Image Loading kisan pathshala is running on paper - LiveHindustan.com
रविवार, 25 सितम्बर, 2016 | 02:25 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • जम्मू में आतंकियों के 2 गाइड गिरफ्तार
  • केरल LIVE: आतंकवाद को एक्सपोर्ट कर रहा पाकिस्तान : PM मोदी
  • केरल LIVE: PM मोदी का पाक पर हमला, कहा- एक देश खून खराबा करने में लगा
  • केरल के कोझिकोड की रैली में पीएम मोदी ने मलयालम में शुरू किया भाषण
  • KANPUR TEST: तीसरे दिन का खेल खत्म, मुरली-पुजारा की नाबाद फिफ्टी, भारत-159/1
  • बिहार: पटना जिले के फतुहा में एएसआई आरआर चौधरी को बदमाशों ने गोली मारी, मौत
  • KANPUR TEST: केएल राहुल 38 रन बनाकर आउट, भारत-52/1
  • KANPUR TEST: न्यूजीलैंड की पारी 262 पर सिमटी, भारत को 56 रनों की बढ़त
  • इराक की राजधानी बगदाद में तीन आत्मघाती बम धमाके, 11 सुरक्षा कर्मियों की मौत: AP
  • कानपुर टेस्ट: न्यूजीलैंड का छठा विकेट गिरा, स्कोर-255/6

कागजों पर चल रही किसान पाठशाला

पटना। सविता First Published:23-09-2016 08:13:00 PMLast Updated:23-09-2016 11:17:17 PM

किसानों को खेत में ही कृषि की नई तकनीक की जानकारी के लिए शुरू की गई किसान पाठशाला कागजों पर चल रही है। इसके कारण किसान रोपनी से लेकर भंडारण के तौर-तरीके से अवगत नहीं हो पा रहे हैं। कृषि विशेषज्ञों के अनुसार रबी मौसम में पंचायत स्तर पर चार बार किसान पाठशाला आयोजित की जानी चाहिए थी, लेकिन पाठशाला का आयोजन मात्र दो बार ही हुआ है।

आत्मा परियोजना निदेशक कृष्णनंदन चक्रवती के अनुसार पंचायतों में तीन बार किसान पाठशाला आयोजित कर दी गई है। बामेती से राशि आवंटित नहीं होने के कारण पाठशाला आयोजित करने में परेशानी आयी है। विभागीय जानकारी के अनुसार किसान पाठशाला चलाने के लिए 13 लाख 55 हजार रुपये आवंटित किए गए हैं। एक किसान पाठशाला के लिए 19 हजार रुपये मिलते हैं।

बिक्रम के किसान नेता सत्येन्द्र शांडिल्य व नौबतपुर से आत्मा के पूर्व अध्यक्ष सच्चिदानंद शर्मा ने बताया कि अब तक एक भी किसान पाठशाला का आयोजन नहीं हुआ है। अब सिर्फ कटनी और भंडारण के लिए किसान पाठशाला आयोजित होनी बाकी है। ऐसे में किसान पाठशाला का क्या मतलब रह गया है। बिहटा के कंचनपुर पंचायत किसान भूषण सुधांशु सिंह ने बताया कि किसान पाठशाला से प्रायोगिक के साथ सिद्धांतिक अनुभव मिलता है।

क्या है किसान पाठशाला

किसान पाठशाला का आयोजन समूह बनाकर किया जाता है। किसान पाठशाला का आयोजन खेतों में ही किया जाता है। इसमें 25 किसान और एक संचालक होते हैं। किसान पाठशाला का छह चरणों में की जाती है। बीज प्रबंधन, बीज उपचार, उर्वरक प्रबंधन, खर-पतवार नियंत्रण, कटाई और मार्केटिंग पर किसान पाठशाला आयोजित की जाती है।

डीएम के आदेश के बावजूद अधिकारी नहीं जा रहे गांव में

अधिकारी चले खेत की ओर कार्यक्रम के तहत डीएम ने सभी किसान सलाहकार और कृषि समंवयक को हर हाल में पंचायत में रहकर किसानों की सहायता करने का आदेश दिया था। ऐसा नहीं करने वाले किसान सलाहकार और कृषि समंवयकों का टावर लोकेशन निकालने का आदेश दिया था। वैसे किसान सलाहकार और कृषि समंवयक जो पंचायत में नहीं रहते हैं। उनपर विभागीय कार्रवाई का आदेश दिया गया था। डीएम के आदेश का एक महीने से अधिक हो गया है। इसके बाद भी आज तक किसी भी किसान सलाहकार और कृषि समंवयक का टावर लोकेशन नहीं निकाला गया है। इस संबंध में जिला कृषि पदाधिकारी सुधीर कुमार ने बताया कि अब तक किसी के मोबाइल का टावर लोकेशन नहीं निकाला गया है।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: kisan pathshala is running on paper
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड