Image Loading 32nd anniv of bhopal gas tragedy 3700 deaths and warren anderson - Hindustan
सोमवार, 20 फरवरी, 2017 | 21:15 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • IPL-10: पुणे की कप्तानी से हटे धौनी तो 'ऐसे' छिड़ गया विवाद, पूरी खबर के लिए क्लिक करें
  • गाजियाबादः सीबीआई कोर्ट ने भोजपुर एनकाउंटर को ठहराया फर्जी, पूरी खबर के लिए...
  • इलाहाबाद के कोरांव में राहुल गांधी बोले, यूपी में रोजगार के अवसर बढ़ाए जाएंगे
  • उरई में बोले पीएम, बसपा का मतलब बहनजी संपत्ति पार्टी
  • अखिलेश यादव सरकार की समाजवादी पेंशन योजना को चुनौती देने वाली अपील पर सुनवाई से...
  • टूंडला रेल हासदा: दिल्ली-कानपुर शताब्दी एक्सप्रेस (12034) और लखनऊ-गोमती एक्सप्रेस...
  • आईपीएल 10: खिलाड़ियों की नीलामी शुरू, पंजाब ने इंग्लैंड के कैप्टन मॉर्गन को 2...
  • पानीदारों की बस्ती में न पान रहा, न पानी: बीच चुनाव में - शशि शेखर, क्लिक कर पढ़ें
  • आज के हिन्दुस्तान में पढ़ें मिंट के संपादक आर सुकुमार का विशेष लेख: इन्फोसिस...
  • मौसम अलर्ट: दिल्ली-एनसीआर, पटना और लखनऊ में बादल छाए रहने की संभावना, देहरादून...
  • आज का भविष्यफल: तुला राशि वालों को मित्रों का सहयोग मिलेगा, अन्य राशियों का हाल...
  • आज के हिन्दुस्तान का ई-पेपर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
  • हेल्थ टिप्स: इन 9 चीजों को खाने से चुटकियों में दूर होगी थकान, पूरी खबर पढ़ने के...
  • GOOD MORNING: कैश में दो लाख से अधिक के गहने खरीदने पर टैक्स लगेगा, शाहिद अफरीदी ने...

भोपाल गैस त्रासदी के 32 साल: 3787 मौतें, हज़ारों बीमार और 10 गुना कैंसर

भोपाल, लाइव हिन्दुस्तान टीम First Published:02-12-2016 07:22:41 AMLast Updated:02-12-2016 07:22:41 AM

भोपाल गैस त्रासदी के 32 साल...

2 दिसंबर की काली रात भारत और दुनिया के इतिहास में हजारों मौतों और बीमारियों के एक लंबे सिलसिले की शुरुआत के बतौर याद की जाती है। ऐसी रात जब भोपाल स्थित यूनियन कार्बाइड प्लांट से टनों मिथाइल आइसोसाइनेट(एमआईसी) गैस का रिसाव हुआ जिसने हज़ारों को मौत की नींद सुला दिया। दम घुटने और हार्ट अटैक से हजारों मौतें हुई और कितने ही लोग आज भी सांस की बीमारियों, अंधेपन और कैंसर से जूझ रहे हैं। 

क्या था मामला
2 दिसंबर 1984 को भोपाल में यूनियन कार्बाइड के कारखाने से जहरीली गैस का रिसाव हुआ था। दो-तीन दिसंबर 1984 की दरम्यानी रात गैस त्रासदी हुई। यूनियन कार्बाइड कारखाने के 610 नंबर के टैंक में खतरनाक मिथाइल आइसोसाइनाइट रसायन था। टैंक में पानी पहुंच गया। तापमान 200 डिग्री तक पहुंच गया। धमाके के साथ टैंक का सेफ्टी वाल्व उड़ गया। उस समय 42 टन जहरीली गैस का रिसाव हुआ था। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 3,787 की मौत हुई। कई एनजीओ का दावा है कि मौत का आंकड़ा 10 से 15 हजार के बीच था। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक ही गैस से करीब 5,58,125 लोग प्रभावित हुए थे। इनमें से करीब 4000 लोग ऐसे थे जो गैस के प्रभाव से परमानेंट डिसेबल हो गए थे जबकि 38,478 को सांस से जुड़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था। 


कैसे हुआ हादसा
असल में सरकार और NGO के बीच में हादसा होने की वजहों पर काफी मतभेद रहे हैं। गैर सरकारी संस्थाओं का आरोप है कि कंपनी घाटे में थी जिसकी वजह से उत्पादन पर जोर था और कई मशीनें पुरानी हो चुकी थीं। अगर कंपनी का प्रशासन जिम्मेदार और संवेदनशील होता, तो वह इस जहरीली गैस के सच को स्वीकार करते हुए हादसों की आशंका को भांपकर गंभीर और ठोस कदम उठाता लेकिन कई बार संकेत मिलने के बावजूद किसी ने कुछ नहीं किया। उस दिन संयंत्र में फैक्ट्री का सबसे लोकप्रिय कर्मचारी 32 वर्षीय अशरफ था। अशरफ ही मिथाइल आइसोसाइनाइट का सबसे पहला शिकार बना था। उसकी मौत के बाद भी किसी फैक्ट्री एडमिनिस्ट्रेशन के किसी आदमी ने इसे गंभीरता से नहीं लिया।

अगली स्लाइड में जानिए कैसे शुरू हुआ था सब...

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: 32nd anniv of bhopal gas tragedy 3700 deaths and warren anderson
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड