Image Loading
शनिवार, 25 फरवरी, 2017 | 07:48 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • मूली खाने से होते हैं 5 फायदे, ये बीमारियां रहती हैं दूर
  • आज का हिन्दुस्तान अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें।
  • राशिफलः वृष राशिवालों के लिए बौद्धिक कार्यों से आय के स्रोत विकसित होंगे, नौकरी...
  • Good Morning: यूपी में कागजों में बना 455 करोड़ का दिल्ली-सहारनपुर हाईवे, शरीफ बोले-...

तेज गेंदबाजों के बचाव में उतरे धौनी

मुंबई, एजेंसी First Published:23-12-2012 11:09:05 AMLast Updated:23-12-2012 01:57:50 PM
तेज गेंदबाजों के बचाव में उतरे धौनी

इंग्लैंड की दूसरे और आखिरी ट्वेंटी-20 मैच में रोमांचक जीत से भले ही महेंद्र सिंह धौनी निराश थे, लेकिन भारतीय कप्तान ने अपने अनुभवहीन और लचर प्रदर्शन करने वाले तेज गेंदबाजों का बचाव किया। उन्होंने कहा कि युवा गेंदबाजों का पक्ष लेना जरूरी है।

धौनी ने इंग्लैंड की छह विकेट से जीत के बाद कहा कि मैं समझता हूं कि हमने जिस तरह से गेंदबाजी का आगाज किया तो हमने शार्ट पिच गेंद करके कई रन गंवाये। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि गेंदबाजों ने जीवंत विकेट देखा जिसमें थोड़ी उछाल थी और इसलिए उन्होंने शॉर्ट पिच गेंद की।

उन्होंने कहा कि यह ऐसा विकेट था जिसमें आपको थोड़ा आगे गेंद करवाने की जरूरत थी। ऐसे में बल्लेबाजों के लिये रन बनाना मुश्किल होता। धौनी ने तेज गेंदबाज अशोक डिंडा और परविंदर अवाना का बचाव किया।

उन्होंने कहा कि दो टी-20 मैचों से खिलाड़ियों का आकलन करना सही नहीं है। यदि आप डिंडा पर गौर करो तो उसने जो भी मैच खेला उसमें अच्छा प्रदर्शन किया। वह ऐसा गेंदबाज है जो वास्तव में अच्छी यॉर्कर कर सकता है, लेकिन जब ओस पड़ रही हो और गेंद गीली हो तो यॉर्कर करना मुश्किल होता है।

धौनी ने कहा कि डिंडा इसके अलावा अच्छा क्षेत्ररक्षक भी है। यह महत्वपूर्ण है कि हम इन युवा गेंदबाजों का पक्ष लें। यह नहीं भूलना चाहिए कि हमें लगातार चोटों से जूझना पड़ रहा है। हमारे चोटी के अधिकतर गेंदबाज चोटिल हैं। हमें गेंदबाजों विशेषकर तेज गेंदबाजों का पक्ष लेने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि कोई भी अपने शुरुआती मैचों में दबाव महसूस करता है और यदि वह गेंदबाज है तो वह थोड़ा अधिक दबाव में रहता है क्योंकि क्रिकेट बल्लेबाजों का खेल है। उन्होंने कहा कि यदि आप स्कोर का बचाव करते हुए हार जाते हो तो लोग कहते हैं कि गेंदबाजों ने अच्छी गेंदबाजी नहीं और यदि आप लक्ष्य का पीछा करते हुए हारते हो तो भी कहते हैं कि गेंदबाजों ने दस रन अधिक दे दिये थे। यह उनके साथ थोड़ा अन्याय है, लेकिन उनके प्रदर्शन में सुधार होगा।

डिंडा ने 44 रन देकर एक विकेट लिया, जबकि अवाना ने 42 रन दिये और उन्हें कोई विकेट नहीं मिला, लेकिन धौनी ने उनका बचाव किया। उन्होंने कहा कि ये वे गेंदबाज हैं जिन्होंने वास्तव में अच्छी गेंदबाजी की और ये ऐसे गेंदबाज हैं जो वास्तव तेज गेंदबाजी कर सकते हैं। मैं समझता हूं कि साल के इस समय में अच्छी तेज गेंदबाजी करने वाले गेंदबाजों का होना महत्वपूर्ण है।

उन्होंने कहा कि स्पिनरों ने भी अच्छी गेंदबाजी की। गेंद के गीली होने के कारण उनके लिये मुश्किल हो गयी थी। मैं उनके प्रदर्शन से खुश हूं। हम दस रन अधिक बना सकते थे क्योंकि हम ऐसी स्थिति में थे। उन्होंने आखिरी तीन चार ओवर अच्छे किये और हम बड़ा स्कोर नहीं खड़ा कर पाये।

धौनी ने 17 रन देकर तीन विकेट लेने वाले युवराज सिंह की तारीफ की। उन्होंने कहा कि युवराज ने फिर से बेहतरीन खेल दिखाया, लेकिन दुर्भाग्य से हम जीत दर्ज नहीं कर पाये।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड