Image Loading कमलनाथ ने कहा, झूठे हैं विपक्ष के दावे - LiveHindustan.com
मंगलवार, 03 मई, 2016 | 12:21 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • बीसीसीआई ने खेल रत्न अवॉर्ड के लिए विराट कोहली का नाम भेजा

कमलनाथ ने कहा, झूठे हैं विपक्ष के दावे

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:02-12-2012 11:26:09 AMLast Updated:02-12-2012 02:24:41 PM
कमलनाथ ने कहा, झूठे हैं विपक्ष के दावे

संसदीय कार्य मंत्री कमलनाथ ने विपक्ष के दावे को झूठा बताते हुए कहा है कि खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) से संबंधित विदेशी विनिमय प्रबंधन अधिनियम (फेमा) अधिसूचना को संसद के केवल एक ही सदन की मंजूरी की जरूरत है।

विपक्ष का कहना है कि राज्यसभा से मंजूरी नहीं मिलने पर फैसला लागू नहीं किया जा सकता, जहां संप्रग के पास बहुमत नहीं है। कमलनाथ ने कहा कि एक सदन से पारित होने पर यह पारित हो जाएगा। इसे दोनों सदनों से पारित कराने की आवश्यकता नहीं है। यही नियमों में निहित है।

माकपा नेता सीताराम येचुरी ने कहा था कि बहु ब्रांड खुदरा क्षेत्र में 51 प्रतिशत एफडीआई को मंजूरी दिए जाने संबंधी फेमा अधिसूचना को संसद के दोनों सदनों से पारित कराया जाना जरूरी है।

कमलनाथ विपक्ष के इस तर्क से सहमत नजर नहीं आए। उन्होंने कहा कि किसी भी चीज को अदालत ले जाया जा सकता है। यदि ऐसा होता है तो हम इससे निपटेंगे। मंत्री ने जोर देकर कहा कि लोकसभा और राज्यसभा के लिए नियम अलग-अलग हैं।

कमलनाथ ने हालांकि, स्वीकार किया कि फेमा अधिसूचना अगले सत्र तक खिंच सकती है जो तीन महीने बाद है। इसे बजट सत्र में पारित किया जा सकता है और सरकार के पास इसे मंजूर कराने के लिए संसद के 30 कार्य दिवस हैं।

उन्होंने कहा कि उन्हें एफडीआई के मुद्दे पर सपा और बसपा से कोई आश्वासन नहीं मिला है जिस पर इस हफ्ते दोनों सदनों में चर्चा और मतदान होगा। हालांकि, उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि वे (सपा-बसपा) संप्रग का समर्थन करेंगे।

 

 

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
पाकिस्तान क्रिकेट में बड़ा बदलाव, टीम से बाहर तीन बड़े दिग्गजपाकिस्तान क्रिकेट में बड़ा बदलाव, टीम से बाहर तीन बड़े दिग्गज
पाकिस्तान क्रिकेट में बड़े बदलाव की आंधी आने वाली है और इसकी शुरुआत हो चुकी है। इंग्लैंड दौरे के लिए घोषित किए गए संभावित खिलाड़ियों की लिस्ट से तीन बड़े नाम गायब हैं।