class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डांस है मेरी फिटनेस का राज : अदिति

डांस है मेरी फिटनेस का राज : अदिति

अदिति, अपने बारे में कुछ बताइए?
मैं खुद को बहुत ही आम सी लड़की के रूप में देखती हूं, जो किसी से भी खुद को रिलेट कर लेती है। अपने परिवार के बहुत ही करीब हूं, बहुत छोटे-छोटे सपने देखती हूं और उन्हें पूरा करने की हर कोशिश करती हूं।

खुद को चुस्त-दुरुस्त रखने के लिए क्या करती हैं?
वैसे तो मेरा शरीर ही ऐसा है कि मुझे कुछ खास करने की जरूरत नहीं है, पर मेरे साथ डांस का मेरा पैशन भी जुड़ा हुआ है। फिर भी मैं हर रोज वॉकिंग और जॉगिंग करती हूं। वैसे मैं एक प्रशिक्षित शास्त्रीय नृत्यांगना भी हूं। मैं हर दिन उसका अभ्यास करती हूं। डांस मेरी आत्मा से जुड़ा हुआ है, जो मुझे सुकून भी देता है। इसके अलावा हफ्ते में चार दिन जिम जाती हूं।

और खान-पान का ध्यान कैसे रखती हैं?
मैं सब कुछ खाती हूं, लेकिन तैलीय और मसालेदार चीजों से खुद को दूर रखती हूं। कोशिश करती हूं कि जितनी भी कैलरी में लेती हूं, उसका इस्तेमाल हो जाए। ज्यादा से ज्यादा पानी पीती हूं। दिन की शुरुआत जूस से होती है। नाश्ते में ओटमील, अंडे और दूध लेती हूं। वैसे भी मेरे हिसाब से अगर दिन की शुरुआत पौष्टिक नाश्ते से होती है तो पूरा दिन अच्छा रहता है। लंच में चपाती, ब्राउन राइस, दाल और सब्जी लेती हूं। स्नैक्स में नट्स और ग्रीन टी लेती हूं, जबकि डिनर में सूप, राइस और फिश खाती हूं। इसके अलावा गर्मियों के मौसम में ढेर सारा पानी और नारियल पानी पीती हूं, ताकि शरीर में पानी की कमी न हो पाए।

मन की सेहत के लिए भी कुछ करती हैं?
मन को स्वस्थ रखने के लिए योग करती हूं, जो मेरे मन को शांत और एकाग्र करता है, साथ ही डांस करती हूं। मैं जब-जब डांस करती हूं तो ऐसा लगता है कि सारी दुनिया की खुशी मुझे हासिल हो गई है। मेरे मन को उत्साह और उल्लास से भर देता है मेरा डांस। मुझे किताबें पढ़ना भी अच्छा लगता है।

जब तनाव हो तो उससे मुक्ति के लिए क्या करती हैं?
इसके लिए भी मैं डांस का ही सहारा लेती हूं। वैसे मैं आपको बता दूं कि बहुत ज्यादा किसी भी बात का तनाव मैं नहीं लेती। कभी-कभी स्पा जाती हूं, मसाज लेती हूं, ताकि मेरा शरीर तनावमुक्त रहे। साथ ही शरीर को डीटॉक्स रखने की भी हमेशा कोशिश करती हूं। ये सारी चीजें मेरे शरीर को फिट और ऊर्जावान बनाए रखती हैं। 

हमेशा खुश रहने का आपका फंडा क्या है?
मुझे खुश रहना आता है। दरअसल खुशियों का कोई पैरामीटर नहीं होता। खुशी कभी भी कहीं भी छोटी सी बात में भी मिल जाती है। हम उसे बड़ी-बड़ी बातों में तलाशते हैं, इसलिए हम तनाव के शिकार बनते हैं। मैं छोटी-छोटी बातों का ख्याल रखती हूं और बाकी सब वक्त पर छोड देती हूं, इसलिए हमेशा खुश रहती हूं।

छुट्टी का दिन कैसे बिताती हैं?
छुट्टी का दिन मतलब आराम का दिन। आराम से उठती हूं। उस दिन किसी भी नियम का पालन नहीं होता। अपनी पसंद का नाश्ता और खाना बनाती हूं। फिर पूरे परिवार के साथ मिलकर खाती हूं। छुट्टी का दिन मेरे परिवार और दोस्तों के नाम होता है। उनके साथ समय बिताना, फिल्में देखना और शॉपिंग करना मुझे बहुत अच्छा लगता है।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:fitness formula of aditi rao hydari