class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सेप्टिक टैंक हादसे में हुई सिर्फ एक गवाही

गोविंदनगर की महाविद्या कालोनी फेस-टू में एक सीवेज टैंक के ढह जाने और उसमें एक बच्चे की मौत के मामले में अभी तक केवल पिता के बयान हुए हैं। डिप्टी कलक्टर वैभव शर्मा ने नगरपालिका और मथुरा-वृंदावन विकास प्राधिकरण को अपना जवाब दाखिल करने का दूसरा पत्र भेजा है। इससे पहले भी पत्र भेजा गया था, लेकिन इन दोनों विभागों की ओर से जवाब नहीं आया था।

विगत 20 अक्टूबर गोविंदनगर में महाविद्या फेस टू के पार्क में सीवेज टैंक पटाखे के धमाके से ढह गया था। उस समय कुछ बच्चे वहां खेल रहे थे, जो मलबे में दब गए। उनमें से 12 वर्षीय पार्थ पुत्र जितेंद्र उर्फ पप्पू अस्थाना निवासी महाविद्या कालोनी की मौत हो गई थी। इस मामले में थाना गोविंदनगर में नगरपालिका व एमवीडीए के अधिकारियों के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज करा दी गई थी। दूसरी ओर जिलाधिकारी नितिन बंसल ने डिप्टी कलक्टर वैभव शर्मा को इस हादसे की मजिस्ट्रीयल जांच सौंपी थी। जांचकर्ता ने हादसे से संबंधित सभी पक्षों से बातचीत व स्थलीय निरीक्षण कर साक्ष्य जुटाने की कार्रवाई की।

डिप्टी कलक्टर वैभव शर्मा ने नगरपालिका और एमवीडीए के अधिकारियों को अपना जवाब दाखिल करने के लिए पत्र भेजा। लेकिन दोनों विभागों की ओर से कोई जवाब नहीं आया। अभी तक केवल मृत बच्चे के पिता जितेंद्र अस्थाना के ही बयान हुए हैं। अब फिर से जांचकर्ता ने नगरपालिका और एमवीडीए को अपना पक्ष रखने के लिए पत्र भेजा है।

एमवीडीए ने नगरपालिका को किया था हस्तांतरण

1997 में 14.33 एकड़ भूमि वाली महाविद्या कालोनी फेस टू में सड़क, सीवर लाइन, टैंक पार्क, नालियां व नाले, जलापूर्ति, विद्युतीकरण और सेप्टिक टैंक के कार्य एमवीडीए ने नगरपालिका को हस्तांतरित किए थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Colony mahavidya septic tank accident occurred just a witness