Image Loading
सोमवार, 20 फरवरी, 2017 | 07:16 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • हेल्थ टिप्स: इन 9 चीजों को खाने से चुटकियों में दूर होगी थकान, पूरी खबर पढ़ने के...
  • GOOD MORNING: कैश में दो लाख से अधिक के गहने खरीदने पर टैक्स लगेगा, शाहिद अफरीदी ने...

GMR के खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर सकता है राजमार्ग प्राधिकरण

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:08-01-2013 01:29:46 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
GMR के खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर सकता है राजमार्ग प्राधिकरण

जीएमआर इंफ्रास्ट्रक्चर ने किशनगढ़-उदयपुर-अहमदाबाद परियोजना से हाथ खींचने की घोषणा की है। वहीं भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) ने कहा कि वह फर्म के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने पर विचार कर सकता है।

जीएमआर इंफ्रा को इस परियोजना का ठेका 16 महीने पहले मिला था। परियोजना के लिए 5,387 करोड़ रुपये के निवेश की जरुरत होगी। कंपनी ने 26 साल के लिए 636 करोड़ रुपये सालाना प्रीमियम की पेशकश के साथ इस परियोजना का ठेका हासिल किया था।

एनएचएआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि हम मामले की समीक्षा कर रहे हैं और विशेषज्ञों की राय के आधार पर कानूनी कार्रवाई कर सकते हैं। इस बीच जीएमआर इंफ्रास्ट्रक्चर ने कहा है कि उसने किशनगढ़-उदयपुर-अहमदाबाद राजमार्ग के निर्माण के लिए एनएचएआई के साथ अपने अनुबंध को समाप्त कर दिया है।

कंपनी ने बीएसई को सूचित किया है कि उसकी अनुषंगी जीमएआर किशनगंज-उदयपुर-अहमदाबाद एक्सप्रेसवे लिमिटेड ने एनएचएआई के साथ रियायती समझौते को रद्द कर दिया है। यह समझौता किशनगढ़-उदयपुर-अहमदाबाद राजमार्ग को छह लेन का करने के लिए किया गया था।

वहीं कंपनी सूत्रों का कहना है कि जीएमआर ने परियोजना में नियामकीय बाधाओं को देखते हुए यह फैसला किया है। इन बाधाओं में पर्यावरण संबंधी मंजूरियां हासिल करने में विलंब और भूमि अधिग्रहण को लेकर समस्याएं शामिल हैं।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड