Image Loading उद्धव ने संभाला सामना के संपादक का पद - LiveHindustan.com
शुक्रवार, 29 अप्रैल, 2016 | 11:33 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आर्थिक पिछडे़पन के आधार पर गुजरात सरकार ने सामान्य वर्ग को दिया 10 फीसदी आरक्षण, 1...
  • केंद्र ने NEET पर सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की याचिका, 1 मई की परीक्षा 24 जुलाई को कराने...
  • अमेरिकी सांसद का दावा, लंबी दूरी की मिसाइल बनाने में पाक की मदद कर रहा चीन

उद्धव ने संभाला सामना के संपादक का पद

मुंबई, एजेंसी First Published:04-12-2012 03:19:32 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
उद्धव ने संभाला सामना के संपादक का पद

बाल ठाकरे के निधन के साथ रिक्त हुए शिवसेना प्रमुख के पद को लेने की अटकलों को दूर करते हुए शिवसेना के कार्यकारी अध्यक्ष और ठाकरे के बेटे उद्धव ठाकरे ने पार्टी के मुखपत्र सामना में ठाकरे की जगह पर संपादक का पद संभाल लिया है।

शिवसेना के वरिष्ठ नेता सुभाष देसाई ने मंगलवार को बताया कि उद्धव जी को प्रबोधन प्रकाशन के सभी प्रकाशनों का संपादक बनाया गया है। देसाई प्रबोधन प्रकाशन के प्रकाशक हैं। यह प्रकाशन, सामना (मराठी) और दोपहर का सामना (हिन्दी) जैसे समाचार पत्रों का प्रकाशन करता है। यह दोनों सामाचारपत्र नवी मुंबई से मुद्रित होते हैं।

उद्धव को हाल ही में शिवसेना के संचालन से संबंधित सभी शक्तियां दे दी गयीं और अब वह इन दोनों समाचारपत्रों के भी संपादक होंगे। गत 17 नवंबर को बाल ठाकरे का निधन हो गया था। निधन होने तक ठाकरे इन दोनों समाचारपत्रों के संपादक पद पर बने हुए थे और अब उन्हें इन समाचारपत्रों के संस्थापक-संपादक की पदवी दी गयी है।

23 जनवरी, 1988 को सामना का प्रकाशन शुरू किया गया था। इसके प्रकाशन का उद्देश्य मराठी लोगों तक ठाकरे के विचार सम्प्रेषित करना था। दोपहर का सामना, शाम में प्रकाशित होने वाला समाचारपत्र है जिसका प्रकाशन 23 फरवरी, 1993 को शुरू किया गया था। इसके प्रकाशन का उद्देश्य, महाराष्ट्र में बसे हुए उत्तर भारतीय लोगों तक पहुंचना था।

ठाकरे इन समाचार पत्रों में अपने संपादकीय, हस्ताक्षर के साथ छपने वाले अपने बयानों और पार्टी कार्यकर्ताओं के साक्षात्कार प्रकाशित कर संदेश सम्प्रेषित करते थे। इन समाचारपत्रों के नियमित कार्य का संचालन, संजय राउत (सामना) और प्रेम शुक्ला (दोपहर का सामना) करना जारी रखेंगे।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
 
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
...तो इसलिए कोई पूर्व पाक क्रिकेटर नहीं बनना चाहता देश का मुख्य कोच!...तो इसलिए कोई पूर्व पाक क्रिकेटर नहीं बनना चाहता देश का मुख्य कोच!
पाकिस्तान क्रिकेट टीम के मुख्य कोच पद की जिम्मेदारी कोई भी पूर्व क्रिकेटर नहीं उठाना चाहते हैं। पूर्व पाकिस्तानी दिग्गज क्रिकेटरों ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) पर विदेशी कोच की नियुक्ति का मन बना लेने का आरोप लगाते हुए मुख्य कोच पद के लिए आवेदन ही नहीं दिया है।