class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बांकेबिहारी की भेंट में चढ़ीं पुराने नोटों की गडि्डयां

बांकेबिहारी की भेंट में चढ़ीं पुराने नोटों की गडि्डयां

नोटबंदी के बाद पुराने नोट भगवान की भेंट में चढ़ाए जा रहे हैं। दो महीने बाद खोली गईं बांके बिहारी मंदिर की गुल्लकों में भी पुराने नोट निकले थे, लेकिन तब पुराने नोट चलन में थे। दूसरे चरण में जब दोबारा गुल्लकें गुरुवार को खुलीं तो उनमें भी एक हजार और पांच सौ के नोटों की गडि्डयां निकलीं।

बांकेबिहारी मंदिर में गुरुवार दोपहर सवा दो बजे तीन अधिवक्ता पंकज चतुर्वेदी, राजीव माहेश्वरी, जयप्रकाश शर्मा की निगरानी में एक, दो, छह और सात नंबर की गुल्लकें खोली गईं। ये सभी गुल्लकें 15 दिन पूर्व खोली गई थीं। नोटों की गिनती और छंटनी में मंदिर के 46 कर्मचारियों के साथ बैंककर्मी भी लगे। इसमें दो हजार नोट 57, एक हजार के नोट 502, पांच सौ के नोट 412 और सौ के नोट 4925 निकले। चारों गुल्लकों में 15,13,988 रुपये निकले। करीब पौने पांच बजे तक चली गिनती के बाद मंदिर प्रबंधन ने बैंक में धनराशि जमा करा दी। वहीं सोने की गिन्नी, चांदी का कड़ा,चांदी के सिक्के और पायल को मालखाने में जमा कर दिया।

बांकेबिहारी मंदिर के प्रबंधक मुनीश कुमार ने बताया कि गुल्लक खुलने का दूसरा राउंड गुरुवार से शुरू हो गया है। शुक्रवार को भी गुल्लकें खोली जाएगी। उन्होंने भक्तों से अपील की है कि वह गुल्लकों में पुराने एक हजार और पांच सौ के नोट न डालें।

गुल्लकों में निकला सामान

-एक हजार के 502 नोट

-पांच सौ के 412 नोट

-अमेरिकन डॉलर एक

-अरब की दीनार सौ

-पॉण्ड बीस

-690नेपाली रुपये

-सोने की गिन्नी-चांदी के सिक्के

-चांदी की पायल

-चांदी का कड़ा

-दो हजार 57 नोट

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:15.13 lakh found in piggy bank of Bankebihari temple