Image Loading Sikh Conclave: Years wishes are fulfilled: Dr. Dhalla - LiveHindustan.com
बुधवार, 28 सितम्बर, 2016 | 15:41 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • कैबिनेट का फैसला, रेलवे कर्मचारियों को मिलेगा 78 दिन का उत्पादकता बोनस: टीवी...
  • शहाबुद्दीन की जमानत रद्द करने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में कल भी सुनवाई जारी...
  • लोढ़ा पैनल ने सुप्रीम कोर्ट को कहा, बीसीसीआई हमारे सुझावों और दिशा निर्देशों का...
  • पाकिस्तानी कलाकारों फवाद, माहिरा और अली जफर के भारत छोड़ने पर बॉलीवुड सितारों...
  • टीम इंडिया में गंभीर की वापसी, भारत-न्यूजीलैंड टेस्ट के टिकट होंगे सस्ते। इसके...
  • मौसम अलर्ट: दिल्ली-NCR वालों को गर्मी से नहीं मिलेगी राहत। रांची, लखनऊ और देहरादून...
  • भविष्यफल: तुला राशि वालों को आज परिवार का भरपूर सहयोग मिलेगा, मन प्रसन्न रहेगा।...
  • हिन्दुस्तान सुविचार: जीवन के बुरे हादसे या असफलताओं को वरदान में बदलने की ताकत...
  • सार्क में हिस्सा नहीं लेंगे पीएम मोदी, गंभीर की दो साल बाद टीम इंडिया में वापसी,...
  • क्रिकेटर बालाजी 'रजनीकांत' के फैन हैं, आज बर्थडे है उनका। उनकी जिंदगी से जुड़े...

वर्षों की तमन्ना पूरी हुई : डॉ. ढाला

पटना सिटी। हिन्दुस्तान प्रतिनिधि First Published:23-09-2016 08:01:00 PMLast Updated:23-09-2016 11:16:55 PM

अंतरराष्ट्रीय सिख सम्मेलन में भाग लेने पटना साहिब आयीं कनाडा की पूर्व सांसद डॉ. रुबी ढाला ने शुक्रवार को दरवार साहिब में मत्था टेक कर गुरुघर का आशीष लिया। उन्होंने कहा कि गुरुनगरी बड़ी अद्भुत है। कई वर्षों से यहां आने की तमन्ना थी, जो आज पूरी हुई। सम्मेलन में आए सारे मेहमानों को गुरुघर का दर्शन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि शताब्दी समारोह के दौरान अपने अन्य मेहमानों के साथ दोबारा गुरु का आशीष लेन आएंगी। उन्होंने गुरुघर के आगे खड़े होकर सेल्फी ली और लंगर भी छका। सुरजीत सिंह बरनाला के पुत्र गगनदीप सिंह, कपूरथला के बाबा अवतार सिंह, पंजाब के सरदार हरचरण सिंह समेत अन्य मेहमानों ने भी गुरुघर में हाजिरी लगाई। अंतरराष्ट्रीय सिख सम्मेलन में शिरकत करने आए मेहमानों को गुरुघर पहुंचने पर ग्रंथी ने उन्हें सिरोपा भेंट किया। मेहमानों ने गुरुजी की जीवनी सुनी और ऐतिहासिक वस्तुओं का अवलोकन किया। सिख श्रद्धालुओं का कहना है कि गुरुजी की कृपा से शताब्दी समारोह का भव्य आयोजन होगा और इससे पूरे विश्व में बिहार का नाम रौशन होगा।धार्मिक क्षेत्र घोषित हो पटना साहिबपटना सिटी। हिन्दुस्तान प्रतिनिधिसदियों से धार्मिक, ऐतिहासिक व व्यवसायिक क्षेत्र के रुप में प्रसिद्ध रहा गुरु गोविंद सिंह की जन्मस्थली पटना साहिब को धार्मिक क्षेत्र घोषित करने की मांग जोर पकड़ने लगी है। विभिन्न संगठनों के द्वारा कई वर्षों से यह मांग की जाती रही है कि गुरुजी की जन्मस्थली, सिद्ध शक्तिपीठ समेत विभिन्न ऐतिहासिक धरोहरों को संजोए पटना साहिब को धार्मिक क्षेत्र घोषित किया जाए। साथ ही आसपास के इलाकों में मांस-मदिरा की बिक्री व सेवन पर रोक लगाई जाए। सूबे में पूर्ण शराबबंदी के बाद मदिरा की बिक्री तो बंद हो गई पर सरेआम मांस की दुकानें चल रही हैं। सेवादार समाज कल्याण समिति के अध्यक्ष सरदार त्रिलोक सिंह निषाद ने राज्य सरकार से पटना साहिब को धार्मिक क्षेत्र घोषित कर इसे पर्यटन स्थल के रुप में विकसीत करने की मांग की है। इधर श्रीदादाबाड़ी जैन मंदिर के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री को पत्र भेज कर पटना साहिब के दो किलोमीटर परिधि वाले क्षेत्र में मांस बेचने पर रोक लगाने की मांग की है। सचिव प्रदीप जैन, मीडिया प्रभारी राजेश चौरड़िया ने कहा कि पटना साहिब का प्रवेशद्वार नाला पर खुलेआम मांस- मछली की बिक्री होती है। गुरुजी के प्रकाशोत्सव पर लाखों श्रद्धालु इसी रास्ते से गुरुघर आएंगे। वहीं प्राचीन जल्ला महावीर मंदिर व दादाबाड़ी जैन मंदिर भी श्रद्धालु इसी रास्ते से आते हैं। इस इलाके को आध्यात्मिक क्षेत्र घोषित किया जाना चाहिए। पाटलिपुत्र विकास समिति के राजेश साह ने भी श्रद्धालुओं की भावना को देखते हुए इस धार्मिक नगरी में खुलेआम बिक रहे मांस पर प्रतिबंध लगाने की मांग रखी। श्रीश्याम सर्व सेवा के संरक्षक अमित कानोडिया ने धार्मिक स्थलों के पास सफाई का विशेष प्रबंध करने और इन स्थानों पर मांस-मछली बेचने पर रोक लगाने की मांग रखी।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: Sikh Conclave: Years wishes are fulfilled: Dr. Dhalla
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड