  • कांग्रेस के हरीश रावत अपना बहुमत साबित करेंगे
  • केन्द्र सरकार उत्तराखंड विधानसभा में फ्लोर टेस्ट करने को तैयार: एजेंसी
  • अगस्ता घूसकांडः SC ने इतालवी कोर्ट के फैसले में नामित लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कराने...
  • लोकतंत्र बचाओ मार्चः संसद मार्ग थाना पुलिस ने सोनिया, राहुल, मनमोहन, एंटनी और...
  • सुप्रीम कोर्ट में उत्तराखंड मामला 12बजे तक के लिये स्थगित

इंटरनेट ने मिलाया बिछड़े 'मनी' को परिवार से

जबलपुर, एजेंसी First Published:02-12-2012 10:57:24 AMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
इंटरनेट ने मिलाया बिछड़े 'मनी' को परिवार से

कहते हैं कि इंटरनेट वह जादुई दुनिया है, जो पल भर में ही अनजान लोगों से मिला देती है। मगर मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले के एक परिवार के लिए यह बिछडे़ बेटे से मिलाने का माध्यम बन गया।

जबलपुर के कांचघर निवासी अधिवक्ता गुरुशरण सिंह बेदी के लिए सात जुलाई 2002 का दिन मुसीबत बनकर आया था, क्योंकि इसी दिन उनका आठ वर्ष का बेटा मनी लापता हो गया था। इसके बाद बेदी ने अपने बेटे को खोजने के लिए हर सम्भव कोशिश की, मगर सफलता नहीं मिली।

बेदी ने पुलिस से लेकर न्यायालय तक का दरवाजा खटखटाया, मगर बात नहीं बनी। पुलिस पर दबाव बना तो उसने बेदी परिवार को एक अंजान बालक सौंपने की कोशिश की। जांच में वह बालक झारखंड का निकला।

बेदी बताते हैं कि उन्होंने शुरू से ही पुलिस द्वारा लाए गए बच्चे को अपना बेटा इसलिए नहीं स्वीकारा क्योंकि वह नागपुर के स्टेशन पर काम करता था। एक तरफ  बेदी अपने बेटे को खोज रहते थे, तो मनी अपने परिवार की तलाश में लगा था।

मनी ने एक दिन इंटरनेट के जरिए जबलपुर के पुलिस अधिकारी का फोन नम्बर हासिल कर लिया और उन तक अपनी बात पहुंचाई। मनी के संदेश के आधार पर पुलिस ने उसके परिवार का पता खोज निकाला और वह अपनों के बीच जा पहुंचा।

मनी बताता है कि उसका जबलपुर से अपहरण हो गया था और वह अपहरणकर्ताओं के चंगुल से निकलकर जम्मू एवं कश्मीर पहुंचा, जहां पुलिस ने दो दिन तक थाने में रखने के बाद अनाथालय एसओएस बालग्राम भेज दिया। वह अरसे तक इतने तनाव में रहा कि उसे कुछ भी याद नहीं रहा और वह कुछ भी समझने की स्थिति में नहीं था।

वक्त गुजरने के साथ मनी ने पढ़ाई शुरू की। काफी कोशिश करने के बाद पुरानी यादें ताजा हुईं और मनी ने जबलपुर के पुलिस अधिकारी से सम्पर्क किया और उसे अपने घर का पता मिल गया।

मनी के घर पहुंचते ही पूरा परिवार में खुशी का माहौल है। मनी की मां निर्मला कौर कहती हैं कि हमारे लिए अब तक सारे त्योहार नीरस रहते थे। मैं ईश्वर से अपने बेटे से मिलाने की प्रार्थना करती थी और भगवान ने प्रार्थना सुन ली।

एक तरफ इंटरनेट लोगों के अज्ञान को मिटाने में मदद कर रहा है तो इसी इंटरनेट ने जबलपुर में खुशियां लौटाने में मदद की है। इंटरनेट ने बेदी परिवार को 10 साल बाद बेटे के लौटने पर खुशियां मनाने का मौका दे दिया है।

 

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
सनराइजर्स ने लायंस को पांच विकेट से हरायासनराइजर्स ने लायंस को पांच विकेट से हराया
मुस्तफिजुर रहमान और भुवनेश्वर कुमार की धारदार गेंदबाजी के बाद शिखर धवन की जुझारू पारी से सनराइजर्स हैदराबाद ने इंडियन प्रीमियर लीग मैच में आज यहां गुजरात लायंस को कम स्कोर वाले मैच में पांच विकेट से हरा दिया।