Image Loading हर्जाना नहीं मांग सकती विदेशी कंपनियां: वाहनवती - LiveHindustan.com
रविवार, 07 फरवरी, 2016 | 02:03 | IST
 |  Image Loading

हर्जाना नहीं मांग सकती विदेशी कंपनियां: वाहनवती

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:05-12-2012 11:02:02 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
हर्जाना नहीं मांग सकती विदेशी कंपनियां: वाहनवती

सिस्तेमा और टेलीनॉर जैसी विदेशी दूरसंचार कंपनियों को झटका देते हुए अटार्नी जनरल जी ई वाहनवती ने अपने पुराने रुख को दोहराया है कि ये कंपनियां शीर्ष अदालत द्वारा उनके 2जी लाइसेंस रद्द किए जाने के मामले में सरकार से क्षतिपूर्ति का दावा नहीं कर सकतीं।

समझा जाता है कि वाहनवती ने लिखा है कि वह अपने पुराने रुख पर पुनर्विचार करने में असमर्थ हैं। इस मामले जुड़े सूत्रों ने यह जानकारी दी। सिस्तेमा श्याम टेलीसर्विसेज, यूनिनॉर और लूप टेलीकॉम के विदेशी निवेशकों ने सरकार को अंतरराष्ट्रीय व्यापार समझौते के प्रावधानों के तहत नोटिस देते हुए क्षतिपूर्ति का दावा किया है, क्योंकि सरकार उनके निवेश को सुरक्षित रखने में विफल रही।

विदेश मंत्रालय और वाणिज्य मंत्रालय ने कहा था कि विदेशी कंपनियां द्विपक्षीय निवेश संरक्षण करार (बीपा) के तहत कानूनी कार्रवाई कर सकती हैं और सरकार से क्षतिपूर्ति का दावा कर सकती हैं। इसके बाद अटार्नी जनरल की राय ली गई।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
कैसा रहा साल 2015
क्रिकेट
आईपीएल नीलामी के स्टार रहे नेगी, वाटसन सबसे महंगे खिलाड़ी

आईपीएल नीलामी के स्टार रहे नेगी, वाटसन सबसे महंगे खिलाड़ी
ऑस्ट्रेलियाई हरफनमौला शेन वाटसन आईपीएल की फीकी नीलामी में 9.50 करोड़ रुपये में सबसे महंगे बिके लेकिन युवा हरफनमौला पवन नेगी सबसे महंगे भारतीय खिलाड़ी रहे जिन्हें 8.50 करोड़ रुपये में खरीदा गया।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड