Image Loading
सोमवार, 05 दिसम्बर, 2016 | 14:01 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • अपोलो अस्पताल के प्रवक्ता ने कहा, सीएम जयललिता की हालत नाजुक। उन्हें ECMO और लाइफ...
  • बहते मिले लाखों रुपये के नोट तो नहर में यूं कूद पड़े लोग, क्लिक कर देखें वीडियो
  • विपक्ष के हंगामे के बाद लोकसभा की कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक स्थगित
  • नोटबंदी पर विपक्ष के भारी हंगामे के बाद राज्यसभा की कार्यवाही 12 बजे तक स्थगित
  • पेट्रोटेक-2016: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अगले 5 सालों में 30 हजार...
  • पाकिस्तानः कराची के रिजेंट प्लाजा होटल में आग लगने से 11 लोगों की मौत, 70 घायल
  • पढ़ें वरिष्ठ हिंदी लेखक महेंद्र राजा जैन का ये लेख, 'उनके लिए तो नाम में ही सब कुछ...
  • पढ़ें मिंट के संपादक आर सुकुमार का ब्लॉग, 'नए मानकों की तलाश करते कारोबार'
  • चेन्नईः जयललिता की सलामती के लिए समर्थक कर रहे हैं दुआ, अपोलो अस्पताल के बाहर...
  • एक ही नजर में शिखर धवन को भा गई थीं आयशा, भज्जी बने थे लव गुरु। क्लिक करके पढ़ें...
  • भविष्यफल: धनु राशिवाले आज आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे और परिवार का सहयोग...
  • हेल्थ टिप्स: ये हैं हेल्दी लाइफस्टाइल के 5 RULE, डाइट में शामिल करने से पेट रहेगा फिट
  • GOOD MORNING: जयललिता को दिल का दौरा पड़ा, अस्पताल के बाहर जुटे हजारों समर्थक, अन्य बड़ी...

आईओसी ने आईओए को निलंबित किया

लुसाने (स्विट्जरलैंड), एजेंसी First Published:04-12-2012 06:34:58 PMLast Updated:04-12-2012 11:40:10 PM
आईओसी ने आईओए को निलंबित किया

भारत को शर्मनाक स्थिति का सामना करना पड़ा जब अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) ने मंगलवार को भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) को सरकारी हस्तक्षेप के कारण निलंबित कर दिया। इस निलंबन के बाद भारत ओलंपिक में हिस्सा नहीं ले पाएगा।

एसोसिएटेड प्रेस ने इस फैसले की जानकारी रखने वाले दो अधिकारियों के हवाले से खबर देते हुए कहा कि निलंबन के औपचारिक फैसले की घोषणा लुसाने में कार्यकारी बोर्ड की बैठक के पहले दिन की समाप्ति के बाद होगी। इस फैसले की पहले से ही आशंका थी क्योंकि आईओए ने अपने कल (पांच दिसंबर) होने वाले चुनाव सरकार की खेल संहिता के मुताबिक कराने का फैसला किया था और इस तरह आईओसी के इस निर्देश को ठुकरा दिया था कि चुनाव ओलंपिक चार्टर के अनुसार हों। अधिकारियों ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर यह जानकारी दी है क्योंकि अभी आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है।

आईओसी लगातार आईओए से कह रहा था कि वह चुनाव में सरकार की खेल संहिता का पालन नहीं रहे क्योंकि यह ओलंपिक चार्टर का उल्लंघन और उसकी स्वायत्ता के साथ समझौता होगा। आईओए हालांकि यह कहते हुए आगे बढ़ गया कि वह दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश को मानने के लिए बाध्य है। इस निलंबन के बाद आईओए को आईओसी से मिलने वाला कोष एक जाएगा और उसके अधिकारियों के ओलंपिक बैठकों और प्रतियोगिताओं में शामिल होने पर प्रतिबंध होगा।

भारतीय एथलीटों के ओलंपिक प्रतियोगिताओं में अपने राष्ट्र ध्वज तले हिस्सा लेने पर प्रतिबंध होगा लेकिन वे आईओसी के ध्वज तले इन प्रतियोगिताओं में हिस्सा ले सकते हैं। आईओए के आला अधिकारियों ने कहा कि उन्हें इस फैसले की जानकारी नहीं है क्योंकि अभी तक उन्हें कोई सूचना नहीं भेजी गई है। खेल मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि यह भारत के खेल समुदाय के लिए दुर्भाग्यपूर्ण फैसला है।

जितेंद्र ने कहा कि जब हमें पता चला कि समस्या बढ़ रही है तो हमने आईओसी को पत्र लिखा लेकिन उन्होंने कभी जवाब नहीं दिया। आईओए के पास आईओसी के फैसले को खेल मध्यस्थता अदालत में चुनौती देने का विकल्प है। आईओसी के इस फैसले के बाद कल होने वाले आईओए चुनावों पर अनिश्चितता के बाद छा गए हैं। अभय सिंह चौटाला को हालांकि पहले ही निर्विरोध आईओए अध्यक्ष चुन लिया गया है। राष्ट्रमंडल खेल घोटाले में आरोपों का सामना कर रहे ललित भनोट को भी निर्विरोध महासचिव चुना गया है।

आईओए के कार्यकारी प्रमुख वीके मल्होत्रा ने कहा कि वे पिछले दो साल से सरकार से कह रहे थे कि आईओए पर खेल संहिता लागू नहीं करें लेकिन इसका कोई फायदा नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि हमने 23 नवंबर को प्रधानमंत्री को पत्र लिखा था कि ऐसा हो सकता है लेकिन कोई जवाब नहीं आया। इसके लिए सरकार जिम्मेदार है। उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि सरकार, आईओसी और आईओए एक साथ बैठकर इस मुद्दे का हल निकाले जिससे कि भारत पर लगा निलंबन हट सके। उच्च न्यायालय के आदेश के कारण हमारे पास खेल संहिता के अंतर्गत चुनाव कराने के अलावा कोई चारा नहीं था।

इसके साथ ही भारत उन कुछ एक देशों की कतार में शामिल हो गया है जिन्हें खेल की वैश्विक संस्था के निलंबन का सामना करना पड़ा है। दक्षिण अफ्रीका को उसकी रंभभेद नीति के कारण निलंबित किया गया था जबकि सरकारी हस्तक्षेप के कारण कुवैत का भी यही हश्र हुआ था। कुवैत को हालांकि तब दोबारा आईओसी में शामिल कर लिया गया जब देश की ओलंपिक संस्था ने अपने संविधान में संशोधन किया।

द नीदरलैंड एंटिलेस और दक्षिण सुडान को भी अपनी राष्ट्रीय ओलंपिक समितियों का गठन नहीं करने के कारण निलंबित किया गया है। आईओसी के इस फैसले के बाद देश के शीर्ष एथलीट नाराज हैं। फर्राटा धावक अश्विनी नचप्पा और निशानेबाज मुराद अली खान ने इसके लिए आईओए के अंदर मतभेदों को जिम्मेदार ठहराया। आईओसी ने पिछले हफ्ते साफ कर दिया था कि अगर आईओए के चुनाव सरकार की खेल संहिता के अंतर्गत हुए तो वह अपने कार्यकारी बोर्ड में भारत को निलंबित करने का प्रस्ताव रखेगा।

आईओसी के महानिदेशक क्रिस्टोफ डि कीपर ने मल्होत्रा को लिखे पत्र में आईओए के इस आग्रह को ठुकरा दिया था कि वह इस मुद्दे को सुलझाने के लिए अंतरराष्ट्रीय प्रतिनिधिमंडल भेजेगा। आईओसी ने कहा था कि वह निर्देश नहीं मानने पर भारतीय ओलंपिक संस्था के खिलाफ निलंबन की प्रक्रिया शुरू करेगा। वैश्विक संस्था ने 23 नवंबर को लिखे पत्र के अपने निर्देश आईओए को दोहराए थे और कहा था कि वह 30 नवंबर तक आईओसी को अपना पक्ष रखे या निलंबन के लिए तैयार रहे। मल्होत्रा ने आईओसी के पत्र के जवाब में आईओए का रुख रखा था और कहा था कि उच्च न्यायालय के आदेश के कारण वह चुनाव खेल संहिता के तहत कराने को बाध्य हैं।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड